fbpx
Now Reading:
राजस्थान: इस्तीफा देने वाले मंत्री लाल चंद कटरिया को अब अशोक गेहलोत ने कुछ ऐसे दिया जवाब
Full Article 3 minutes read

राजस्थान: इस्तीफा देने वाले मंत्री लाल चंद कटरिया को अब अशोक गेहलोत ने कुछ ऐसे दिया जवाब

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तमाम अटकलों को विराम देते हुए अपने कृषि मंत्री लाल चंद कटारिया का इस्तीफा नामंजूर कर दिया है। कटारिया शुक्रवार को यहां मुख्यमंत्री गहलोत से उनके सरकारी निवास पर मिले थे और लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के मद्देनजर इस्तीफा देने की बात दोहराई थी, लेकिन मुख्यमंत्री ने उनका इस्तीफा अस्वीकार कर दिया। मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया,” मुख्यमंत्री ने इस्तीफा अस्वीकार करते हुए कटारिया से अपना काम करते रहने को कहा और कहा कि वे अच्छा शासन देने में भूमिका निभाएं।

उल्लेखनीय है कि पिछले रविवार को कटारिया ने अचानक इस्तीफा देने की घोषणा की और उनका इस्तीफा पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। हालांकि मुख्यमंत्री कार्यालय व राजभवन ने इस तरह का कोई पत्र मिलने से इनकार किया। वहीं मंत्री कटारिया उसके बाद एक तरह से अज्ञातवास में चले गए और शुक्रवार को मुख्यमंत्री से मिले।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष एवं उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की अध्यक्षता में बुधवार को पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में लोकसभा चुनाव में हुई पार्टी की हार पर मंथन किया जायेगा।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि इस बैठक में राहुल गांधी से पार्टी प्रमुख के तौर पर सेवाएं देना जारी रखने की अपील करने संबंधी सीडब्ल्यूसी के प्रस्ताव का समर्थन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि नई दिल्ली में कांग्रेस कार्यसमिति द्वारा राहुल गांधी के त्यागपत्र को स्वीकार नहीं करने के फैसले का इस बैठक में समर्थन किया जाएगा।

लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद प्रदेश कार्यकारिणी की पहली बैठक में राज्य में पार्टी के खराब प्रदर्शन के कारणों पर मंथन किया जायेगा। राजस्थान में सत्ताधारी पार्टी कुल 25 में से एक भी सीट नहीं जीत सकी पार्टी में आंतरिक संकट के बीच यह एक महत्वपूर्ण बैठक है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे और अन्य नेतागण बुधवार को दोपहर बाद 2.30 बजे बुलाई गई प्रदेश कार्यकारिणी की इस बैठक में मौजूद रहेंगे।

कांग्रेस कार्यकारिणी की 25 मई की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के त्यागपत्र को मंजूर नहीं करने संबंधी एक प्रस्ताव पारित किया गया था। गत वर्ष दिसम्बर के विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में सत्ता में आयी कांग्रेस सरकार के कुछ नेताओं ने लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन एवं हार पर आत्ममंथन और विस्तृत विश्लेषण की मांग के साथ साथ आलोचनात्मक टिप्पणियां की हैं।

Input your search keywords and press Enter.