fbpx
Now Reading:
घर वापसी की टूटी उम्मीद, 13 परिवारों में पसरा मातम, AN-32 विमान हादसे में सबकी मौत
Full Article 2 minutes read

घर वापसी की टूटी उम्मीद, 13 परिवारों में पसरा मातम, AN-32 विमान हादसे में सबकी मौत

AN-32 विमान हादसे में कोई भी जिंदा नहीं मिला है, क्रैश साइट पर पहुंची सर्च टीम ने इस बात की पुष्टि कर दी है. वायुसेना की सर्च टीम गुरुवार सुबह AN-32 की क्रैश साइट पर पहुंची. उन्हें कोई वहां कोई भी जीवित नहीं मिला है.
इसके बारे में सेना ने विमान में सवार सभी 13 यात्रियों के परिवारों को सूचना दे दी है.

इस विमान में पायलट आशीष तंवर, वारंट अफसर कपिल कुमार मिश्रा, फ्लाइंग लेफ्टिनेंट मोहित गर्ग समेत 13 लोग सवार थे. 3 जून को असम के जोरहाट से उड़े AN-32 का मलबा 11 जून को अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास मिला था. इसके बाद क्रैश साइट पर पहुंचने की कोशिश की जा रही थी, लेकिन मौसम खराब होने के कारण सर्च टीम पहुंच नहीं पा रही थी.

बुधवार को 15 पर्वतारोहियों को एमआई-17s और एडवांस लाइट हेलिकॉप्टर (ALH) से लिफ्ट करके मलबे वाली जगह के नजदीक तक पहुंचाया गया.

चीनी सीमा के पास था विमान का आखिरी लोकेशन
एएन-32 विमान 3 जून दोपहर जोरहाट से चीन की सीमा के पास अरुणाचल के मेंचुका के लिए उड़ान भरी थी लेकिन वह करीब एक बजे लापता हो गया था. इस विमान की आखिरी लोकेशन अरुणाचल के पश्चिम सियांग जिले में चीन की सीमा के पास मिली थी. एअररूट से 15 से 20 किलोमीटर दूर अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास घने जंगल में विमान का मलबा मिला है.

Input your search keywords and press Enter.