ड्रग वॉर की चपेट में आम आदमी

मैक्सिको की औद्योगिक राजधानी कहलाने वाला मोंटेरे शहर मस्ती में डूबा हुआ था. शहर में पैसे वालों की कमी नहीं है. लोग जुआघर में जुआ खेलने में मस्त थे. अचानक कुछ बंदूकधारी वहां घुस आए और ताबड़तोड़ गोलियां चलाने लगे. जुआघर में अफरातफरी मच गई. लोग इधर-उधर भागने लगे. चारों ओर चीख-पुकार मच गई. बंदूकधारियों ने जुआघर को आग के हवाले कर दिया.

Read more

अफीम से महकते खेत

अफग़ानिस्तान की वादियां ही अ़फीम के फूलों से नहीं महकतीं, अब तो भारत में भी ब़डे पैमाने पर अ़फीम की खेती हो रही है. केंद्रीय नारकोटिक्स ब्यूरो (सीबीएन) के मुताबिक़, देश में क़रीब दस लाख लोग अ़फीम की खेती से ज़ुडे हुए हैं. देश के विभिन्न राज्यों के 6900 गांवों के एक लाख 70 हज़ार परिवार अ़फीम की खेती कर रहे हैं. इन सभी को सरकार ने लाइसेंस दे रखा है.

Read more

उत्तर प्रदेश बना मूर्ति तस्‍करों का स्‍वर्ग

राजधानी लखनऊ में 22 जनवरी 2011 को अलीगंज पुलिस ने महात्मा बुद्ध की दुर्लभ मूर्ति की तस्करी करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ कर ढाई किलो वजनी मूर्ति बरामद करने में स़फलता पाई.

Read more

कांशीराम नगर ड्रग्‍स का चपेट में

एटा ज़िले के युवा नशे की गिरफ्त में हैं. एटा और कांशीराम नगर के शहरी और कस्बाई इलाक़ों में ही नहीं, बल्कि ग्रामीण इलाक़ों में भी ड्रग्स का प्रचलन इतना बढ़ गया है कि चहुंओर नशेड़ी झूमते नज़र आते हैं.

Read more

उत्तर प्रदेशः तस्‍करों के निशाने पर कछुए

भगवान विष्णु ने भले ही कच्छप अवतार लेकर पृथ्वी की रक्षा की हो, लेकिन पृथ्वी पर निवास करने वाले लोग अपने स्वार्थों के चलते कछुओं को बड़ी तेज़ी से खत्म करते जा रहे हैं. उत्तर प्रदेश में कछुओं पर संकट के बादल मड़रा रहे हैं.

Read more

उत्पादन को मिलेगा बढ़ावा

फलों के उत्पादन में ज़िले को अग्रणी बनाने के लिए मुख्यमंत्री बागवानी मिशन योजना के प्रति विभाग पूरी तरह चौकस है. विभाग का प्रयास है कि आम, लीची, केला आदि के उत्पादन के मामले में ज़िला स्वालंबी बने.

Read more

कब लगेगा गौ हत्‍या पर प्रतिबंध

भारत में गौ हत्या को लेकर कई आंदोलन हुए हैं और कई आज भी जारी हैं, लेकिन किसी में भी कोई ख़ास कामयाबी हासिल नहीं हो सकी. इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि उन्हें जनांदोलन का रूप नहीं दिया गया.

Read more

औषधीय पौधों की तस्‍करी

प्राकृतिक वन संपदाओं से संपन्न पूर्वोत्तर के राज्यों में वन क़ानून की ढिलाई और प्रशासनिक व्यवस्था दुरुस्त न होने के कारण वन औषधि भंडारों का चीन सहित अन्य पड़ोसी देश दोहन कर रहे हैं. असम, अरुणाचल, मेघालय एवं मिजोरम सहित क्षेत्र के अन्य राज्यों में एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह सक्रिय है, जो हर वर्ष 15 से 20 करोड़ रुपये मूल्य की औषधीय वनस्पतियों की तस्करी करता है.

Read more

भारत-बांग्‍लादेश सीमाः मवेशियों की तस्‍करी और जाली नोटों का धंधा

तस्करों के लिए बांग्लादेश जाकर मवेशियों को बेचना फायदे का सौदा बन गया है. वहां मवेशियों की ऊंची क़ीमत मिलती है. असम की बराक घाटी के रास्ते बांग्लादेश के भीतर बड़े पैमाने पर मवेशियों की तस्करी जारी है. सीमा सुरक्षाबल के सूत्रों का कहना है कि बांग्लादेश में भारत के मवेशियों की काफी मांग है. कालीगंज, काबूगंज, चिरागी और सीलटेक के बाज़ारों में नियमित रूप से मवेशियों की बिक्री की जाती है.

