तीसरा विश्वयुद्ध हुआ तो भारत भी सुरक्षित नहीं  (पार्ट-1 )

(नॉर्थ कोरिया-अमेरिका विवाद: साउथ चाइना सी से संतोष भारतीय की ग्राउंड रिपोर्ट) उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच झगड़े को

Read more

बड़ी कठिन है न्‍याय की डगर

सब मानते हैं कि देर से मिला इंसा़फ भी नाइंसा़फी के बराबर होता है. इसके बावजूद हमारे देश में म़ुकदमे कई पीढि़यों तक चलते हैं. हालत यह है कि लोग अपने दादा और परदादा के म़ुकदमे अब तक झेल रहे हैं. इंसान खत्म हो जाता है, लेकिन म़ुकदमा बरक़रार रहता है. इसकी वजह से बेगुनाह लोग अपनी ज़िंदगी जेल की सला़खों के पीछे गुज़ार देते हैं. कई बार पूरी ज़िंदगी क़ैद में बिताने या मौत के बाद फैसला आता है कि वह व्यक्ति बेक़सूर है.

Read more

सुशासन का सच या फरेब

बिहार के चौक-चौराहों पर लगे सरकारी होर्डिंग में जिस तरह सुशासन का प्रचार किया जाता है, वह एनडीए सरकार की शाइनिंग इंडिया की याद दिलाता है. बिहार से निकलने वाले अ़खबार जिस तरह सुशासन की खबरों से पटे रहते हैं, उसे देखकर आज अगर गोएबल्स (हिटलर के एक मंत्री, जो प्रचार का काम संभालते थे) भी ज़िंदा होते तो एकबारगी शरमा जाते. ऐसा लिखने के पीछे तर्क है.

Read more

सेक्‍स, सीडी और खिलाड़ी

अभिषेक मनु सिंघवी, कांग्रेस के प्रवक्ता और सुप्रीम कोर्ट के वकील हैं. इससे भी बड़ा परिचय उनका यह है कि वह सांसद हैं. ऐसे-वैसे सांसद नहीं, बल्कि संसद की स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमैन हैं. वह देश में क़ानून बनाने की प्रक्रिया के एक महत्वपूर्ण और शक्तिशाली केंद्र हैं.

Read more

हर समस्या का निस्तारण न्यायालय में संभव नहीं

भारत में जैसे ही कोई मुद्दा उठता है, लोग उसे ज्वलंत की संज्ञा प्रदान कर देते हैं. भारतीय न्याय व्यवस्था क्या है, इस बात पर आराम से बैठकर धैर्यपूर्वक चर्चा होनी चाहिए. मैं लोगों और खासकर न्यायाधीशों से कहना चाहता हूं कि भारतीय न्यायपालिका किसी भी ऐसी बीमारी से ग्रस्त नहीं है, जिसे लाइलाज कहा जा सकता है.

Read more

दिल्‍ली का बाबूः अवज्ञा की सज़ा

हिमाचल प्रदेश में एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी मनीषा श्रीधर पर लगे अवज्ञा के आरोप का मुद्दा इन दिनों यहां के बाबुओं के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है. राज्य सरकार ने 1984 बैच की इस अधिकारी के खिला़फ जांच शुरू कर दी है.

Read more

दिल्‍ली का बाबूः बाबुओं के बचाव में शीला

केंद्र सरकार की मनमानी ने दिल्ली सरकार को परेशान कर दिया है. इसमें बाबुओं के तबादले से जुड़े मामले भी शामिल हैं. हाल में दिल्ली सरकार के चार बाबुओं के तबादले से तो ऐसा ही लगा. ये चारों बाबू का़फी महत्वपूर्ण पदों पर थे. इससे मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का़फी परेशान हो गईं.

Read more

अयोध्या निर्णय: गुनाह करो, ईनाम पाओ

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ बेंच ने अयोध्या मामले में 30 सितंबर 2010 को फैसला सुनाया. आशंकाओं के विपरीत उस दिन और उसके बाद देश में कहीं हिंसा नहीं हुई. इसका श्रेय आमजनों की परिपक्व सोच को जाता है. जहां तक इस निर्णय का सवाल है, यह तीनों पक्षकारों यानी रामलला विराजमान, निर्मोही अखाड़ा एवं सुन्नी व़क्फ बोर्ड के बीच संतुलन क़ायम करने की कवायद के अलावा कुछ नहीं है.

Read more

फिर बहेंगी खून की नदियां

नदियों की कोख से निकली ज़मीन पर मालिकाना हक़ जताने के लिए वैसे तो कोसी और फरकिया की धरती पर वर्षों से खून की होली खेली जाती रही है, लेकिन इस बार जिस अंदाज़ में नरसंहार की पृष्ठभूमि तैयार हो चुकी है, उससे ऐसी आशंका है कि बिहार के खगड़िया ज़िले में बीते वर्ष घटित अमौसी नरसंहार की घटना कहीं छोटी न पड़ जाए.

Read more