Chauthi Duniya

Now Reading:
MP: लोकसभा चुनाव लड़ सकती हैं इस नेता की खूबसूरत पत्नी, अब तक कभी नहीं हारा है ये परिवार

MP: लोकसभा चुनाव लड़ सकती हैं इस नेता की खूबसूरत पत्नी, अब तक कभी नहीं हारा है ये परिवार

भोपाल: मध्य प्रदेश से एक बड़ी खबर सामने आई हैं। खबर ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी को लेकर हैं। कहा जा रहा हैं मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सबसे मजबूत और सुरक्षित सीट गुना से मौजूदा सांसद पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी चुनाव लड़ सकती हैं। फिलहाल ज्योतिरादित्य सिंधिया को बतौर पार्टी महासचिव पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपे कर भेजा गया हैं। ऐसे में वो व्यस्त रहेंगे और उनके न रहने की हालत में उनकी पत्नी प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया को गुना संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ाए जाने के आसार बनने लगे हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रियदर्शिनी को लोकसभा चुनाव में उतारने की मांग भी कर डाली है। गुना संसदीय क्षेत्र पर सिंधिया राजघराने के सदस्यों का लंबे अरसे से कब्जा है।

गुना संसदीय क्षेत्र से सिंधिया परिवार का गढ़ माना जाता हैं जहाँ से पहले राजमाता विजयराजे सिंधिया और उनके बेटे माधवराव सिंधिया के बाद उनके बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया चुनाव जीतते आए हैं। इस संसदीय क्षेत्र में अब तक कुल 14 लोकसभा चुनाव हुए, जिनमें कांग्रेस नौ, बीजेपी चार और बहुत पहले एक बार जनसंघ की जीत हुई थी।

ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस महासचिव बनाए जाने के साथ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 40 संसदीय क्षेत्रों का प्रभारी बनाया गया है। बड़ी जिम्मेदारी मिलने के चलते सिंधिया की सक्रियता अब गुना की बजाय पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ज्यादा रहने के आसार हैं। इसी को ध्यान में रखकर कांग्रेस कार्यकर्ता चाहते हैं कि ज्योतिरादित्य अपनी बड़ी जिम्मेदारी का बेहतर तरीके से निभाएं, लिहाजा गुना संसदीय क्षेत्र से महारानी प्रियदर्शिनी राजे को कांग्रेस उम्मीदवार बनाया जाए।

इस संसदीय क्षेत्र के गुना व बमौरी विधानसभा क्षेत्रों के पदाधिकारियों की बैठक सोमवार को संसदीय क्षेत्र प्रभारी राजेंद्र भारती की मौजूदगी में हुई थी। इस बैठक में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित कर पार्टी हाईकमान को भेजा गया है। प्रस्ताव में ज्योतिरादित्य की बढ़ने वाली व्यस्तता के चलते प्रियदर्शिनी को उम्मीदवार बनाने की मांग की गई है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि सिंधिया ने अगले लोकसभा चुनाव के लिए हर स्तर पर प्रभारियों की तैनाती कर दी है, जिम्मेदारियों का बंटवारा भी हो चुका है। जिन नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है, उन्होंने बैठकों का दौर भी शुरू कर दिया है।

Input your search keywords and press Enter.