Chauthi Duniya

Now Reading:
चमत्‍कार को नमस्कार

कहते हैं कि चमत्कार को नमस्कार. फिर अगर बात भारत की हो तो फिर चमत्कार होना आम बात है. ऐसा आपने अक्सर फिल्मों में ही देखा होगा कि किसी व्यक्ति को मरा समझ कर नदी में बहा दिया जाता है और कई साल बाद वह वापस घर लौट आता है. एक ऐसा ही मामला असल में उत्तर प्रदेश के बिजनौर जनपद में सामने आया है. बिजनौर निवासी डालचंद्र की मौत लगभग 12 साल पूर्व हो गई थी, मगर पिछले दिनों वह अचानक अपने घर आ गया. मरे हुए व्यक्ति की 12 साल बाद अचानक घर वापसी की खबर पूरे गांव में फैल गई. डालचंद्र के परिवारीजनों की खुशी का ठिकाना नहीं था. दूसरी तऱफ पूरा गांव उसे देखने के लिए घर के बाहर एकत्र हो गया. डालचंद्र जैसे ही घर पहुंचा, घर वाले आश्चर्यचकित होकर उसे देखने लगे. डालचंद्र के साथ एक सपेरा भी था, जिसके साथ वह 12 साल तक रहा. घरवालों के अनुसार, डालचंद्र की मौत 9 जून, 1999 को हो गई थी. उसे खेत में काम करने के दौरान एक सांप ने काट लिया था. उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. गांव की परंपरा थी कि सांप काटने से जिसकी मौत हो, उसे न जलाया जाए और न द़फनाया जाए, बल्कि पानी में बहा दिया जाए. परंपरानुसार डालचंद्र को भी नदी में बहा दिया गया. डालचंद्र के साथ आए सपेरे रमेश ने बताया कि वह उसे नदी में बहता मिला था. रमेश ने बताया कि उसे लगा कि वह उसका इलाज अपनी जड़ी-बूटियों से कर सकता है, इसलिए वह डालचंद्र को अपने घर ले गया. सपेरे रमेश की मानें तो कुछ महीने बाद ही डालचंद्र की सांसें वापस आ गईं, मगर उसे कुछ याद नहीं रहा. भीख मांगते-मांगते जब वह पिछले दिनों अपने गांव के समीप पहुंचा तो उसे सभी बातें याद आ गईं और वह घर पहुंच गया. जब डालचंद्र को सांप ने काटा था, तब उसकी उम्र 20 साल थी और अब वह 32 साल का है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.