Now Reading:
माघी गणेश जयंती का महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि
Full Article 3 minutes read

माघी गणेश जयंती का महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

देवाधि देव महादेव और माता पार्वती के पुत्र विघ्नहर्ता भगवान गणेश जिनकी सभी देवताओं से पूर्व आराधना की जाती है, देशभर में माघ की चतुर्थी को गणेश जयंती के रुप में मनाया जाता है वैसे तो महाराष्ट्र और मुंबई में गणेशोत्स्व के दौरान गणपति बाप्पा की अनोखी धूम देखने को मिलती है, लेकिन यहां गणेश जयंती भी काफी धूमधाम से मनाई जाती है. माघ गणेश जयंती 2019: गणेश जयंती का पर्व सिर्फ महाराष्ट्र तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसे देशभर में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है. हर साल भाद्रपद महीने में 10 दिनों तक गणेशोत्सव (Ganesh Utsav) का पर्व बहुत हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है, लेकिन माघ मास की गणेश जयंती का अपना एक अलग महत्व है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को भगवान गणेश (Lord Ganesha) का जन्म हुआ था. भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र गणेश को प्रथम पूजनीय माना जाता है, इसलिए किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान गणेश की पूजा की जाती है.

कैसे मनाया जाता है माघी गणेश जयंती का पर्व ?

माघ महीने की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा जाता है, इस दिन महाराष्ट्र के विभिन्न क्षेत्रों में भक्त भगवान गणेश की प्रतिमा को सार्वजनिक पंडालों और घरों में स्थापित करते हैं. इस दिन उनकी छवि हल्दी या सिंदूर से बनाई जाती है और उनकी पूजा की जाती है. तिल से तैयार भोजन गणपति को अर्पित किया जाता है और भक्तों के बीच प्रसाद के रूप में बांटा जाता है, इसलिए इसे तिल कुंड चतुर्थी भी कहा जाता है. इस दिन पूजा से पहले भक्त तिल मिश्रित जल से स्नान करते हैं और तिल का उबटन लगाते हैं. इस दिन व्रत रखकर विधि-विधान से भगवान गणेश की पूजा की जाती है और उत्सव के चौथे दिन गणेश जी की प्रतिमा को विसर्जित किया जाता है.

शुभ मुहूर्त और तिथि

चतुर्थी तिथि आरंभ- 8 फरवरी 2019, सुबह 10.17 बजे से,

चतुर्थी तिथि समाप्त- 9 फरवरी 2019, सुबह 12.25 बजे तक.

पूजा विधि-

इस दिन गणेश जी की प्रतिमा का शुद्ध जल से अभिषेक करें और उनकी प्रतिमा को एक चौकी पर स्थापित करें.
इस दिन सुबह स्नान के बाद भगवान गणेश को शुद्ध घी और गुड़ का भोग लगाएं.
गणेश जी की प्रतिमा पर 108 दूर्वा पर पीली हल्दी लगाकर अर्पित करें, इसके साथ ही हल्दी की पांच गाठें चढ़ाएं.
उन्हें मोदक, गुड़, फल. मावा-मिष्ठान और लड्डुओं का भोग लगाएं, फिर इसे प्रसाद के रुप में बांटें.
इस दिन व्रत रखकर शाम को घर में गणपति अथर्वशीष का पाठ करें और गणपति को तिल के लड्डुओं का भोग लगाएं.
ऐसी मान्यता है कि माघ महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के दिन माघी गणेश जयंती पर व्रत करने से भगवान गणेश भक्तों के संकटों को दूर करते हैं और उनकी समस्त मनोकामनाएं पूरी करते हैं.

Input your search keywords and press Enter.