पूर्वी चम्पारण में खुलेगा लीची प्रशोधन केन्द्र

चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष के अवसर पर बिहार में कई कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं.  केन्द्र सरकार, बिहार सरकार, विभिन्न

Read more

किसान जींस भी पहन सकते हैं आंदोलन भी कर सकते हैं

आखिर वे कौन लोग हैं, जिन्हें किसान के बाइक पर चलने या जींस पहनने से आपत्ति है. जाहिर है, ऐसी

Read more

सरकार का लक्ष्य आम लोगों की भलाई होना चाहिए

पिछले दिनों पठानकोट हमला खबरों में था. इसमें परेशान करने वाली बात यह है कि भारतीय सुरक्षाबलों की तऱफ से

Read more

ललित मोदी प्रकरण : भाजपा के अंदर मचे शीतयुद्ध का नतीजा है

ललित मोदी प्रकरण से मोदी सरकार और भारतीय जनता पार्टी की छवि खराब हुई है. यह बात किसी से छिपी

Read more

पद्म अवॉर्ड को लेकर रामदेव की किरकिरी

किशोर उपाध्याय ने कहा कि अगर अगले तीस दिनों में बाबा रामदेव ने विदेशी बैंकों में जमा काला धन देश

Read more

खुद को विश्‍व योग गुरु घोषित करने की ल़डाई

21 जून के अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित होने के बाद से खुद को विश्‍व योग गुरु घोषित करने को लेकर

Read more

रामदेव को जेड सुरक्षा चर्चा का विषय बनी

लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के पक्ष में प्रचार करने का ईनाम सरकार द्वारा योगगुरु बाबा रामदेव को जेड सुरक्षा

Read more

देश के अंदर दबा पैसा कब वापस होगा

यह सवाल देश के तीन जाने-माने नामों से पूछने की इच्छा हो रही है. हालांकि मैं जानता हूं कि इनमें

Read more

रामदेव के दांव से खंडूड़ी चित्त

योग गुरु बाबा रामदेव की राजनीतिक ताकत ने उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री (मेजर जनरल रिटायर्ड) भुवन चंद्र खंडूड़ी के मंत्री बनने

Read more

गुजरात चुनाव सब की परीक्षा लेगा

गुजरात विधानसभा चुनाव किसके लिए फायदेमंद होगा और किसके लिए नहीं, यह तो आख़िरी तौर पर दिसंबर के आख़िरी हफ्ते में पता चलेगा, जब परिणाम आ जाएंगे. लेकिन परीक्षा किस-किस की है, इसका आकलन करना ज़रूरी है. गुजरात विधानसभा चुनाव में पहली परीक्षा श्रीमती सोनिया गांधी की है. कांग्रेस पार्टी में सोनिया गांधी के अलावा कोई ऐसा नेता नहीं है, जिसके जाने से भीड़ इकट्ठी हो सके. यहां तक कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सभा में भी सारे ख़र्चों और सारी कोशिशों के बावजूद लोगों की संख्या कुछ हज़ारों तक सीमित रहती है.

Read more

बिगड़े रिश्‍ते, बिगड़ी अर्थव्‍यवस्‍था

अब प्रणब मुखर्जी के दूसरे मंत्रियों और प्रधानमंत्री से रिश्ते की बात करें. वित्त मंत्री माना जाता है कि आम तौर पर कैबिनेट में दूसरे नंबर की पोजीशन रखता है. वित्त मंत्रालय इन दिनों मुख्य मंत्रालय (की मिनिस्ट्री) हो गया है, क्योंकि हर पहलू का महत्वपूर्ण पहलू वित्त होता है, इसलिए बिना वित्त के क्लीयरेंस के कोई भी फैसला हो ही नहीं सकता.

Read more

टीम अन्ना-रामदेव : मतभेद भी है, मनभेद भी है

भारतीय परंपरा के अनुसार खुशी बांटने के लिए साल में एक बार सालगिरह मनाई जाती है, वहीं दु:ख बांटने के लिए बरसी मनाई जाती है. 3 जून, 2012 को जंतर-मंतर पर बाबा रामदेव का एक दिन का अनशन हुआ और ठीक एक साल पहले 4-5 जून की मध्यरात्रि में रामलीला मैदान में आमरण अनशन पर बैठे रामदेव और उनके हज़ारों समर्थकों पर पुलिसिया डंडा चला था.

Read more

रामदेव मुस्लिमों के लिए लड़ेंगे

भ्रष्टाचार का मतलब केवल घोटालों से नहीं है. भ्रष्टाचार का मतलब लोगों के अधिकारों की प्राप्ति के मार्ग में बाधा उत्पन्न करना भी है. काले धन को देश में वापस लाने के मुद्दे पर सरकार से लड़ रहे बाबा रामदेव और जन लोकपाल लागू कराने के लिए संघर्ष कर रहे अन्ना हज़ारे के बीच एकता स्थापित हो गई. दोनों को यह समझ में आ गया कि उनका साझा शत्रु एक है और अगर देश को भ्रष्टाचार रूपी दानव के बढ़ते प्रभाव से मुक्त कराना है तो साथ आना ही पड़ेगा.

Read more

Election News Line Episode – 29

Read more

उत्तर प्रदेश : अन्ना और रामदेव, कांग्रेस के लिए ख़तरा

सरकार और राजनेता अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए किस तरह लोगों की छवि धूमिल करते हैं, इसकी ताजा मिसाल हैं समाजसेवी अन्ना हजारे और योग गुरु बाबा रामदेव. कुसूर यह है कि एक जनता को भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलाने के लिए सख्त क़ानून की वकालत कर रहा है और दूसरा विदेशों में जमा काला धन वापस मंगाने के लिए हाथ-पैर मार रहा है.

