पेपर पर लिखा “पापा मैं कुंवारी मर रही हूं” और 14 साल की लड़की ने उठा लिया खौफनाक कदम

हरियाणा के पंचकुला में एक 14 साल की लड़की ने खुदखुशी कर ली. उसके पिता सेना में कर्नल है. लड़की

Read more

तो क्या मोक्ष प्राप्ति की चाह थी, बुराड़ी के 11 लोगों की आत्महत्या की वजह?

बुराड़ी के संतनगर में रविवार सुबह एक ही परिवार के 11 सदस्यों की संदिग्ध मौत की गुत्थी उलझती जा रही

Read more

महाराष्ट्र : कर्ज से परेशान किसान ने की पत्नी की हत्या और फिर दी अपनी जान

मुंबई : महाराष्ट्र में कर्ज से परेशान किसानों के खुदखुसी करने का मामला थमने का नाम नही ले रहा है।महाराष्ट्र

Read more

अंधराष्ट्रवाद से बढ़ रहा है लोकतंत्र के लिए ख़तरा

चाहे कोई भी विषय हो, देश का एक छोटा लेकिन ख़तरनाक तबक़ा फेसबुक का सहारा लेकर नफ़रत फैलाने का काम

Read more

ग्लैमर की चकाचौंध दुनिया का स्याह पक्ष : नहीं रही बालिका वधू

छोटे पर्दे की लोकप्रिय अभिनेत्री और टीवी सीरियल बालिका वधू में आनंदी का किरदार निभाने वाली प्रत्यूषा बनर्जी ने फांसी

Read more

रंगराजन समिति की सिफारिश किसान विरोधी

पिछले दिनों राजधानी दिल्ली में गन्ना उत्पादक किसानों ने संसद का घेराव किया. आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला, तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुल्तान अहमद भी खुलकर सामने आए. देश के अलग-अलग राज्यों से आए किसान जब संसद के बाहर आंदोलन कर रहे थे, उसी दिन संसद के भीतर माननीय सदस्य एफडीआई के मुद्दे पर बहस कर रहे थे.

Read more

मध्‍य प्रदेश: पुलिस बर्बरता के शिकार हुए किसान

भूमि अधिग्रहण के लिए सरकार भले ही एक मज़बूत क़ानून बनाने की बात कर रही हो, लेकिन सच्चाई इसके विपरीत है. यही वजह है कि देश की सभी राजनीतिक पार्टियां किसानों और मज़दूरों के हितों की अनदेखी करते हुए निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाने में जुटी हैं. बात चाहे कांग्रेस शासित महाराष्ट्र की हो या फिर भाजपा शासित मध्य प्रदेश की, हालात कमोबेश एक जैसी ही हैं.

Read more

रॉबर्ट वाड्रा को आरोपों का सामना करना चाहिए

रॉबर्ट वाड्रा ने जो किया, वह अनोखा नहीं है. जो भी बिजनेस में होते हैं, उनमें ज़्यादातर लोग ऐसे ही तरीक़े अपनाते हैं और अपनी संपत्ति बढ़ाते हैं. फर्क़ स़िर्फ इतना है कि उनका जुड़ाव सत्ता से नहीं होता, जबकि रॉबर्ट वाड्रा का रिश्ता सीधे सत्ता से है और सत्ता से भी इतना नज़दीक का कि वह वर्तमान सरकार को नियंत्रित करने वाली सर्वशक्तिमान महिला श्रीमती सोनिया गांधी के दामाद हैं और भारत के भावी प्रधानमंत्री, यदि बने तो, राहुल गांधी के बहनोई हैं.

