केरल बाढ़ : प्राकृतिक आपदा की भयावहता मानवनिर्मित होती है

गुजरात और महाराष्ट्र की सीमा से शुरू होकर महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल के बाद कन्याकुमारी तक जाने वाली

Read more

केरल बारिश: 4000 लोगों को बाहर निकाला गया, स्कूल, ऑफिस सब बंद

केरल के कोच्चि के इरनाकुलम जिले में शुक्रवार को बाढ़ का कहर देखने को मिला, दरअसल इडुक्की जलाशय के चौथे

Read more

श्रीनगर में झेलम उफान पर, 10 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

मानसून अपना असर दिखाने लगा है. देशभर के 10 राज्यों में मौसम विभाग ने शनिवार को भारी बारिश का अलर्ट

Read more

पूर्वोत्तर में बाढ़ से त्राहिमाम, 23 मरे, असम में 4.5 लाख लोग प्रभावित

पूर्वोत्तर में आई बाढ़ दिनों दिन विकराल होती जा रही है. बाढ़ का सबसे ज्यादा कुप्रभाव असम में देखने को

Read more

चम्पारण के लोगों के लिए प्रलयकारी साबित हुई भारी बारिश और उफनाई नदियां, बाढ़ ने मचाई तबाही

नेपाल के जलग्रहण क्षेत्रों में लगातार वर्षा होने के कारण पहाड़ी नदियों सहित बागमती, त्रिवेणी, कमला और नारायणी में एकाएक

Read more

बिहार बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए आमिर खान, दान किया 25 लाख रूपए

नई दिल्ली : बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान फिल्मों में अपनी एक्टिंग से जान डाल देते हैं. वैसे ही

Read more

क्या फिर टूटेगा कुसहा बांध

कुसहा की त्रासदी की पीड़ा लोग अभी तक भुला नहीं पाए हैं और एक नई त्रासदी की पृष्ठभूमि तैयार होने लगी है. यही कारण है कि लोगों के मुंह से अब यह बरबस निकलने लगा है कि क्या नेपाल में संविधान निर्माण को लेकर चल रहे आंदोलन की वजह से कुसहा जैसी बाढ़ की पुनरावृत्ति सचमुच हो सकती है.

Read more

बिहारः बाढ़ का क़हर, पीडि़त भगवान भरोसे

लगातार बारिश और नेपाल द्वारा पानी छोड़े जाने के कारण उत्तर बिहार के लोग बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं. शहरी इलाक़ों में बाढ़ की स्थिति भयावह नहीं दिख रही है, लेकिन मधुबनी, समस्तीपुर, खगड़िया, बेगूसराय, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, अररिया, भागलपुर, कटिहार, मुंगेर एवं पूर्णियां सहित कई ज़िले बाढ़ की चपेट में हैं.

Read more

उत्तर प्रदेश: हर तरफ पानी ही पानी

बाढ़ और पानी से शहरी जनता हलकान है, वहीं किसान परेशान. किसी के खेत पानी में डूब गए हैं तो किसी का घर-मकान और राशन-पानी बाढ़ लील गई. क़रीब 24 ज़िले बाढ़ से प्रभावित हैं. लोग छतों पर तिरपाल लगाकर, स्कूलों के बरामदों में, कुछ नहीं तो खुले में ही जीवनयापन कर रहे हैं.

Read more

डूबे तो किस्‍सा खत्‍म, बचे तो गम ही गमः बाढ़ में डूब गए प्रशासन के वादे

कोसी नदी के घटते-बढ़ते जलस्तर ने तटबंध के अंदर निर्वासित ग्रामीणों को अभी से तबाह करना शुरू कर दिया है, लेकिन प्रशासन एवं जल संसाधन विभाग का रवैया इस क़दर ढीला है कि जैसे उन्होंने ठान ली है कि जब तक नदी के विकराल रूप धरने और लोगों के डूब मरने की नौबत नहीं आती है, तब तक वे बचाव, राहत एवं सुरक्षा कार्य शुरू नहीं करेंगें.

Read more

सेल्‍युलाइट के जमाने में रंगमंच का जलवा

मनोरंजन के क्षेत्र में नए आविष्कारों के बावज़ूद कई इलाक़े ऐसे हैं, जहां आज भी परंपरागत ग्रामीण माध्यमों की प्रासंगिकता बरकरार है. सेल्युलाइड तथा थ्रीडी फिल्मों के इस दौर में भी रंगमंच को कला के पुजारियों ने अभी तक जिंदा रखा हुआ है. पटना के बाढ़ अनुमंडल में पंडारक और अचुआरा, इन दो गांवों में नाटकों का मंचन किसी त्योहार से कम उल्लासजनक नहीं होता.

Read more

अनाथ बच्चों का दर्द

बुलबुल अनाथ हो गया. कोसी ने उसका सबकुछ छीन लिया. पिछले साल जब देश कोसी की प्रलयंकारी बाढ़ के कारण फैली तबाही के गम में डूबा था, उस समय बुलबुल के अलावा अठारह और अभागे बच्चे सिर से मां बाप का साया उठ जाने का मातम मना रहे थे.

Read more