सिख युवकों को भारत के खिलाफ हमले के लिए तैयार कर रही आईएसआई

मुस्लिम युवकों को जेहाद के लिए उकसाने वाले संगठनों को संरक्षण देने के बाद पाकिस्तान भारत के खिलाफ अब एक

Read more

गिरफ्तार हुआ भारत की खूफिया जानकारी ISI को देने वाला वायुसेना का ग्रुप कैप्टन

देश में लगातार आतंकवादी गतिविधियाँ होती रहती हैं जिनपर लगाम लगाने के लिए भारतीय सेना और भारतीय सरकार काफी मशक्कत

Read more

जानिए यूपी को अपने चंगुल में कैसे फंसा रहा है आईएसआई

उत्तर प्रदेश के तीन दर्जन से अधिक जिलों में आईएसआई का नेटवर्क फैला हुआ है. बसपा के शासनकाल में विधानसभा

Read more

विदेशी जमीन के जरिए भारत पर हमले की तैयारी में आईएसआई

भारत पर हमले के लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई रणनीतिक बदलाव की तरफ कदम बढ़ा रही है. आईएसआई अब पश्‍चिमी

Read more

कुछ पत्रकार देशविरोधी ताक़तों के हाथ में खेल रहे हैं

कुछ अखबार और कुछ लोग देश के खिलाफ साजिश करने वाली ताकतों के हाथों का खिलौना बने हुए हैं और

Read more

भारत और नेपाल की सेनाएं मिल कर निपटेंगी आतंकियों से : नेपाल सीमा पर सेना

बढ़ती आतंकी हरकतों को देखते हुए भारतीय सेना ने भारत-नेपाल के खुले सीमाक्षेत्र पर सेना तैनात करने का प्रस्ताव दिया

Read more

पठानकोट : आतंकी हमले का सच

नारको-पॉलिटिक्स और नारको-टेररिज्म ने पंजाब के सीमावर्ती इलाके को अपने कब्जे में ले लिया है. कुछ ही महीने पहले गुरदासपुर

Read more

नेपाल के पूर्व नरेश की जान खतरे में

माओवादी नेपाल राजवंश के अकेले वारिस पूर्व नरेश ज्ञानेंद्र वीर विक्रम शाह की यत्र-तत्र-सर्वत्र बिखरी पड़ी अथाह संपत्ति बटोरने की

Read more

जब तोप मुकाबिल हो : कलंकित हो रहा है पत्रकारिता का आदर्श

आज जब पत्रकारिता पैसे लेकर लोगों के हितों को साध रही है. जर्नलिज़्म ऑफ करेज का लेबल देकर जर्नलिज़्म ऑफ़

Read more

किसकी मिलीभगत से चल रहा है नकली नोट का खेल

आरबीआई के मुताबिक़, पिछले 6 सालों में ही क़रीब 76 करोड़ रुपये मूल्य के नक़ली नोट ज़ब्त किए गए हैं. ध्यान दीजिए, स़िर्फ ज़ब्त किए गए हैं. दूसरी ओर संसद की एक समिति की रिपोर्ट कहती है कि देश में क़रीब एक लाख 69 हज़ार करोड़ रुपये के नक़ली नोट बाज़ार में हैं. अब वास्तव में कितनी मात्रा में यह नक़ली नोट बाज़ार में इस्तेमाल किए जा रहे हैं, इसका कोई सही-सही आंकड़ा शायद ही किसी को पता हो.

Read more

पाकिस्तान : सरकार और सेना आमने-सामने

पाकिस्तान में सरकार और सेना के बीच विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है. हालांकि सरकार भी यह कोशिश कर रही है कि इस विवाद का ख़ुलासा न हो, इसलिए जैसे ही मीडिया में ख़बर आई कि सरकार सेना प्रमुख एवं आईएसआई प्रमुख को हटाना चाहती है तो प्रधानमंत्री गिलानी ने विरोध में अपना बयान जारी किया कि ऐसी अफवाह सरकार को अस्थिर करने के लिए फैलाई जा रही है.

