साहित्य में गंगा-जमुनी तहज़ीब!

साहित्य में गंगा-जमुनी तहजीब के झंडाबरदारों ने इतने सालों से ये सवाल नहीं उठाया, उनकी चुप्पी भी सवालों के कठघरे

Read more

जंगल के बीच साहित्यिक विमर्श

विजयादशमी का दिन, जिम कॉर्बेट का विशाल जंगली इलाका और साहित्य पर मंथन करने जुटे करीब डेढ़ सौ लेखक-पत्रकार-कवि और

Read more

एक राजनेता का कवि मन

वरुण गांधी ने एक साक्षात्कार में कहा, मेरा अंतिम लक्ष्य स्थिरता पाना है. राजनीति और कविता पर चर्चा करते हुए

Read more

विवादित नहीं हुए पुरस्कार

एक अनुमान के मुताबिक, हिंदी में कहानी, कविता एवं उपन्यास आदि को मिलाकर तक़रीबन पचास छोटे-बड़े पुरस्कार दिए जाते हैं.

Read more

हाय हुसैन, हम न हुए!

छत्तीसगढ़ सरकार ने तीन दिनों का रायपुर साहित्य महोत्सव आयोजित किया था. यह एक सरकारी आयोजन था. इसमें हिंदी के

Read more

निरपेक्ष प्रगतिशीलता की दरकार

अभी हाल में साहित्य अकादमी ने विश्‍व कविता समारोह आयोजित किया था, जिसमें भारतीय भाषाओं के कवियों के साथ-साथ विश्‍व

Read more

संगीतकार के बहाने बनता इतिहास

यजब भी अंग्रेजी में कविता, कहानी, उपन्यास आलो-चना से इतर कोई अन्य गंभीर साहित्येत्तर किताब देखता हूं तो मेरे मन

Read more

लोक से दूर होती कविता

एक दिन दफ्तर के साथियों से कविता पर बात शुरू हुई. मेरे मन में सवाल बार-बार कौंध रहा था कि अब कोई दिनकर, बच्चन या श्याम नारायण पांडे जैसी कविताएं क्यों नहीं लिखता. आज जिस तरह की कविताएं लिखी जा रही हैं, वे स़िर्फ कुछ ख़ास लोगों की समझ में आती हैं और एक सीमित दायरे में ही उन्हें प्रचार-प्रसार और सम्मान मिलता है.

Read more