fbpx
Now Reading:
रात के अँधेरे में 12 चॉपर में सवार होकर बगदागी को मारने पहुंचे थे डेल्टा फोर्स कमांडो, जानिए कितने खतरनाक हैं ये और कैसे सफल हुआ ऑपरेशन
Full Article 2 minutes read

रात के अँधेरे में 12 चॉपर में सवार होकर बगदागी को मारने पहुंचे थे डेल्टा फोर्स कमांडो, जानिए कितने खतरनाक हैं ये और कैसे सफल हुआ ऑपरेशन

Delta Force Commando

अमेरिकी कमांडो ने दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी सरगना और इस्लामिक स्टेट के मुखिया अब बक़र अल बगदादी को सीरिया के इदलिब प्रांत में एक बेहद गोपनीय और खतरनाक ऑपरेशन में मार गिराया। अलकायदा के मुखिया ओसामा बिन लादेन को जहां अमरीकी नेवी सील कमांडोज ने मारा था तो वहीं बगदादी को मारने के मिशन पर 70 डेल्टा कमांडोज लगाए गए थे।

इस बेहद ख़ुफ़िया ऑपरेशन में शामिल फ़ोर्स का पूरा नाम फर्स्ट स्पेशल फोर्सेज ऑपरेशन डिटैचमेंट (First Special Forces Operation Detachment) है। इसे शॉर्ट में डेल्टा फोर्स कहा जाता है। वैसे इसको कॉम्बैट एप्लीकेशन्स ग्रुप या आर्मी कम्पार्मेंटेड एलिमैंट के नाम से भी जाना जाता है। यह अमरीकी थल सेना के डिवीजन अधीन कार्य करती है। ज्वाइंट स्पैशल ऑप्रेशन्स कमान के पास इसका ऑप्रेशनल कंट्रोल होता है।

खतरनाक आतंकी संगठनों, आतंकियों और दुनिया के लिए खतरा बन चुके लोगों को ठिकाने लगाने की जिम्मेदारी इसको दी जाती है। बंधक संकट से निपटने में भी डेल्टा फोर्स की मदद ली जाती है। अमरीका की नेवी सील टीम के साथ आतंकवाद रोधी मिशनों को अंजाम देना मुख्य रूप से इसका काम है।

ऑपरेशन ऑब्लिट्रेशन की पूरी कहानी

26 अक्तूबर शाम 5 बजे ट्रम्प व्हाइट हाउस के सिचुएशन रूम में पहुंचे। वहीं इराक के एक एयरबेस से डेल्टाफोर्स के 8 हेलिकॉप्टर 1 घंटे 10 मिनट की उड़ान के बाद तय ठिकाने पर पहुंचे। जब आतंकी लड़ाकों की ओर से हेलिकॉप्टरों पर फायरिंग हुई तो उन्हें मिसाइल से उड़ाया।

बता दें कि ये इलाका आतंकी संगठन हयाते तहरीक अल इस्लाम के कब्जे में है। बगदादी जिस परिसर में था डेल्टा फोर्स ने रात में उसे घेरा। दीवारों में हमले के लिए सुराख किए। बगदादी सुरंग में भागा तो फोर्स के कुत्ते उसके पीछे अंदर भागे। बगदादी सुरंग के अंत तक पहुंच गया, वहां उसने खुद को बम से उड़ा लिया और इसमें तीन बच्चे भी मारे गए।

दो घंटे तक चले अभियान में अमरीकी कमांडो को परिसर में लड़ाकों से जूझना पड़ा, जिन्होंने सरेंडर नहीं किया वे सभी लड़ाके मारे गए। वहीं 11 बच्चों को घर से सुरक्षित बाहर निकाला गया।

Input your search keywords and press Enter.