भारतीय व्‍यवस्‍था का काला सच

नीरा राडिया के टेप भारतीय व्यवस्था के उस पहलू को उजागर करते हैं, जो सत्ता सूत्र और भ्रष्ट तत्वों के बीच की साठगांठ पर आधारित है और देश के कॉरपोरेट एवं राजनीतिक तंत्र के बीच गोंद का काम करता है. जैसा कि स्कूल जाने वाला कोई सुकुमार बच्चा अच्छी तरह जानता है कि चीर-फाड़ का काम बड़ा ही मुश्किल होता है. कुछ बच्चे इससे बचने के लिए हरसंभव उपाय करते हैं तो कुछ बच्चे घबरा जाते हैं या डर जाते हैं.

Read more

पुलिस सुधार के वायदे पूरे नहीं हुए

मुंबई पर आतंकी हमले की घटना को एक साल बीत चुका है. इस हमले की वजह से ही हम जुल्लु यादव, हेमंत करकरे और कई दूसरे बेहतरीन पुलिस अधिकारियों के बारे में जान सके. यह वारदात हमारे राजनीतिक वर्ग के घटिया चरित्र को भी सामने लाई. साथ ही उनके उन सहयोगियों को भी, जो इस चौंकाने वाली घटना पर फिल्म बनाने की योजना बना रहे थे. उस व़क्त विभिन्न लोग पुलिस संगठन में बदलाव की मांग कर रहे थे, अब वे या तो अपना जोश खो चुके हैं या फिर उस व़क्त झूठी मांग कर रहे थे. एक सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी ने विस्तृत चर्चा छेड़ी कि करकरे को किसने मारा?

Read more