Read more

शेखावटी- जैविक खेती : …और कारवां बनता जा रहा है

पंजाब में नहरों का जाल है. गुजरात और महाराष्ट्र विकसित राज्य की श्रेणी में हैं. बावजूद इसके यहां के किसानों को आत्महत्या करनी प़डती है. इसके मुक़ाबले राजस्थान का शेखावाटी एक कम विकसित क्षेत्र है. पानी की कमी और रेतीली ज़मीन होने के बाद भी यहां के किसानों को देखकर एक आम आदमी के मन में भी खेती का पेशा अपनाने की इच्छा जागृत होती है, तो इसके पीछे ज़रूर कोई न कोई ठोस वजह होगी. आखिर क्या है वह वजह, जानिए इस रिपोर्ट में:

Read more

कर्ज का कुचक्र और किसान

बीते 22 जुलाई को उत्तर प्रदेश के फैज़ाबाद जनपद की तहसील रुदौली के सिठौली गांव में ज़मीन नीलाम होने के डर के चलते किसान ठाकुर प्रसाद की मौत हो गई. ठाकुर प्रसाद का बेटा अशोक गांव के एक स्वयं सहायता समूह का सदस्य था. उसने समूह से कोई क़र्ज़ नहीं लिया था. समूह के जिन अन्य सदस्यों ने क़र्ज़ लिया था, उन्होंने अदायगी के बाद नो ड्यूज प्रमाणपत्र प्राप्त कर लिया था.

Read more

आत्‍महत्‍या की कीमत हम सब चुकाते हैं

वर्ष 2006 में मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री नवीन जिंदल ने संसद में एक मुद्दा उठाया कि भारतीय छात्रों द्वारा आत्महत्या की घटनाओं की वजह क्या है और सरकार किस तरह आत्महत्या के आंकड़े बढ़ने से रोक सकती है. इसके बाद संसद की तऱफ से कुछ विशेष क़ानून बनाए गए. सबसे पहले तो परीक्षाओं से जुड़ी हेल्पलाइन शुरू की गई, जो परीक्षा से पहले विद्यार्थियों को फोन पर साइकोलॉजिकल एडवाइस देती है.

Read more

जनता के धैर्य की परीक्षा मत लीजिए

सरकार ने एक झटके में पेट्रोल के दाम बढ़ा दिए. डीजल और रसोई गैस के दाम वैसे ही ज़्यादा हैं, लेकिन अभी और बढ़ सकते हैं. सरकार को मालूम था कि देश में इसका विरोध होगा, गुस्सा पैदा होगा, कुछ विपक्षी पार्टियां लकीर पीटने के लिए आंदोलन की घोषणा करेंगी और सिंबोलिक आंदोलन भी होंगे, इसके बावजूद उसने पेट्रोल के दाम 12 प्रतिशत से ज़्यादा बढ़ा दिए.

Read more

बिल्ली बनी मौत की वजह

जब किसी का कोई प्रिय शख्स मर जाता है तो मारे दु:ख के वह पागल सा हो जाता है, कभी-कभी उसकी मौत तक हो जाती है. इसी तरह कई लोग पालतू जानवरों से इतना प्यार करते हैं कि उनकी मौत के सदमे को सहन नहीं कर पाते. पिछले दिनों ब्रिटेन में अपनी पालतू बिल्ली की मौत से दु:खी एक व्यक्ति ने आत्महत्या कर ली.

Read more

पूर्वांचल के बुनकरों का दर्दः रिश्‍ता वोट से, विकास से नहीं

केंद्र की यूपीए सरकार से पूर्वांचल के लगभग ढ़ाई लाख बुनकरों को का़फी उम्मीदें थीं. बुनकरों के लिए करोड़ों रुपये के बजट का ऐलान सुनते ही बुनकरों को यक़ीन हो गया कि उनकी हालत अब सुधरने वाली है, लेकिन जब हक़ीक़त सामने आई तो वे खुद को ठगा हुआ महसूस करने लगे.

Read more

बुंदेलखंडः महापर्व में घरवाले ही शामिल नहीं हैं

उत्तर प्रदेश का बुंदेलखंड, यह नाम सुनते ही एक ऐसी तस्वीर सामने उभर कर आती है, जहां भूख है, सूखा है, मौत है और घरों में लटके ताले हैं. जिन घरों में ताले नहीं लगे हैं, वहां स़िर्फ बुज़ुर्ग है, जो दिल्ली या अन्य बड़े शहरों में पलायन कर चुके अपने बच्चों द्वारा भेजे गए पैसों की वजह से जिंदा है, न कि केंद्र या सूबे की सरकार के अनुदान से. एक आंकड़े के मुताबिक़, पिछले पांच सालों में बुंदेलखंड से ढाई लाख से ज़्यादा लोग पलायन कर चुके हैं.

