Chauthi Duniya

Now Reading:
महाराष्ट्र में अशोक चव्हाण का बड़ा ऐलान, लोकसभा के साथ हो सकता है विधानसभा चुनाव- बीजेपी की साजिश का खुलासा

महाराष्ट्र में अशोक चव्हाण का बड़ा ऐलान, लोकसभा के साथ हो सकता है विधानसभा चुनाव- बीजेपी की साजिश का खुलासा

 

औरंगाबाद: विरोधी दलों को अंधेरे में रखकर मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस इस माह के अंत में बजट अधिवेशन के तुरंत बाद महाराष्ट्र विधानसभा भंग कर लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव कराने के फ़िराक में हैं. यह आशंका राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने यहां जताई. लोकसभा चुनाव के लिए प्रदेश कांग्रेस की ओर से महाराष्ट्र में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के नेतृत्व में 50 जनसंघर्ष सभाओं का आयोजन किया गया है. इसकी शुरुआत गुरुवार को औरंगाबाद से हुई. देर शाम शहर में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए अशोक चव्हाण ने कहा कि सी.एम.फडणवीस बजट अधिवेशन के तुरंत बाद महाराष्ट्र विधानसभा भंग कर लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव कराने की योहना बना रहे हैं. कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को आगाह करते हुए अशोक चव्हाण ने कहा फडणवीस के इस खेल से होशियार रहकर दोनों चुनावों के लिए तैयार रहना होगा.

उन्होंने महाराष्ट्र की सत्तासीन भाजपा-सेना सरकार के कामकाज की पोल खोलते हुए कहा कि सेना व भाजपा एक दूसरे के खिलाफ राग अलापने का नाटक कर राज्य को लूट रहे हैं. कांग्रेस की सरकार के कार्यकालों में महाराष्ट्र निवेश, रोजगार व उत्पादन क्षेत्र में नंबर एक पर था. फडणवीस सरकार के कार्यकाल में महाराष्ट्र अपराधों में नंबर एक हुआ है.यह आरोप चव्हाण ने लगाते हुए कहा कि सत्ताधारी भाजपा के सांसद व विधायक ही अपराधों में लिप्त है. भाजपा ने बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओं का नारा दिया था. परंतु, आज भाजपा नेताओं से ही बेटियों को बचाने की नौबत आई है. सत्ता पाने के लिए भाजपा नेताओं ने 5 साल पूर्व खूब झूठ बोला. चुनावों को सामने रखकर फिर एक बार भाजपा नेता मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए झूठ बोलने के नए- नए हथकंडे अपना रहे हैं. इससे राज्य के मतदाताओं को होशियार रहकर युति सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकना है, और कांग्रेस की सरकार दोबारा लाना है.


 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता ने दूबारा युति को सत्ता दी तो आगामी चुनाव अंतिम चुनाव होंगे. भाजपा दूबारा सत्ता में आई तो वह एकाधिकार शाही चलाकर देश में लोकतंत्र खत्म कर देगी. चव्हाण ने कहा, कि मतों का विभाजन टालने के लिए आंबेड़कर कांग्रेस का साथ दें, गत चुनावों में सिर्फ 30 प्रतिशत वोट भाजपा व शिवसेना को मिले थे. बचे 70 प्रतिशत वोट कांग्रेस, एनसीपी, शेकाप व अन्य दलों में बंटे थे. यह वोट ना बंटे उसके लिए बहुजन वंचित आघाडी कांग्रेस का साथ दें. यह आवाहान अशोक चव्हाण ने वंचित आघाडी के प्रमुख प्रकाश आंबेडकर से किया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की दिल से इच्छा हैं कि प्रकाश आंबेडकर सांसद बनकर संसद पहुंचे. आंबेडकर ने कांग्रेस का साथ नहीं दिया तो उसका फायदा भाजपा को होग और वह दूबारा सत्ता में आएगी. भाजपा को सरकार से उखाड़ फेंकने के लिए आंबेडकर हमारा साथ दें. चव्हाण ने कहा कि वंचित आघाडी से गठबंधन करने के लिए मैं आंबेड़कर से 5 बार मिला हूं. बातचीत में हम सीटों के बंटवारे पर निर्णय जल्द ही ले लेंगे.

Input your search keywords and press Enter.