श्रमिकों की जिंदगी से खिलवाड़

मध्य प्रदेश का कटनी ज़िला भारत के भौगोलिक केंद्र में स्थित होने के कारण बेशक़ीमती खनिज संपदा के प्रचुर भंडारण सहित जल संपदा की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. यही वजह है कि स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) द्वारा अपने इस्पात उद्योगों हेतु आवश्यक गुणवत्ता पूर्ण कच्चे माल के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले चूना पत्थर (लाईम स्टोन) की खदानें यहां के ग्राम कुटेश्वर में स्थापित की गई थीं.

Read more

मध्‍य प्रदेशः अवैध खनन और राजनीति का अटूट गठजोड़

मध्य प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से सत्ता पक्ष एवं विपक्ष की भीतरी और बाहरी राजनीति से जुड़ा घटनाचक्र एकाएक काफी तेजी से घूमने लगा है. भाजपा के सत्ता में रहते हुए कटनी एवं जबलपुर ज़िलों के अंतर्गत भूगर्भ में मौजूद बॉक्साइड, मार्बल, आयरन और अन्य विभिन्न बेशक़ीमती खनिज संपदा का बड़े पैमाने पर अवैध उत्खनन चल रहा है.

Read more

झारखंड: रेल परियोजनाओं की कछुआ चाल

खनिज संसाधनों के मामले में देश के सबसे धनी सूबे झारखंड में शायद ही ऐसी कोई योजना है, जो समय पर पूरी हुई हो. एक वर्ष के भीतर पूरी हो जाने वाली योजनाएं 3 से लेकर 5 साल तक खिंच जाती हैं. योजना के लिए प्राक्कलित राशि भी दोगुनी से तीन गुनी हो जाती है. राजनीतिक अस्थिरता, सुस्त एवं भ्रष्ट अधिकारी-कर्मचारी, असामाजिक तत्वों का हस्तक्षेप और शासन में इच्छाशक्ति का अभाव जैसे कारण इस समस्या के मूल में हैं.

Read more

भ्रष्‍टाचार के अंधेरे से मुक्ति कब मिलेगी?

जिस तरह तकनीकों के देश जापान में सर्वाधिक भूचाल आता है, उसी प्रकार खनिजों के राज्य झारखंड में सर्वाधिक राजनीतिक जलजला आता है. इसीलिए यह सूबा निरंतर सियासी अस्थिरता का दंश झेल रहा है. राज्य गठन के 10 साल के अंदर यह तीसरा राष्ट्रपति शासन है.

Read more

सरकारी संरक्षण में चल रहा है अवैध खनन

मध्य प्रदेश की खनिज सम्पदा पर लगातार डकैती डालने का सिलसिला जारी है. देश भर के खनिज मा़फिया से संबंधित व्यक्ति इन दिनों कटनी व जबलपुर क्षेत्र के खदान क्षेत्रों में सक्रिय हैं. यहा कायम किए गए एक आपराधिक तंत्र के भरोसे बिना रॉयल्टी चुकाये अवैध रूप से उत्खनन का सिलसिला जारी है

Read more

बुंदेलखंड के पत्‍थर खदान मजदूरों का दर्द

गगनचुंबी इमारतों एवं सड़कों की ख़ूबसूरती बढ़ाने के लिए पत्थर का सीना चाक करनेऔर नदी से बालू निकालने वाले मज़दूरों को दो जून की रोटी के बदले सिल्कोशिस नामक रोग मिल रहा है. विंध्याचल पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य स्थित बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश भाग के ललितपुर, झांसी, महोबा, हमीरपुर, बांदा एवं चित्रकूट आदि ज़िले पूरे भारत में पत्थरों के लिए प्रसिद्ध हैं.

Read more

पंचायत चुनाव की कठिन डगर

झारखंड के मुख्यमंत्री शिबू सोरेन 15 जून से पहले पंचायत चुनाव की घोषणा कर चुके हैं और उप मुख्यमंत्री रघुवर दास उनके सुर में सुर मिलाकर बरसात के पहले पंचायत चुनाव करा लेने का दावा कर रहे हैं. हाल में भूरिया आयोग के अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप सिंह भूरिया एक कार्यशाला में शिरकत करने रांची आए.

Read more

हीरे और अलेक्‍जेन्‍ड्राइट की तस्‍करी जारी

राजधानी से कुछ ही दूरी पर स्थित हीरे की खदान में पिछले लंबे समय से अवैध उत्खनन का काम धड़ल्ले से जारी है. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के पास खनिज विभाग का ज़िम्मा भी है, इसके बावजूद सुरक्षा तंत्र इस अवैध खुदाई को रोक पाने में असक्षम है.

Read more

अप्रवासी मजदूर बदहाली के शिकार

असंगठित क्षेत्र में कार्य कर रहे सैकड़ों अप्रवासी मज़दूरों की जान-माल की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी लेने के लिए कोई भी तैयार नहीं है. कटनी ज़िले में विभिन्न उद्योगों से जुड़े देश भर के हज़ारों मज़दूर केवल नियोक्ता के रहमोंकरम पर आश्रित हैं. ज़िला प्रशासन या किसी अन्य संस्था द्वारा इन मज़दूरों को सुरक्षा या संरक्षण देने के लिए कोई नियमावली नहीं बनाई गई है.

Read more

रेत माफिया के कारण घडि़यालों पर संकट

खनिज और रेत माफिया मध्य प्रदेश के एक और अभ्यारण्य को समाप्त करने जा रहा है. जैव विविधता की परिकल्पना मध्य प्रदेश में अलग-अलग माफियाओं के चलते इन दिनों संकट में है. विंध्य क्षेत्र की सबसे बड़ी नदियों में शामिल की गई सोन नदी के तट पर बना घड़ियाल अभ्यारण्य राज्य शासन की उपेक्षा और अनदेखी का शिकार बन चुका है.

Read more