Read more

क्यों नहीं बनते ये चुनावी मुद्दे

चुनाव आते ही सियासी दलों में इस बात की हलचल मच जाती है कि इस बार वे जनता के मुद्दों को ज़रूर देखेंगे, लेकिन चुनाव के परवान चढ़ते ही जनता के विकास के मुद्दे कहीं गुम हो जाते हैं. स़िर्फ जाति धर्म, पैसा, पावर का बोलबाला रह जाता है, लेकिन यूपी की जनता के असल मुद्दे इस बार भी चुनावी मुद्दे नहीं बन पाए. यूपी के तराई इलाक़ों और पूर्वांचल में हर साल बारिश तबाही लेकर आती है.

Read more

दो खुदकुशी और एक क़त्ल

नए साल की समाप्ति का रास्ता क्या है. हम शुरू करते हैं अन्ना हजारे के अनशन और जेल भरो आंदोलन की धमकी से, जिसके बारे में 27 दिसंबर की दोपहर के बाद पता चल गया था कि उनका यह आंदोलन मुंबई में असफल रहा. दिल्ली की बात कुछ और है. यह ऐसा शहर है, जहां राजनीति का प्रभाव है, शक्ति का केंद्र है, लेकिन मुंबई में ऐसा नहीं है.

Read more

जम्‍मू-कश्‍मीरः आत्‍महत्‍या की बढ़ती प्रवृत्ति

धरती का स्वर्ग कहलाने वाले कश्मीर को न जाने किसकी नज़र लग गई है. कुदरत के अनमोल उपहारों से सजी इस धरती की संस्कृति पर इतिहास को हमेशा गर्व रहा है. आधुनिक परिवेश में शिक्षा हासिल करने के बावजूद यहां के नौजवान कभी भी बड़े-बुजुर्गों के प्रति आदर और सम्मान के पाठ को नहीं भूले. यही कारण है कि उनकी छत्रछाया में जीवन की कठिन से कठिन डगर को भी वे आसानी से पार कर पाने में सक्षम रहे.

Read more

महाराष्‍ट्रः राजनाथ का विदर्भ दौरा सवालों के घेरे में

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह की विदर्भ यात्रा पर अब सवाल उठाए जा रहे हैं. उनकी इस यात्रा को कुछ संगठन व्यक्तिगत यात्रा तक क़रार दे रहे हैं और पार्टी की नीति पर भी प्रश्नचिन्ह लग रहे हैं. भाजपा नेताओं की औद्योगिक इकाइयों द्वारा भी किसानों की ज़मीन हड़पने का आरोप लगाया जा रहा है. इससे राजनाथ की विदर्भ यात्रा विफल होती लग रही है.

Read more

आपका और आपकी मुस्कराहट का शुक्रिया

अपने साथियों पर लिखना या टिप्पणी करना बहुत दु:खदायी होता है, क्योंकि हम इससे एक ऐसी परंपरा को जन्म देते हैं कि लोग आपके ऊपर भी लिखें. आप उन्हें आमंत्रित करते हैं. मैं यही करने जा रहा हूं. मैं अपने साथियों को आमंत्रित करने जा रहा हूं कि हमारे ऊपर जहां उन्हें कुछ ग़लत दिखाई दे, वे लिखें.

Read more

वादों का मारा बुंदेलखंड

बुंदेलखंड में चित्रकूट के घाट पर न तो संतों की भीड़ है और न चंदन घिसने के लिए तुलसीदास जी हैं. हां, बुंदेलखंड की व्यथा सुनने के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एवं कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ज़रूर बांदा आए. उन्होंने पानी की सुविधा के लिए दो सौ करोड़ रुपये देने का वादा करके आंसू पोंछने की कोशिश की है, लेकिन यहां की जनता के दु:ख-दर्द दूर होते नज़र नहीं आ रहे हैं.

