Now Reading:
अगर आपका फोन खो जाए, तो अपनाएं ये तरीके

SSPआज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में अगर आपका फोन खो जाये तो आप काफी परेशान हो जायेंगे, क्योंकि इसके बाद न तो आपको केवल दूसरा फोन खरीदने का झंझट आ जाता है, बल्कि फोन के साथ आपके काफी सारे महत्वपूर्ण दस्तावेज और कुछ निजी तस्वीरें, फोन नंबर, एड्रेस, वीडियो, फ़ोन डाटा जो उसमें स्टोर होता है. यह सब दूसरे व्यक्ति के हाथ में चला जाता है और आपसे जुड़ी महत्वपूर्ण सूचनाओं और तस्वीरों का दुरूपयोग कर सकता है. अगर आप थोड़ी से सावधानी बरतें तो आज की मॉडर्न टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर आप ऐसी स्थिति में अपने डाटा गलत हाथों जाने और उसका दुरूपयोग होने से बचा सकते हैं.

आपकी मदद के लिए कुछ जानकारियां
आपको अपने फोन के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए, जिससे आपको अपना खोया मोबाइल पाने में आसानी हो. इसलिए आपको आपके मोबाइल का आईएमईआई नंबर की जानकारी हो. अगर आपके पास आईएमईआई नंबर की जानकारी नहीं है, तो इसके लिए आप अपने मोबाइल पर टाइप करें *#06#, यह नंबर टाइप करते ही आपकी स्क्रीन पर आईएमईआई नंबर(International Mobile Equipment Identity) आ जाएगा, जिसे आप हमेशा के लिए लिखकर सुरक्षित रख लें. अगर आपका मोबाइल चोरी होता है, तो आईएमईआई नंबर के द्वारा चोरी हुए मोबाइल की जानकारी आसानी से पाई जा सकती है. आप हमेशा अपने फोन को स्क्रीन पैटर्न या पासवर्ड एनेबल लॉक करें, फ़ोन खो जाने पर फ़ोन को वापस खोजने में तो यह कोई मदद नहीं करेगा पर फोन के खो जाने पर स्क्रीन लॉक होने की वजह से कोई आपकी निजी जानकारियों को आसानी से एक्सेस नहीं कर सकता है.
एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम
ऐंड्रॉयड डिवाइस मैनेजर गूगल की ऐसी सर्विस है, जिसके जरिए आप अपना ऐंड्रॉयड फोन या टैबलेट कहीं रखकर भूल गए हैं, या आपका फ़ोन खो गया हो तो इसके माध्यम से आपके फोन को आसानी से ट्रैक किया जा सकता है. सबसे पहले आप अपने मोबाइल की सेटिंग में जाकर लोकेशन ऑप्शन में जाकर इसे इनेबल कर दे और आप इससे हमेशा इनेबल मोड पर ही रखें फिर आप गूगल के ओर से दी जा रही सर्विस एंड्रॉयड डिवाइस मैनेजर के माध्यम से अपने खोए हुए फोन को ट्रैक कर सकते हैं. इसके लिए आप गूगल में एंड्रायड डिवाइस मैनेजर लिखकर सर्च करे या यह लिंक डायरेक्ट यूआरएल में लिखे https://www.google.com/android/devicemanager और फिर अपने उसी जीमेल के ईमेल एड्रेस से लॉगिन करें जिसका प्रयोग आप प्ले स्टोर पर करते हैं. लॉगिन करते ही आपको आपके फ़ोन डिवाइस दिखेगी, जिसमें तीन ऑप्शन दिखेंगे. पहला, रिंग योर डिवाइस इसका प्रयोग आप अपने साइलेंट पर रखे फ़ोन को खोजने के लिए भी कर सकते हैं, यदि आपने अपना फ़ोन साइलेंट मोड में भी रखा होगा, तो भी आप इस ऑप्शन का प्रयोग करेंगे, तो फुल वॉल्यूम में रिंग टोन बजेगी. दूसरा, यदि आपका फ़ोन कहीं खो गया है, तो ये गूगल मैप के माध्यम से यह बताएगा कि आपका फ़ोन अभी किस लोकेशन में है. साथ ही यहां पर ऐसे भी ऑप्शन उपलब्ध हैं, जिनके माध्यम से आप अपने खोये हुए फ़ोन को आप अपने कंप्यूटर के माध्यम से पासवर्ड लॉक कर सकते हैं, इसके बाद फोन नए पासवर्ड दर्ज करने के बाद ही दोबारा ऑन होगा. आपको एक ऑप्शन यह भी मिलेगा कि आप अपने फ़ोन में मौजूद जरुरी और निजी सामग्री और जानकारी को डिलीट भी कर सकते हैं या परमानेंटली लॉक कर सकते हैं.
आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम
आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम में भी एक ऐप का इस्तेमाल करके यूजर्स अपने फोन की ट्रैकिंग और लॉकिंग की सेटिंग्स बदल सकते हैं. Find My iPhone (iOS) नाम का यह ऐप एप्पल आईट्यून स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है. इस ऐप का इस्तेमाल करने के लिए आपके फोन में आईओएस 5 या उससे ऊपर का ऑपरेटिंग सिस्टम होना चाहिए. इसके साथ ही ऐप का इस्तेमाल करने के लिए एप्पल की icloud सर्विस का इस्तेमाल करना भी जरूरी होगा. यह सर्विस www.iCloud.com से डाउनलोड की जा सकती है. इस सर्विस को आईफोन में डाउनलोड करने के बाद अपने फोन से एप्पल आईडी बनानी होगी. इसके बाद जब भी आपका फोन खो हो जाए या चोरी हो जाए तो वापस एप्पल की icloud सर्विस से लॉग इन होते ही Find my iPhone पर क्लिक करना होगा. ऐसा करते ही वेबसाइट आपके फोन की लोकेशन ट्रेस करने की कोशिश करेगी और इस सर्विस की मदद से खोए हुए अपने फोन का सभी डाटा डिलीट किया जा सकता है.
विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम
विंडोज फोन में मौजूद एंटी थेफ्ट फीचर को भी फाइंड माई फोन कहा जाता है इस फीचर को ऑन करने के लिए आपको www.windowsphone.com पर जाकर साइन इन करना होगा. साइन इन करने के लिए उसी विंडोज लाइव आईडी का इस्तेमाल करना होगा, जिसके जरिए फोन में लॉगइन किया गया था. फोन में ब्राउजर साइन इन करते ही फोन की लोकेशन गूगल मैप्स के जरिए डिस्प्ले करने लगेगा, ऐसे में खोए हुए फोन को ट्रैक करना ज्यादा आसान हो जाएगा, फोन की लोकेशन का प्रिंटआउट भी निकाला जा सकता है. ब्राउजर की मदद से आप अपने विंडोज फोन को रिंगिंग मोड पर भी डाल सकते हैं. अगर फोन कहीं दूर है या खो गया है तो उसका पासवर्ड लॉक भी कर सकते हैं, जिससे की कोई दूसरा उसका प्रयोग ना कर सके.
ब्लैकबेरी स्मार्टफोन
ब्लैकबेरी का एंटी-थेफ्ट प्रोग्राम BlackBerry Protect कहलाता है, बाकी सभी ऑपरेटिंग सिस्टम की तरह यह सॉफ्टवेयर भी ब्लैकबेरी अकाउंट के जरिए ऑपरेट किया जा सकता है. अकाउंट की मदद से फोन में मैसेज भेजे जा सकते हैं. उन्हें लॉक किया जा सकता है, कहीं दूर बैठे हुए फोन का सारा डाटा डिलीट किया जा सकता है. ब्लैकबेरी प्रोटेक्ट की एक खास बात यह भी है कि एक अकाउंट के जरिए 7 अलग-अलग डिवाइस को मैनेज किया जा सकता है. आज कल बाजार में बहुत से अलग-अलग थर्ड पार्टी ऐप्प भी मौजूद हैं, जिसके माध्यम से आप अपने खोए हुए फोन को खोजने, लॉक करने, या डाटा डिलीट करने के लिए प्रयोग में ला सकते हैं. उनमें से एक गूगल लैटिट्यूड क्रॉस प्लेटफॉर्म सर्विस है जिसे आईओएस, एंड्रॉयड, ब्लैकबेरी, सिंबियन और विंडोज मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम पर इस्तेमाल किया जा सकता है. इस ऐप की मदद से जहां भी आपका स्मार्टफोन मौजूद होगा उसकी जानकारी गूगल मैप्स के जरिए मिलेगी. इस ऐप को इस्तेमाल करने वाले यूजर्स कई बार बैटरी ज्यादा खर्च होने की शिकायत जरूर कर चुके हैं, लेकिन इस ऐप से कई बार फोन की असली लोकेशन की जानकारी बड़े ही सटीक ढ़ंग से मिलती है. ऐसे ही कुछ अन्य एप्स हैं Where’s My Droid, Plan B, Android Lost Free, SeekDroid Lite, AntiDroidTheft, Cerberus, Prey, Lookout Mobile Security.
फ़ोन चाहे कोई सा भी हो या आप कोई सा ऑपरेटिंग सिस्टम प्रयोग कर रहे हों, लेकिन सबसे ज़रूरी बात यह है कि इसके लिए आपका फ़ोन ऑन होना चाहिए और उसका इंटरनेट कनेक्शन चालू होना चाहिए, क्योंकि बिना इंटरनेट कनेक्शन के हम उस डिवाइस को ट्रैक नहीं कर पाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.