अब होगा इनके काले धन का ख़ुलासा

स्विट्जरलैंड सरकार भारत की दो कंपनियों और तीन व्यक्तियों से सम्बंधित आर्थिक जानकारियां भारतीय एजेंसियों के साथ साझा करने को

Read more

स्विस बैंकों में जमा भारतीयों के पैसों में 50 फीसदी की उछाल, काला धन नहीं तो और क्या है!

अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद स्विट्‌जरलैंड सरकार ने कालेधन पर कई देशों के साथ सूचना के स्वत: विनिमय (ऑटोमैटिक एक्सचेंज ऑ़फ

Read more

आरबीआई के मज़बूत होने से ही सुधरेगी अर्थव्यवस्था

राहुल बजाज एकमात्र उद्योगपति हैं, जिन्होंने कहा है कि यह सरकार क्या चाहती है? अगर सरकार चाहती है कि हिन्दुस्तानी

Read more

विदेशी मीडिया ने क्यों अनदेखा कर दिया पीएम मोदी का भाषण?

स्विट्जरलैंड के दावोस में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उद्घाटन भाषण को भारतीय मीडिया ने प्रमुखता से दिखाया है.

Read more

इस पेड़ में पत्तियों की जगह उगता है ऐसा कुछ, जानकार उड़ जाएंगे आपके होश

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : दुनियाभर के अलग-अलग प्रांतो में हजारों किस्म के पेड़ों की प्रजातियां पाई जाती हैं.

Read more

टेनिस : जोकोविक और सेरेना का दबदबा

विश्व वरीयता प्राप्त सर्बिया के टेनिस स्टार नोवाक जोकोविक और दिग्गज अमेरिकी महिला टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्स ने 2015 में

Read more

बच गया स्विट्ज़रलैंड

स्विट्‌ज़रलैंड फुटबॉल के सिर से निलंबन की तलवार हट गई है. फीफा ने कहा है कि वह दिसंबर के अपने फैसले से उलट स्विट्‌ज़रलैंड को संस्था की सदस्यता से निलंबित नहीं करेगा.

Read more

फेडरर का जलवा

रोजर फेडरर का जलवा बढ़ती उम्र में भी क़ायम है. पांच बार के चैंपियन स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने फ्रांस के विल्फ्रेंड सोंगा के ख़िला़फ जीत की हैट्रिक बना ली है. इसके अलावा रिकॉर्ड छठी बार एटीपी टूर फाइनल का खिताब अपने नाम कर लिया.

Read more

स्पीड का नया दावा

स्विटज़रलैंड में यूरोपीय परमाणु अनुसंधान केंद्र (सर्न) और इटली के वैज्ञानिकों ने घोषणा की है कि उन्हें ऐसे पार्टिकल मिले हैं जो प्रकाश की गति से तेज चलते हैं. वैज्ञानिक ख़ुद भी चकित हुए. पिछले दिनों वैज्ञानिकों ने घोषणा की कि उन्हें न्यूट्रिनो नामक पार्टिकल मिले हैं, जो प्रकाश की गति से भी तेज चलते हैं.

Read more

भ्रष्टाचार : सम्प्रभुता पर हमला

सामान्यत: भ्रष्टाचार को एक व्यक्ति के अपराध के रूप में देखा जाता है. इस भ्रष्टाचार से निपटने के लिए कई एजेंसियां भी बनाई गईं. मसलन, हर एक विभाग में विजिलेंस डिपार्टमेंट, केंद्रीय सतर्कता आयोग, केंद्रीय जांच ब्यूरो और उनके समकक्ष विभाग, जो दोषी लोगों के खिला़फ कार्रवाई करते हैं, लेकिन सबसे ब़डा सवाल यहां यह है कि आ़खिर जब कोई मामला सामने आता है तभी इस प्रकार की सक्रियता क्यों दिखाई देती है?

Read more

अल्लाह शब्द पर किसी का एकाधिकार नहीं

मलेशिया एक बार फिर से ग़लत कारण से अंतरराष्ट्रीय ख़बर की सुर्ख़ियों में है. पिछले दो सप्ताह के दौरान असामाजिक तत्वों ने पूजा के दस स्थलों को अपना निशाना बनाया है. इन स्थलों में ईसाइयों के गिरिजाघर और सिखों के गुरुद्वारे शामिल हैं. बहरहाल इस हमले में वहां कोई हताहत नहीं हुआ और संपत्तियों को जो नुक़सान पहुंचा उसकी क्षतिपूर्ति की जा सकती है

Read more