आज से तीन तलाक पर खत्म, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया। कोर्ट ने तीन तलाक को खत्म कर दिया। अपने

Read more

तीन तलाक़ के पक्ष में नहीं हैं मुस्लिम महिलाएं

इन दिनों मुसलमानों में तलाक़ की प्रक्रिया अदालत और जनता के बीच फिर से चर्चा का विषय बनी हुई है.

Read more

Nayab Hain Hum – Aamir Kidwai

Read more

पत्नी को पीटने की सज़ा

सऊदी अरब में अपनी पत्नी के साथ मारपीट करने के दोषी पाए गए एक व्यक्ति को अदालत ने क़ुरआन और पति-पत्नी के संबंधों पर आधारित दो अन्य इस्लामी किताबें पढ़ने का दंड दिया. बाद में उसकी एक परीक्षा ली जाएगी, जिसमें देखा जाएगा कि उसने किताबों से क्या सीखा.

Read more

शक का लाभ

ओसामा बिन लादेन का कहना था कि अमेरिका के खिला़फ उसके जिहाद को रोकने का एकमात्र रास्ता है कि अमेरिका के लोग इस्लाम कबूल कर लें. इसके अलावा कोई और रास्ता नहीं है. लादेन को यह विश्वास उसके क़ुरान पढ़ने से आया. उसने इतिहास से भी यह पाठ सीखा. उसका सोचना था कि अगर सोवियत संघ को अ़फग़ानिस्तान में विफल किया जा सकता है तो अमेरिका को क्यों नहीं हराया जा सकता है.

Read more

फिल्मों में शपथ

हुज़ूर, मैं पाक क़ुरआन या गीता पर हाथ रखकर क़सम खाता हूं कि जो कुछ कहूंगा सच कहूंगा, सच के अलावा कुछ नहीं कहूंगा, अदालतों में ऐसे संवाद केवल फिल्मों में ही देखे जाते हैं. लेकिन हक़ीक़त में कोई भी शख्स गीता या क़ुरआन की क़सम खाकर गवाही नहीं देता. यह सब खत्म हुए 170 साल हो चुके हैं, लेकिन इसके बावजूद फिल्मों में आज भी यह सब चल रहा है.

Read more

Taqi Ahamad Aabidi

Read more

Mahmood Shaam

Read more

Fatima Hasan

Read more

Ata ul Haq Qasmi

Read more

Malikzada Manzoor Ahmad

Read more

जिहाद से इत्तिहाद तक

जिहाद, एक ऐसा शब्द, जिसे हर अर्थ में ग़लत ही माना जाता है. और, यह 9/11 के हमले के बाद पश्चिमी देशों के लिए एक ख़ौ़फनाक शब्द बनकर रह गया है. पाकिस्तान, अ़फग़ानिस्तान एवं इराक जैसे मुस्लिम देश आज हर पल आतंक के साये में जी रहे हैं. आलम यह है कि इन देशों में अक्सर हिंसा बेकाबू हो जाती है और ख़ुद मुस्लिम ही आतंकियों के निशाने पर हैं.

Read more

नई विश्व व्यवस्था और बदलता नज़रिया

जब किसी वर्ष के साथ दशक का अंत होता हो तो एक स्तंभकार की ज़िम्मेदारियां का़फी बढ़ जाती हैं. इनमें अधिकांश एक स्मृति लेख की तरह उबाऊ होते हैं, लेकिन किसी के ज़ेहन में एक असामान्य सवाल आया कि पिछले दस वर्षों में किसी चीज़ के बारे में आपने अपना विचार बदला?

Read more