Read more

यह पाकिस्तान की संप्रभुता पर हमला है

अमेरिका और पाकिस्तान के बीच फिर से तनाव पैदा हो गया है. हक्कानी नेटवर्क के साथ आईएसआई के रिश्तों को लेकर बनी खाई पूरी तरह पाटी भी नहीं जा सकी थी कि एक अन्य मुद्दे ने दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा दिया.

Read more

अमेरिका में आईएसआई का नेटवर्क : सेमिनार के ज़रिये कूटनीतिक युद्ध

कश्मीर प्रचारक ग़ुलाम नबी फाई की अमेरिका में गिरफ्तारी को लेकर कई सवाल खड़े हो गए हैं. फाई को अमेरिका ने इसलिए पकड़ा है, क्योंकि वह तथाकथित रूप से यह बताने में विफल रहा कि वह पाकिस्तन सरकार और उसकी खु़फ़िया एजेंसी आईएसआई के लिए काम कर रहा था. सवाल यह भी है कि भारतीय उदारवादी जानबूझकर या अनजाने में कहीं आईएसआई की यूजफुल इडियट्स यानी कठपुतली तो साबित नहीं हो रहे.

Read more

संभालिए, अभी कुछ बिगडा़ नहीं है

बहुत सारी चीजें अमेरिका में बनती हैं, अमेरिका में खुलती हैं, तब हमें पता चलता है कि हम किस तरह के जाल में कभी फंस चुके थे, इन दिनों फंस रहे हैं या आगे फंसने वाले हैं. हमारे देश की धुरंधर हस्तियां, जो लोगों की राय बनाती हैं, जिनमें जस्टिस राजेंद्र सच्चर, दिलीप पडगांवकर, उम्र के आखिरी पड़ाव पर खड़े प्रसिद्ध संपादक, लेखक एवं सोशल एक्टिविस्ट कुलदीप नैय्यर साहब और गौतम नवलखा शामिल हैं, जिन्होंने रूरल जर्नलिज्म और वैचारिक पत्रकारिता में नाम कमाया तथा इनके साथ बहुत सारे लोग एक साजिश में फंसे नजर आ रहे हैं, जिसका खुलासा अमेरिका में हुआ.

Read more

आईएसआई का उदारवादी नेटवर्क

कश्मीर के बारे में दुनिया के किसी भी व्यक्ति को अपनी राय रखने का अधिकार है, चाहे वह किसी भी देश का रहने वाला हो, लेकिन जब वह व्यक्ति अपनी राय रखने के लिए पैसे लेता है तो इस पर अ़फसोस होता है. दिलीप पडगांवकर, कुलदीप नैयर, जस्टिस राजेंद्र सच्चर और गौतम नौलखा भारत के वे लोग हैं, जिनका हर कोई न केवल सम्मान करता है, बल्कि उन्हें ओपेनियन मेकर भी कहा जाता है.

Read more

सरकार चुप क्यों है

26 नवंबर, 2008 की त्रासदी को मुंबई के लोग अभी भूल भी नहीं पाए थे कि 13 जुलाई, 2011 को फिर से दिल दहला देने वाली घटना घट गई. महाराष्ट्र में कांग्रेस की सरकार है, इसलिए कौन वहां की क़ानून व्यवस्था की स्थिति की आलोचना कर सकता है. बिना किसी सरकारी सहायता के मुंबई वालों को इस विपत्ति से उबरने में अपनी चिरपरिचित योग्यता का परिचय देना पड़ेगा.

Read more

चीन की छत्रछाया के निहितार्थ

दुनिया जानती है कि हर दृष्टिकोण से सर्वाधिक ताक़तवर स़िर्फ अमेरिका है, लेकिन बीच-बीच में चीन के उछलने से कई सवाल खड़े होते रहते हैं. ख़ासकर तब, जब वह पाकिस्तान जैसे देश के संरक्षण के लिए लाठी लेकर खड़ा दिखता है. हालांकि चीन को यह पता है कि पाकिस्तान यदि अमेरिका या भारत के विरुद्ध कुछ करना तो दूर की बात, कूटनीतिक रूप से ऐसा सोच भी ले तो ये दोनों देश उसकी ईंट से ईंट बजा देने की क्षमता रखते हैं.

Read more