Now Reading:
कुंभ में आकर्षण का केन्‍द्र रही ये पेशवाई, किन्‍नरों ने पहली बार किया ये बड़ा काम

कुंभ में आकर्षण का केन्‍द्र रही ये पेशवाई, किन्‍नरों ने पहली बार किया ये बड़ा काम

kinnar akhada peshwai

kinnar akhada peshwai

प्रयागराज में कुंभ की रौनक बिखरनी शुरू हो गई. साधु-संतों के अलावा भक्‍तों ने भी प्रयागराज में डेरा जमा लिया है. इस कुंभ का हिस्‍सा बनने के लिए देश भर से बड़ी संख्‍या में किन्‍नर भी प्रयागराज पहुंचे हैं. कुंभ में शामिल हो रहे अखाड़ों ने पेशवाई निकालनीं शुरू कर दी हैं. पेशवाई से मतलब देवत्‍व यात्रा से है, जो सभी अखाड़े कुंभ से पहले निकालते हैं. इन यात्राओं में हर अखाड़े की शानो-शौकत बखूबी झलकती है.

रविवार का दिन इस देवत्‍व यात्रा के लिहाज से प्रयागराज में बेहद खास रहा. प्रयाग कुंभ के इतिहास में पहली बार ऐसी अनूठी पेशवाई निकली. दरअसल, इस बार किन्‍नरों का अखाड़ा भी प्रयाग कुंभ में शिरकत कर रहा है. लिहाजा उन्‍होंने भी धूम-धाम से पेशवाई निकाली, जिसमें बड़ी संख्‍या में किन्‍नरों ने हिस्‍सा लिया. सज-धज कर, हाथ में डमरू लिए ये किन्‍नर और कई विदेशी मेहमान लोगों के बीच आकर्षण का केन्‍द्र रहे. किन्‍नर अखाड़ा बाकी अखाड़ों की तरह शाही स्‍नान भी करेगा. किन्‍नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्‍वर लक्ष्‍मी नारायण त्रिपाठी ने कहा कि अखाड़े के शिविर में हर दिन कथा-प्रवचन के अलावा विधि-विधान से सारे अनुष्‍ठान भी होंगे. अब तक प्रयाग कुंभ में 13 अखाड़े ही शिरकत करते रहे हैं, इस बार किन्‍नर अखाड़े के आने से ये संख्‍या बढ़कर 14 हो जाएगी.

गौरतलब है कि इससे पहले उज्‍जैन महाकुंभ में किन्‍नर अखाड़े ने हिस्‍सा लिया था. वहीं पर किन्‍नर लक्ष्‍मी नारायण त्रिपाठी को उनके अखाड़े का आचार्य महामंडलेश्‍वर घोषित किया गया था.

यह भी पढें : जाना चाहते हैं कुंभ में, तो ऐसे पहुंचें जल्‍दी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.