आखिर क्यों इस स्वतंत्रता दिवस पर प्लास्टिक के झंडे नहीं खरीद रहे दिल्ली वाले

आज तक हमेशा से ही स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस आने से कुछ समय पहले आपने ट्रैफिक सिग्नल और बाजारों

Read more

आज़ादी की गाथा को ब़खूबी बयां करती ये देशभक्ति फिल्में

बॉलीवुड स्टार्स को जब हम किसी सैनिक या आर्मी ऑफिसर्स का रोल प्ले करते देखते हैं, तो दिल में देशभक्ति

Read more

स्वतंत्रता दिवस के भाषण के लिए पीएम मोदी ने मांगा जनता से सुझाव

स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं. आने वाले 15 अगस्त को देश को मिली आजादी के 71

Read more

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इन मुद्दों पर बोल सकते हैं पीएम मोदी   

नई दिल्ली। बतौर प्रधानमंत्री, पीएम मोदी चौथी बार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लालकिले के प्राचीर से देश को संबोधित

Read more

फिल्‍मों में देशभक्ति

स्‍वतंत्रता दिवस नेशनल हॉलिडे यानी राष्ट्रीय अवकाश का दिन है. सुबह को झंडा फहराने के बाद यह दिन भी आम छुट्टियों की तरह मान लिया गया है. इस दिन परिवार के साथ फिल्में देखना एक अच्छा ऑप्शन बन गया है. हर साल स्वतंत्रता दिवस पर फिल्म रिलीज होती है. बॉलीवुड इस मौक़े को खूब भुनाता है. महंगी से महंगी, मनोरंजन की दृष्टि से अच्छी या औसत फिल्में इस दिन रिलीज होती हैं और कारोबार का फायदा निर्देशक उठा लेते हैं.

Read more

जहां डाल-डाल पर सोने की चिडि़या करती है बसेरा

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी… यानी जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है. जन्म स्थान या अपने देश को मातृभूमि कहा जाता है. भारत और नेपाल में भूमि को मां के रूप में माना जाता है. यूरोपीय देशों में मातृभूमि को पितृ भूमि कहते हैं. दुनिया के कई देशों में मातृ भूमि को गृह भूमि भी कहा जाता है. इंसान ही नहीं, पशु-पक्षियों और पशुओं को भी अपनी जगह से प्यार होता है, फिर इंसान की तो बात ही क्या है.

Read more

Jhanda uncha rahe hamara

jhanda uncha rahe hamara

Read more

Vande Mataram

Vande Mataram

Read more

महिला सरपंचों पर अत्‍याचार

बात स़िर्फ किसी महिला की प्रताड़ना, अपमान अथवा तिरस्कार की नहीं है. विचारणीय तथ्य यह है कि महिला सरपंच किसी पंचायत का प्रतिनिधित्व करती है, जो लोकतंत्र की पहली सीढ़ी है. किसी सरपंच का अपमान गांधी जी के उस सपने का अपमान है, जो उन्होंने पंचायती राज के ज़रिए देखा था.

Read more

विंध्य की अवैध खदानें बनीं मौत का कुआं

विंध्य क्षेत्र के आदिवासी ग़रीबी और बेरोज़गारी से बेहाल हैं, साथ ही उनकी संस्कृति भी ख़तरे में है. अनोखी लोकनृत्य कला करमा और झूमर के जरिए अपने फन का लोहा मनवा चुके इन आदिवासियों की संस्कृति मौत का कुआं बन चुकीं अवैध खदानों में दम तोड़ रही है.

Read more