Chauthi Duniya

Now Reading:
सिडनी टेस्ट पहला दिन: भारत मज़बूत स्थिति में, पुजारा का शतक, मयंक फिर चूके

सिडनी टेस्ट पहला दिन: भारत मज़बूत स्थिति में, पुजारा का शतक, मयंक फिर चूके

Cheteshwar-pujara

Cheteshwar-pujara

सिडनी टेस्ट के पहले दिन भारत मज़बूत स्थिति में पहुंच गया गया है. आज का खेल समाप्त होने तक भारत का स्कोर 4 विकेट के नुकसान पर 303 था. चेतेश्वर पुजारा 130 और हनुमा विहारी 39 रन बना कर क्रीज़ पर डेट हुए थे. यह पुजारा के टेस्ट जीवन का 18वां शतक था.

विराट कोहली सीरिज में तीसरी बार टॉस जीतने में कामयाब रहे. कोहली इस मामले में भाग्यशाली रहे क्योंकि सिडनी के विकेट पर तीसरे और चौथे दिन बल्लेबाज़ी करना आसान नहीं होगा. खास तौर पर स्पिनर को खेलना बहुत मुश्किल हो जाएगा. बहरहाल, टॉस जितने के बाद बल्लेबाज़ी के लिए अनुकूल विकेट पर कोहली ने बिना कोई क्षण गंवाए बल्लेबाज़ी का फैसला किया.

भारत की ओर से एक बार फिर एक नई सलामी जोड़ी मैदान में उतरी. इस बार अपना दूसरा टेस्ट मैच खेल रहे मयंक अग्रवाल का साथ निभाने आउट ऑफ़ फॉर्म चल रहे केएल राहुल ने दुसरे छोर से मोर्चा संभाला, लेकिन इस बार भी राहुल कोई बड़ा स्कोर बनाने में कामयाब नहीं हो सके और मात्र 9 रन बना कर चलते बने. जब राहुल आउट हुए उस वक़्त भारत का स्कोर 10 रन था.

अब मयंक का साथ निभाने पुजारा मैदान पर उतरे. पुजारा ने चित परिचित अनदाज़ में अपनी पारी की शुरुआत रक्षात्मक ढंग से की. उधर मयंक भी ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाजों का मुकाबला करने के लिए दृढ निश्चय के साथ मैदान पर उतरे थे. उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के कई बाउंसर अपने शारीर पर झेले, लेकिन रन बनाने का कोई मौक़ा हाथ से जाने नहीं दिया. लंच तक भारत का स्कोर एक विकेट के नुकसान पर 69 रन था मयंक 42 और पुजारा 16 रन बना अभी भी नाबदा थे. लंच के बाद जब खेल शुरू हुआ तो मयंक ने अपने दुसरे टेस्ट का दूसरा अर्धशतक पूरा करने में देर नहीं लगाई.

जब एक बार मयंक ने 50 का आंकड़ा पार कर लिया तो फिर उन्होंने अपना स्वाभाविक खेल खेलना शुरू किया. उन्होंने नाथन लियोन की गेंदों पर दो छक्के जेड और तीसरा छक्का मरने के प्रयास में लॉन्ग ऑन पर स्टार्क द्वारा लपका लिए गए. मंयक ने 77 रन बनाये. उन्होंने पारी के शुरुआत में जिस धैर्य का परिचय दिया था यदि उसी तरह खेलते रहते तो शायद वो अपने करियर का पहला शतक बनाने में कामयाब हो जाते.

मयंक के आउट होने के बाद पुजारा ने विराट कोहली के साथ मिल कर पारी आगे बढ़ाई और कुछ आकर्षक शॉट्स लागाये. पुजारा ने जल्द ही अपना अर्धशतक पूरा कर लिया, लेकिन एक अनुभवी बल्लेबाज़ होने के नाते उन्हें मालूम था कि अभी उनका काम ख़त्म नहीं हुआ है. उधर दुसरे छोर पर कोहली भी संभल-संभल कर खेल रहे थे, लेकिन स्टार्ट मिलने के बावजूद अपनी आदत के विपरीत कोहली कोई बड़ा स्कोर नहीं बना पाए और 23 रन बना कर आउट हो गए.

कोहली के आउट होने के बाद युवा बल्लेबाज़ हनुमा विहारी मैदान पर उतारे उन्होंने पुजारा के साथ मिल कर यह सुनिश्चित किया कि आज के दिन भारत का कोई और विकेट न गिरे. हनुमा विहारी 39 रन बना कर क्रीज़ पर मौजूद रहे. अभी पुजारा जिस अनदाज़ में खेल रहे हैं यदि उसी अंदाज़ में कल के पहले सत्र तक खेलते रहे तो यह मैच ऑस्ट्रेलिया की पहुंच से कोसों दूर हो जाएगा और भारत एक ऐतिहासिक टेस्ट सीरिज जीतने और करीब आ जायेगा.

यदि भारत ने अपना स्कोर कल 450 तक पहुंचा दिया, तो ऑस्ट्रेलिया के लिए एक अभेद पहाड़ साबित हो सकता है, क्योंकि खेल क पहले सत्र में नाथन लियोन की गेंद जिस तरह टर्न हो रही थी उसे देख कर भारत की ओर से टीम में शामिल दोनों स्पिनर ज़रूर खुश हो रहे होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.