Read more

उत्तर प्रदेश: रामदेव की हुंकार

दिल्ली के रामलीला मैदान हादसे से उबरने के बाद बाबा रामदेव एक बार फिर हुंकार भरने लगे हैं. भारत स्वाभिमान यात्रा के दूसरे चरण में बाबा रामदेव का केंद्र के प्रति हमला और भी तेज हो गया है. बाबा की दूसरे दौर की यात्रा वीरांगना लक्ष्मीबाई की कर्मभूमि झांसी से शुरू हुई.

Read more

उत्तराखंड: बालकृष्ण की जालसाज़ी का भन्डाफोड़

बाबा रामदेव एंड कंपनी की जालसाज़ी का खुलासा होने से जनता में यह संदेश जा रहा है कि काले धन की वापसी और व्यवस्था परिवर्तन की बात करने वाले पतंजलि पीठ के खेवनहार रामदेव के सहयोगी बालकृष्ण खुद एक बड़े जालसाज़ हैं.

Read more

नव उदारवाद और भ्रष्टाचार विरोध की राजनीति

हम यह नहीं कहते कि पूर्व प्रचलित पदों, अवधारणाओं एवं तरीक़ों का मौजूदा संदर्भों में नया अर्थ और प्रयोग नहीं हो सकता, बल्कि वह होना चाहिए, लेकिन अपने स्वार्थवश या अपनी कमज़ोरियों पर पर्दा डालने के लिए इनका रूप बिगाड़ देना इनके अवधारणाओं को लांछित करने के साथ-साथ संघर्ष की परंपरा और संवैधानिक मूल्यों के प्रति द्रोह है.

Read more

नव उदारवाद की प्रयोगशाला में भ्रष्‍टाचार

एक दशक पहले यह खतरा पहचान में आने लगा था कि अगर नव उदारवादी नीतियों के मुक़ाबले में खड़े होने वाले जनांदोलनों का राजनीतिकरण और समन्वयीकरण नहीं हुआ तो नव उदारवाद के दलाल, चाहे वे नेता हों, नौकरशाह हों, बुद्धिजीवी हों, एनजीओबाज हों, धर्मगुरु हों, कलाकार हों या खिलाड़ी, विरोध के सारे प्रयास नाकाम कर देंगे. वही हो रहा है.

Read more

जन्‍मदिन पर विशेषः अन्‍ना और रामदेव वी पी सिंह से सीख लें

उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद तहसील की दो रियासतें थीं, डैया और मांडा. विश्वनाथ प्रताप सिंह का जन्म इसी डैया के राजघराने में 25 जून, 1931 को हुआ था. डैया के बगल की रियासत मांडा के राजा थे राजा बहादुर राम गोपाल सिंह. वह नि:संतान थे. उन्होंने वी पी सिंह को गोद ले लिया. 1955 में वी पी सिंह ने बाकायदा कांग्रेस की सदस्यता ली और सक्रिय राजनीति में आए.

Read more

पीछे हट गए रामदेव

जैसे-जैसे समय बीतता जा रहा है, योगगुरु बाबा रामदेव के दोस्त और दुश्मन खुलकर सामने आने लगे हैं. बाबा के खिला़फ हरिद्वार के संत समाज के कुछ संत, अखाड़ा परिषद के कुछ बड़े-बड़े धर्माचार्य दुश्मन बनकर खड़े हो गए हैं. कांग्रेस पार्टी से उनकी दुश्मनी अब गहराती जा रही है, वहीं भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दोस्ती रंग बिखेरने लगी है.

Read more

गांधी, हजारे और भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग

अन्ना हजारे दूसरे गांधी के रूप में उभर रहे हैं. हर अख़बार उनके स्तुतिगान से लबरेज है. लोकपाल बिल का मसौदा तैयार करने वाली समिति में सिविल सोसायटी के प्रतिनिधियों को शामिल करने की अन्ना की मांग यूपीए सरकार ने मंजूर कर ली.

Read more

रामदेव जी, आपका सत्याग्रह कैसा होगा

देश एक कन्फ्रंटेशन की ओर बढ़ रहा है. कन्फ्रंटेशन देश के हित में है या नहीं है, अभी यह नहीं कह सकते हैं, पर कन्फ्रंटेशन क्यों और किस तरह का होने वाला है, इसे थोड़ा समझने की कोशिश करनी चाहिए. भ्रष्टाचार इन दिनों देश में केंद्रीय विषय बना हुआ है और अन्ना हजारे, जिनकी वजह से देश में एक जागृति आई, देश भर में घूमने की योजना बना रहे हैं.

Read more

भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से जुड़े सवाल

बीते 27 अप्रैल को दिल्ली के वसंत कुंज इलाक़े में एक सभा थी. मौका था दक्षिण भारत के एक स्वामी जी के 81वें जन्मदिन का. मंच पर लालकृष्ण आडवाणी, अशोक सिंहल, प्रवीण तोगड़िया उमा भारती, गोविंदाचार्य और साध्वी ऋतंभरा मौजूद थे. यह दृश्य उस व़क्त की याद दिला रहा था, जब बाबरी मस्जिद विध्वंस से पहले साधु-संत और राजनेता मंच साझा कर रहे थे.

Read more