Read more

बेंत तस्करी से अधिकारी अंजान

बेंत का सोफा हो या कुर्सी, डायनिंग टेबल हो या टोकरी, अगर आपको ये सारी चीज़ें खरीदनी हैं तो इसके लिए महज़ छह से सात हज़ार रुपये खर्च करने होंगे और संपर्क करना होगा नेपाल के किसी कारीगर से. वजह, नेपाल के रानीगंज, रत्नगंज एवं त्रिवेणी आदि इलाक़ों में बेंत तो नहीं उपजता है, लेकिन बड़े पैमाने पर इसका कारखाना ज़रूर चलता है.

Read more

हीरे और अलेक्‍जेन्‍ड्राइट की तस्‍करी जारी

राजधानी से कुछ ही दूरी पर स्थित हीरे की खदान में पिछले लंबे समय से अवैध उत्खनन का काम धड़ल्ले से जारी है. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के पास खनिज विभाग का ज़िम्मा भी है, इसके बावजूद सुरक्षा तंत्र इस अवैध खुदाई को रोक पाने में असक्षम है.

Read more

जीवाश्‍मों की अवैध तस्‍करी

मध्य प्रदेश के धार ज़िले में यत्र-तत्र उपलब्ध साढ़े छह करोड़ वर्ष पुराने जुरासिक काल के जीवाश्मों की बड़े पैमाने पर तस्करी हो रही है. धार ज़िले में डायनासोर जीव के अंडे और कंकाल कई बार मिल चुके हैं. इस वजह से देश-विदेश के पुराजीव वैज्ञानिकों और जीवाश्म शोधकर्ताओं की इस क्षेत्र में रुचि बढ़ी है.

Read more

कोयले की तस्करी से 350 करोड़ की चपत

भिलाई इस्पात संयंत्र में काले हीरे की कालाबाज़ारी इस तरह चलती है कि प्रतिवर्ष अरबों रुपये का लेनदेन अधिकारियों, कर्मचारियों और पुलिस के साथ मिलकर खुलेआम कर लिया जाता है. इस धंधे में लगे हुए ठेकेदार कहने को तो कोयले की बुहारन यानी शेष बचा हुआ कोयला बटोरते हैं, पर इसी के भरोसे छत्तीसगढ़ में एक नया कोल मा़फिया लंबे समय से सक्रिय है.

Read more

महिला और बाल व्यापार आदिवासी बालिकाओं की तस्‍करी

मध्य प्रदेश के बालाघाट, छिन्दवाड़ा, मण्डला, डिण्डौरी आदि आदिवासी जनसंख्या बहुल ज़िलों में आए दिन आदिवासी बालिकाओं के अचानक ग़ायब हो जाने की खबरें अब सामान्य घटना हो गई हैं. पुलिस ज़्यादातर घटनाओं की रिपोर्ट दर्ज़ नहीं करती और मजबूरी में यदि रिपोर्ट दर्ज की जाती है तो गुमशुदगी के मद में रिपोर्ट दर्ज़ कर उसे काग़ज़ों में ही द़फन कर दिया जाता है.

Read more

हथियार तस्करी में बच्चों का इस्तेमाल

यह जानकर आपके माथे पर निश्चित तौर बल पड़ जाएंगे कि जिस उम्र में बच्चों को सलीके से चलना और बोलना नहीं आता, उस उम्र के बच्चों से बड़े पैमाने पर हथियारों की तस्करी कराई जा रही है. तस्करों ने बच्चों को बाकादा इस धंधे में सुरक्षित मोहरा बना लिया है. वे बच्चों को पेट भरने लायक पैसा देकर खुद मालामाल हो रहे हैं. उन मासूमों को यह भी पता नहीं होता कि वे जो कर रहे हैं, उसका अंजा’ क होगा. लेकिन उन्हें इतना ज़रूर पता है कि इस का’ के बदले में मिलने वाले पैसों से उन्हें और उनके घरवालों को भरपेट भोजन मिल सकता है.

Read more

अवैध उत्‍खनन : भूख के आगे जिंदगी हारी

कोयलांचल के तेतुलमारी एवं निरसा में पेट की आग शांत करने के लिए अवैध कोयला खनन में लगे तीन और मज़दूर काल के गाल में समा गए. इस तरह अकाल मौत के इस अंतहीन सिलसिले में कुछ और कड़ियां जुड़ गईं.

Read more

तस्करों के निशाने पर बेज़ुबान

उत्तर प्रदेश में इन दिनों वन्यजीव तस्करों की तूती बोल रही है. वन भूमि पर अवैध क़ब्ज़े किए जा रहे हैं. जंगल सिमट रहे हैं तो जानवर शहर की ओर निकल आने को बाध्य हैं. और, तस्कर यही चाहते हैं कि जानवर कब उनकी निगाह में आएं और कब उन्हें निशाना बनाया जाए.

Read more