Now Reading:
केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, मानहानि मुकदमें में नहीं मिली राहत

केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, मानहानि मुकदमें में नहीं मिली राहत

KOLKATA, INDIA - JANUARY 8: Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal, Finance Minister Arun Jaitley and Railway Minister Suresh Prabhu during the inaugural function of Bengal Global Business Summit, at Milan mela ground on January 8, 2015 in Kolkata, India. The Bengal Global Business Summit is designed to attract the investor community to the cash-strapped state. During a function, Finance Minister Arun Jaitley said, If Bengal followed such a strong economic growth policy, it would be able to generate jobs and revenue needed to fight poverty, else would have to fall back on shallow political slogans. (Photo by Ashok Nath Dey/Hindustan Times via Getty Images)

अरविंद केजरीवाल को आज सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है. केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट में अरुण जेटली मानहानि मामले में एक याचिका दी थी. जिसमें उन्होने ये अपील की थी कि जब मानहानि का एक मामला चल ही रहा है तो पाटियाला हाइकोर्ट के मामले को रद्द कर दिया जाए. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि पटियाला हाउस कोर्ट में उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला चलता रहेगा.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा देश में ऐसा कोई कानूनी प्रावधान नहीं है जिसके मुताबिक एक ही मामले में सिविल और आपराधिक मामले एक साथ नहीं चल सकते. कोर्ट ने ये भी कहा कि ऐसा कोई कानून नहीं है जिसमें हाईकोर्ट किसी सिविल मामले में कोई आदेश सुनाता है तो उसका असर निचली अदालत में चल रहे आपराधिक केस पर पड़ेगा. इसलिए केजरीवाल के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में सिविल मानहानि और पटियाला हाउस में आपराधिक मानहानि के मामले चलते रहेंगे.

केजरीवाल की तरफ से विख्यात वकील राम जेठमलानी दलील रख रहे थे. सुप्रीम कोर्ट में उनकी दलील थी कि अगर दोनों केस एक साथ चलेंगे तो उनके साथ ही एक ही केस में दोहरा कानून इस्तेमाल करना होगा. अगर हाईकोर्ट का फैसला आ जाता है तो निचली अदालत उस फैसले से प्रभावित होगी, इसलिए पटियाला हाउस कोर्ट में चल रही आपराधिक कार्रवाई पर रोक लगाई जाए.

अरुण जेटली ने मानहानि का मामला तब शुरू हुआ था जब केजरीवाल ने डीडीसीए में जेटली पर आरोप लगाए थे. अरुण जेटली ने पटियाला हाउस कोर्ट में आपराधिक मानहानि और दिल्ली हाईकोर्ट में सिविल मानहानि का मुकदमा दायर किया था. यानि दो अलग-अलग कोर्ट में ये मामला चल रहा है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसी पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. नोट करने वाली बात ये है कि केजरीवाल ने दिल्ली हाईकोर्ट में ये गुहार लगाई थी लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट ने निचली अदालत में चल रहे आपराधिक कार्रवाई मामले पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था. केजरीवाल ने हाई कोर्ट में दायर याचिका में कहा था कि एक साथ दो मामले चलने के कारण आपराधिक कार्रवाई पर रोक लगाई जाए. इस मामले में केजरीवाल समेत आम आदमी पार्टी के पांच नेताओं पर जेटली ने मानहानि का केस दर्ज कराया था. इन नेताओं ने सार्वजनिक तौर पर जेटली पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.