चीन:  महिला ने स्कूल परिसर में घुसकर, 14 बच्चों पर किया चाकू से हमला

चीन के पश्चिमी चोंगकिंग शहर में छोटे बच्चे के स्कूल में घुसकर एक 39 वर्षिय महिला ने बच्चों पर ताबड़तोड़

Read more

पूर्व CM अखिलेश यादव की राह पर चल पड़े योगी आदित्यनाथ

सांकेतिक तस्वीर :  नई दिल्ली : वैसे तो देश के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी दिखावे के सख्त खिलाफ हैं और लगातार

Read more

जामिया से किडनैप किए गए छात्रों को मारकर गाज़ियाबाद में फेंका, आरोपी गिरफ्तार

छह दिन पहले अगवा हुए दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के दोनों छात्रों की लाश शनिवार को गाजियाबाद की

Read more

DU विवाद : गुरमेहर ने छोड़ा कैम्पेन, समर्थन में उतरे केजरीवाल-वाड्रा

नई दिल्ली, (विनीत सिंह) : दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में हुई हिंसा के बाद लगातार सोशल मीडिया कैंपेन चला

Read more

छात्र न हो परेशान, अब आपके पास है समाधान

नई दिल्ली: परीक्षा आते ही कोई भी छात्र परेशान हो ही जाता है। चाहे स्कूल में शुरुआती कक्षा की परीक्षा

Read more

अब अन्ना की नहीं, आपकी परीक्षा है

अन्ना हज़ारे और जनरल वी के सिंह ने बनारस में छात्रों की एक बड़ी सभा को संबोधित किया. मोटे अनुमान के हिसाब से 40 से 60 हज़ार के बीच छात्र वहां उपस्थित थे. छात्रों ने जिस तन्मयता एवं उत्साह से जनरल वी के सिंह और अन्ना हज़ारे को सुना, उसने कई संभावनाओं के दरवाज़े खोल दिए. पर सबसे पहले यह देखना होगा कि आख़िर इतनी बड़ी संख्या में छात्र अन्ना हज़ारे और वी के सिंह को सुनने के लिए क्यों इकट्ठा हुए, क्या छात्रों को विभिन्न विचारों को सुनने में मज़ा आता है, क्या वे नेताओं के भाषणों को मनोरंजन मानते हैं, क्या छात्रों में जनरल वी के सिंह और अन्ना हज़ारे को लेकर ग्लैमरस क्रेज़ दिखाई दे रहा है या फिर छात्र किसी नई खोज में हैं?

Read more

व्यवसायिक कदाचार निरोधी क़ानून की ज़रूरत

कुछ दिनों पहले की बात है, जब एक न्यूज़ चैनल पर एक रोचक, लेकिन हैरान करने वाली ख़बर देखने को मिली. लखनऊ में रहने वाली अलंकृत बारहवीं कक्षा की परीक्षा में शरीक हुई थी. बचपन से ही पढ़ाई में आगे रहने वाली अलंकृत दसवीं की बोर्ड परीक्षा में अपने स्कूल की टॉपर रही थी और एक बार फिर ऐसे ही रिज़ल्ट की उम्मीद कर रही थी,

Read more

दो करोड़ रुपये में दो किताबें : सर्वशिक्षा अभियान के नाम पर लूट

सर्वशिक्षा अभियान के अंतर्गत भारत सरकार से प्राप्त धनराशि का प्रदेश में किस प्रकार खुला दुरूपयोग हो रहा है, इसके लिए यही एक उदाहरण पर्याप्त है. यहां के स्कूलों में छात्र-छात्राओं के लिए प्रत्येक स्कूल पुस्तकालय को केवल दो-दो किताबें भेजने के लिए दो करोड़ रूपया खर्च कर दिया.

Read more

भाजपा में भूचाल

इस साल चुनावी अग्निपरीक्षा से गुजरने वाली भाजपा की तैयारियों पर ग्रहण लगने का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. किशनगंज में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की शाखा खोलने के मसले ने भाजपा में भूचाल ला दिया है. पटना की सड़कों पर जब इसका विरोध करने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्र उतरे तो पुलिस के डंडों ने यह संकेत दिया कि नीतीश सरकार अपने क़दम पीछे नहीं खींचेगी.

Read more

नशे की लत में डूबा बचपन

राष्ट्र का भविष्य कहे जाने वाले बच्चों में नशा़खोरी की लत इस तेज़ी से बढ़ रही है कि दस वर्ष की आयु में प्रवेश करते ही ज़्यादातर बच्चे विभिन्न प्रकार के नशीले और मादक पदार्थों का सेवन करने लगते हैं.

Read more

कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास बदइंतजामी का शिकार दो कमरों में सौ छात्राएं

आदिवासियों के कल्याण और उत्थान के कार्यक्रमों में सरकारी अमले की कितनी ज़्यादा रुचि है, इसका प्रमाण मंडला ज़िला मुख्यालय से 80 किलोमीटर दूर गांव सुखराम में कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास को देखने से मिल जाता है. मात्र दो कमरों वाले छात्रावास में 100 आदिवासी बच्चियों को ठूंस-ठूंसकर रखा गया है.

Read more

झूठ की बुनियाद पर भविष्य की पाठशाला

आदिवासियों के बीच शिक्षा के व्यवसायीकरण की उद्योगपतियों की कोशिश छत्तीसगढ़ में कामयाब होती जा रही है. पूंजीपति और व्यवसायी शिक्षा के सभी स्थापित मापदंडों को तोड़ते हुए पूरी तरह व्यवसायिक शक्ल देने में लगे हुए हैं. राज्य शासन इनके दबाव में शिक्षा की बुनियादी मान्यताओं को ठुकरा कर व्यवसायीकरण के इस कार्यक्रम में बराबर का सहभागी बन चुका है.

Read more

नाजुक मो़ड पर भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंध

इस बात में कोई संशय नहीं है कि इन दिनों आस्ट्रेलिया-भारत संबंध एक कठिन दौर से गुज़र रहे हैं. रंगभेद की यह परिस्थिति पहले भारतीय मूल के टैक्सी चालकों पर हमले, उसके बाद भारतीय छात्रों पर हमले और अब गुरुद्वारों को निशाना बनाने से और भी गंभीर हो चुकी है. हालांकि दोनों ही देशों ने अपनी तऱफ से पूरी कोशिश की कि इन परिस्थितियों का असर द्विपक्षीय रिश्तों पर न पड़े, लेकिन बंद दरवाज़ों के पीछे की सच्चाई प्रोत्साहित करने वाली नहीं है.

Read more