Now Reading:
कुशवाहा के बाद पासवान ने भी तरेरी आंख, चिराग ने कहा अपमानजनक सीटें मंजूर नहीं

कुशवाहा के बाद पासवान ने भी तरेरी आंख, चिराग ने कहा अपमानजनक सीटें मंजूर नहीं

chirag paswan on seat sharing in bihar

chirag paswan on seat sharing in bihar
केंद्रीय मंत्री व लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान ने पार्टी की सभी जिम्मेदारियां अपने बेटे सांसद चिराग पासवान को सौंप दी है. श्री पासवान ने कहा कि पार्टी की ओर से चिराग ही सीटों के बंटवारे पर राजग में बात करेंगें. इस मामले में उनका फैसला लोजपा अध्यक्ष के निर्णय वाली हैसियत के समान होगा. साफ है कि पार्टी की पूरी जिम्मेदारी चिराग संभालेंगे.

बिहार में एनडीए के बीच सीट बंटवारे को लेकर चिराग ने कहा कि लोकसभा चुनाव में पार्टी सीटों की अपमानजनक साझेदारी स्वीकार नहीं करेगी. गठबंधन के सबसे बड़े दल के रूप में भाजपा की जिम्मेदारी है कि वह साथी दलों के लिए गुंजाइश पैदा करे. यह बात लोजपा के 19 वें स्थापना दिवस समारोह में सांसद चिराग पासवान ने कही. चिराग पार्टी के संसदीय बोर्ड के चेयरमैन भी हैं.

यह भी पढ़ें: जानिए क्यों राबड़ी और तेजस्वी को धरने पर बैठना पड़ा

चिराग ने कहा कि बिहार को लेकर राजग का सीटों का बंटवारा जल्द सामने आ जाएगा. लेकिन उनकी पार्टी 2014 की तुलना कम सीटें स्वीकार नहीं करेगी. भाजपा अध्यक्ष ने सम्मानजनक समझौते की बात कही है. लेकिन लोजपा अपने लिए अपमानजनक समझौते को स्वीकार नहीं करेगी. पार्टी के इस समय छह लोकसभा सदस्य हैं. इनमें पार्टी अध्यक्ष रामविलास पासवान केंद्र सरकार में मंत्री हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में बिहार की 40 सीटों में से सात पर लोजपा ने चुनाव लड़ा था.

कुूशवाहा को नसीहत

इससे पहले बिहार में राजग में शामिल रालोसपा सीट बंटवारे को लेकर अपना असंतोष जाहिर कर चुकी है. पार्टी अध्यक्ष व केंद्र सरकार में मंत्री उपेंद्र कुशवाहा का इस बाबत बिहार के मुख्यमंत्री व जदयू सुप्रीमो नीतीश कुमार से वाक्युद्ध भी हुआ है. चिराग ने उपेंद्र कुशवाहा को नसीहत भी दी. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष को सार्वजनिक तौर पर सीट बंटवारे को लेकर चर्चा नहीं नहीं करनी चाहिए.

उल्लेखनीय है कि बिहार राजग के दो सबसे बड़े घटक -भाजपा और जदयू सीटों के बंटवारे को लेकर सहमति बना चुके हैं. दोनों ने बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. इसके चलते लोजपा और रालोसपा अपनी सीटों में कटौती को लेकर सशंकित हो उठे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.