Chauthi Duniya

Now Reading:
पुलिस ने किया बड़ा खुलासा खुद RSS कार्यकर्ता ने खुद रची थी अपने कत्ल की साजिश, लाश ने क़त्ल की दी गवाही

पुलिस ने किया बड़ा खुलासा खुद RSS कार्यकर्ता ने खुद रची थी अपने कत्ल की साजिश, लाश ने क़त्ल की दी गवाही

रतलाम : पुलिस ने एक ऐसे क़त्ल की गुत्थी सुलझा ली है जहाँ न तो शव की कोई पहचान थी और ना ही क़ातिल का कोई पता. अगर कुछ था तो एक गुमनाम लाश. जिसकी पहचान बाद में आरएसएस कार्यकर्ता हिम्मत पाटीदार के तौर पर हुई. इस हत्याकांड को लेकर कई लोगों ने जमकर बवाल काटा था. लेकिन अब मध्य प्रदेश पुलिस ने रतलाम के इस ब्लाइंड केस में बड़ा खुलासा किया है.

दरअसल पुलिस जिसे आरएसएस नेता का क़ातिल मानकर कई राज्यों में खाक छान रही थी. असल में लाश उसी की थी. और आरएसएस कार्यकर्ता हिम्मत पाटीदार की हत्या हुई नहीं थी बल्कि खुद उसने ही अपने कत्ल की साजिश रची थी. उसने अपने गांव के एक शख्स का कत्ल किया और खुद लापता हो गया. लाश की पहचान छुपाने के लिए उसने लाश का चेहरा भी जला दिया था.

शायद पुलिस कई दिनों तक इसी तरह हाँथ पैर मारती रहती अगर डीएनए रिपोर्ट नहीं आता. जब लाश की डीएनए रिपोर्ट आई तो खुद पुलिस भी हैरान रह गई . जांच में सामने आया की मरने वाला हिम्मत पाटीदार नहीं बल्कि उसी के गांव का मदन मालवीय था. ये वही शख्स था, जिसे पुलिस हिम्मत का कातिल मानकर उसकी तलाश कर रही थी. पुलिस को मदन पर शक इसलिए था, क्योंकि पाटीदार के मर्डर की सूचना के बाद से ही वो लापता था. खुद पाटीदार के परिवार वालों ने भी मालवीय पर ही सवाल खड़े किये थे. लेकिन डीएनए टेस्ट से खुलासा हुआ कि मरने वाला मदन मालवीय ही था.

अब पुलिस को ये समझ नहीं आ रहा था की लाश अगर मालवीय की थी तो आरएसएस नेता पाटीदार कहाँ लापता हो गया. इस बीच पुलिस को एक और बड़ी खबर हाँथ लगी. पता चला RSS नेता और संघ के शिवपुर मंडल के पूर्व कार्यवाह हिम्मत पाटीदार के सिर पर करीब बीस लाख रुपये का कर्ज था. इसी से छुटकारा पाने के लिए उसने खौफनाक साजिश रची और उससे रंजिश रखने वाले गांव के ही मदन मालवीय को बेरहमी के साथ कत्ल कर दिया.

खेत में मिली थी लाश

जब पिछले हफ्ते RSS नेता हिम्मत पाटीदार के पिता लक्ष्मीनारायण पाटीदार अपने खेत में काम करने जा रहे थे तो उन्होंने वहां एक लाश देखी थी. उस लाश का चेहरा झुलसा हुआ था और पास में ही हिम्मत पाटीदार की मोटरबाइक खड़ी थी. इतना ही नहीं लाश के शरीर पर वैसे ही कपडे थे जैसे हिम्मत घर से पहन कर निकला था. फ़ौरन पुलिस मौके पर पहुंची और शव की शिनाख्त हिम्मत के तौर पर हुई. आरएसएस नेता हिम्मत पाटीदार की हत्या की ख़बर लगते ही हिंदू संगठनों ने हंगामा शुरू कर दिया.

इस दौरान मामले की छानबीन में जुटी पुलिस को पता चला कि गांव का युवक मदन मालवीय भी गायब है. इसके बाद पुलिस ने मदन को कातिल मानकर उसकी तलाश शुरू कर दी थी. लेकिन डीएनए टेस्ट ने इस हत्याकांड की पूरी कहानी को ही बदल कर रख दिया.

Input your search keywords and press Enter.