fbpx
Now Reading:
70 साल की उम्र में ‘डेथ रेस’ जीत महिला ने रचा इतिहास, अब तक हजारों गवां चुके हैं जान
Full Article 2 minutes read

70 साल की उम्र में ‘डेथ रेस’ जीत महिला ने रचा इतिहास, अब तक हजारों गवां चुके हैं जान

Bolivian Mirtha Munoz

बोलिविया की एक 70 साल की महिला ने 37 मील यानी तक़रीबन  67 किमी रेस जीतकर इतिहास रच दिया है. मिर्था मुनोज नाम की इस महिला ने दक्षिण अमेरिका के जंगलों से लेकर बर्फ से ढकी एंडीज की चट्टानों की खतरनाक सड़कों पर साइकिल चलाकर यह प्रतियोगिता जीती है.तक़रीबन 11,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह सड़क बोलिविया में ‘डेथ रोड’ के नाम से भी जानी जाती है.

‘डेथ रोड’ नाम से मशहूर इस सड़क पर अब तक हजारों लोग जान गंवा चुके हैं. बताया जाता है कि मिर्था जब 65 साल की थी तब उनके बेटे की अचानक मौत हो गई थी. बेटे की मौत के गम में वह डिप्रेशन में रहने लगी थीं. हालात ऐसे हुए कि उन्हें मनोवैज्ञानिक के पास जाना पड़ा. जिसने उन्हें साइकिल चलाने की सलाह दी. जिसके चलते मिर्था के पड़ोस में रहने वाले एक परिवार ने उन्हें साइकिलिंग सिखाई और मिर्था नए सफर पर निकल पड़ीं. धीरे धीरे साइकिलिंग उनका पैशन बन गया और  उन्होंने दक्षिण अमेरिका-बोलिविया की साइकिल रेस में हिस्सा लेने का फैसला किया. जिसके बारे में सुनकर लोग हैरान रह गए. दरअसल यह रेस उस सड़क पर होने वाली थी, जिसे ‘डेथ रोड’ के नाम से जाना जाता है.

नॉर्थ यंगास पर11,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित डेथ रोड साल 1930 में बनी थी. बीते 90 सालों में यहां रेस के दौरान अब तक हजारों लोगों की मौत हो चुकी है. लेकिन मिर्था ने दुनिया की इस सबसे खतरनाक सड़क पर  साइकिल चलाकर यह उपलब्धि हासिल की. ये रोड पूरी जंगल से घिरी है. यह संकरी और इसकी ढलान सीधी है. कई जगह सड़क के किनारे रेलिंग भी नहीं हैं.

Input your search keywords and press Enter.