Now Reading:
सलमान खान भी नहीं पार लगा पाए RACE-3 की नइया

सलमान खान भी नहीं पार लगा पाए RACE-3 की नइया

salman-khan-race-3-does-not-work-on-cinema-hall

salman-khan-race-3-does-not-work-on-cinema-hall

रेस चाहे जिंदगी की हो या ट्रैक की, रोमांच की गारंटी होती है। बॉलीवुड की ‘रेस’ सीरीज की पहली दो किस्तों के बारे में भी ये बात काफी हद तक कही जा सकती है। लेकिन ‘रेस 3’ के बारे में ये बात नहीं कही जा सकती। हां, हर मिनट दर्जनों गाड़ियों को हवा में उड़ते, आग के गोले में तब्दील होने को रोमांच मान लिया जाए तो ‘रेस 3’ में रोमांच है। किसी फिल्म में सलमान खान के होने को ही रोमांच माना जाए तो वह ‘रेस 3’ में है।

शमशेर सिंह (अनिल कपूर) हथियारों का बहुत बड़ा सौदागर है और अल शिफह द्वीप पर उसने अपना साम्राज्य फैलाया हुआ है। वहां वह अपने भतीजे सिकंदर (सलमान खान), बेटी संजना (डेजी शाह), बेटे सूरज (साकिब सलीम) और एक वफादार रघु सक्सेना (शरत सक्सेना) के साथ रहता है। सिकंदर बहुत काबिल और ताकतवर है, जिससे उसके दोनों कजिन जलते हैं। सिकंदर का भी एक वफादार दोस्त है यश (बॉबी देओल), जो बहुत शातिर है और ताकतवर है। संजना और सूरज उत्तराधिकार की रेस में सिकंदर को हराना चाहते हैं। इसके लिए वे यश का सहारा लेते हैं। जब सिकंदर बीजिंग में रहता था, तब उसकी जिंदगी में एक लड़की जेसिका (जैक्लीन फर्नांडीज) आती है और फिर कहीं चली जाती है। बाद में वह भी इस रेस में शामिल हो जाती है। इसके बाद शुरू होती है प्यार, धोखे और रिश्तों के घालमेल की कहानी।

जोड़ी अब्बास-मस्तान ने काफी रोमांचक अंदाज में, सस्पेंस के साथ पेश किया था। ‘रेस 2’ अपने पहले भाग जैसा तो कमाल नहीं कर सकी, लेकिन अब्बास-मस्तान ने उसे बेजान नहीं होने दिया। अब उसके पांच साल बाद नए निर्देशक रेमो डीसूजा के निर्देशन में ‘रेस 3’ आई है। इस फिल्म में सलमान खान तो हैं, लेकिन वो मजा नहीं है, जो इस सीरीज का ट्रेडमार्क था।

पटकथा बेजान है और संवादों में दम नहीं है। गीत-संगीत बस फिट कर दिए गए हैं। उनका कहानी से कोई लेना-देना नहीं है। वे फिल्म की गति को रोक देते हैं। हां, सिनेमेटोग्राफी जरूर अच्छी है। निर्देशक के रूप में रेमो डिसूजा पूरी तरह निराश करते हैं। उन्होंने फिल्म हर मसाला डाला है, लेकिन स्वाद नहीं आता। वैसे सलमान का फ्लाइंग सूट भी बढ़िया है।

एक्टिंग के बारे में क्या कहा जाए, सलमान का तो नाम ही काफी है! अनिल कपूर की एक्टिंग में अलग से कोई जिक्र करने लायक बात नहीं है। बॉबी देओल इंप्रैस करने में नाकाम रहे हैं। जैकलीन हमेशा एक जैसी लगती हैं। डेजी और साकिब भी कुछ असर नहीं छोड़ पाते। ये बात अलग है कि सलमान के करिश्मे की वजह से शायद ढेरों कमियों के बाद भी फिल्म के कारोबार पर बहुत असर न पड़े, लेकिन यह फिल्म बहुत निराश करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.