fbpx
Now Reading:
डोप टेस्ट में फेल होने के बाद बोले पृथ्वी शॉ, इसने मुझे झकझोर दिया है

डोप टेस्ट में फेल होने के बाद बोले पृथ्वी शॉ, इसने मुझे झकझोर दिया है

भारत के प्रतिभाशाली सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने डोपिंग परीक्षण में नाकाम रहने के बाद मंगलवार को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से आठ महीने के लिये प्रतिबंधित किये जाने की सजा स्वीकार करते हुए कहा कि इस खबर ने उन्हें झकझोर दिया है, लेकिन वह और मजबूत होकर वापसी करेंगे.

बीसीसीआई ने डोप परीक्षण में नाकाम होने के बाद 19 साल के इस क्रिकेटर को 15 नवंबर 2019 तक खेल के सभी प्रारूपों से निलंबित कर दिया है. शॉ ने ट्वीट किया, “मैं पूरी ईमानदारी के साथ इस फैसले को स्वीकार करता हूं. मैं अभी पिछले टूर्नामेंट में लगी चोट से उबर रहा हूं और इस खबर ने मुझे झकझोर दिया है.”

Related Post:  World Cup 2019 ENGvBAN : बांग्लादेश के खिलाफ रॉय और बटलर की तूफानी पारी, इंग्लैंड ने बनाये छह विकेट पर 386 रन

बीसीसीआई ने विज्ञप्ति में कहा, “शॉ ने अनजाने में प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन किया. यह पदार्थ आमतौर पर खांसी की दवा में पाया जाता है.” शॉ का प्रतिबंध पूर्व से प्रभावी माना गया है जो कि जो 16 मार्च 2019 से शुरू होकर 15 नवंबर 2019 तक चलेगा.

भारत के लिए दो टेस्ट मैच खेलने वाले शॉ ने कहा, “मुझे इसे सबक के तौर पर लेना होगा और उम्मीद है कि यह हमारी खेल बिरादरी में दूसरों को प्रेरित करेगा. हम खिलाड़ियों को बीमार होने पर किसी भी दवा को लेने में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है, भले ही दवा काउंटर पर उपलब्ध हो और हमें हमेशा इसकी जरूरत हो तो भी प्रोटोकॉल का पालन करें.”

Related Post:  वर्ल्डकप-2019: बांग्लादेश कर सकता है बड़ा उलटफेर, सतर्क होकर खेलेगा इंग्लैंड

युवा सलामी बल्लेबाज ने कहा, “क्रिकेट मेरी जिंदगी है और भारत और मुंबई के लिए खेलने से बड़ा कोई सम्मान नहीं है और मैं इससे अधिक मजबूत बनूंगा.” शॉ ने बीसीसीआई के डोपिंग रोधी परीक्षण कार्यक्रम के तहत 22 फरवरी 2019 को इंदौर में सैयद मुश्ताक अली ट्राफी के दौरान मूत्र का नमूना उपलब्ध कराया था. परीक्षण के बाद उनके नमूने में ‘टरबुटैलाइन’ पाया गया.

बीसीसीआई की विज्ञप्ति में कहा गया है, “टरबुटैलाइन वाडा की प्रतिबंधित पदार्थों की सूची में है और इसे प्रतियोगिता के दौरान या इससे इतर नहीं लिया जा सकता है.” शॉ ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मेरे पैर में चोट लगी थी और मैं प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी को लेकर बेकरार था. मैदान में उतरने की जल्दबाजी में मैंने काउंटर से कफ सिरप पर एक बुनियादी दवा खरीदने में सावधानी बरतने के प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया.”

Related Post:  टीम इंडिया की जीत के लिए वाराणसी में विशेष पूजा, भैरव अष्टक मंत्र का भी हुआ जाप
Input your search keywords and press Enter.