Read more

विदर्भ के किसान परिवारों का मनोविज्ञान

विदर्भ के आत्महत्याग्रस्त परिवारों में परस्पर संबंध और रचनात्मक व्यवहार के स्तर पर का़फी गिरावट दर्ज की गई है. परिवार के सदस्यों के बीच पुराने मधुर संबंधों के तार उनके अवसादों की भेंट चढ़ चुके हैं.

Read more

महाराष्‍ट्र सरकार का कारनामाः अब प्यासे मरेंगे अमरावती के किसान

नागपुर से 150 किलोमीटर दूर अमरावती ज़िले का माजरी गांव बंजर है. राजस्थान के खेतों में यहां से ज़्यादा हरियाली है. गांव वाले बताते हैं कि यहां की खेती भगवान भरोसे है. वैसे अमरावती ज़िले के इस इलाक़े में अपर वर्धा डैम का पानी पहुंचता है, लेकिन माजरी जैसे कई गांव हैं, जहां नहर का पानी नहीं पहुंचता.

Read more

सरकार जीने का हक़ दे या फिर मौत

अरुणा शानबाग के बहाने देश में इच्छा मृत्यु के मुद्दे को लेकर बहस शुरू हो गई है, मगर क्या कभी सरकार ने यह सोचा है कि भ्रष्टाचार और प्रशासनिक कोताही के कारण कितने लोग नारकीय जीवन जीने पर मजबूर हैं. ये लोग किससे इच्छा मृत्यु की फरियाद करें.

Read more

आत्‍महत्‍या करने को मजबूर हो रहे किसान

कृषि ॠण माफी पैकेज-2008 के तहत किसानों को केंद्र की कांग्रेस सरकार द्वारा 60 हज़ार करोड़ रुपए पैकेज के उपयोग से संबंधित क्रियान्वयन के नीतियों का निर्धारण भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा न होकर जब नाबार्ड द्वारा किया गया तो हर किसान चौंक गया.

Read more

मंत्री जी, किसान पागल नहीं हैं

देश की किसी भी संवेदनशील राज्य सरकार के लिए यह कितनी शर्मनाक और हक़ीक़त से मुंह चुराने वाली स्थिति है कि वह प्रदेश में एक के बाद एक मरने वाले किसानों को पागल क़रार देने की हठधर्मिता पर उतर आए और किसानों की आत्महत्याओं को पापों का प्रतिफल बताए.

Read more

अनुसूचित जाति आयोग के निशाने पर राखी

राखी सावंत के रियलिटी शो राखी का इंसा़फ में न्याय की उम्मीद में आए एक युवक ने आत्महत्या कर ली थी, उसके बाद से राखी पर मुसीबतों का दौर खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा. प्रोग्राम के प्रसारण के दौरान राखी की टिप्पणी से व्यथित झांसी के एक युवक लक्ष्मण प्रसाद ने आत्महत्या कर ली थी.

Read more

टूट कर बिखर जाएगा पाकिस्‍तान

कुछ दिन पहले की बात है. ओकारा शहर के एक पुलिस थाने के सामने लोगों का हुजूम जमा हुआ. हुजूम में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं. थोड़ी देर बाद यह हुजूम थाने के अंदर पहुंचा और दो पुलिस वालों के ऊपर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी. थाने में मौजूद अन्य पुलिस वालों ने उन्हें मरने से तो बचा लिया, लेकिन पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.

Read more

जिहाद से इत्तिहाद तक

जिहाद, एक ऐसा शब्द, जिसे हर अर्थ में ग़लत ही माना जाता है. और, यह 9/11 के हमले के बाद पश्चिमी देशों के लिए एक ख़ौ़फनाक शब्द बनकर रह गया है. पाकिस्तान, अ़फग़ानिस्तान एवं इराक जैसे मुस्लिम देश आज हर पल आतंक के साये में जी रहे हैं. आलम यह है कि इन देशों में अक्सर हिंसा बेकाबू हो जाती है और ख़ुद मुस्लिम ही आतंकियों के निशाने पर हैं.

Read more