fbpx
Now Reading:
Maharashtra Govt Formation :कांग्रेस-NCP ने की जल्द फ्लोर टेस्ट की मांग, अभिषेक मनु सिंघवी ने अजित पवार की चिट्ठी को बताया फ्रॉड
Full Article 2 minutes read

Maharashtra Govt Formation :कांग्रेस-NCP ने की जल्द फ्लोर टेस्ट की मांग, अभिषेक मनु सिंघवी ने अजित पवार की चिट्ठी को बताया फ्रॉड

Maharashtra Politics

महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक उठापटक पर आज भी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है. रविवार को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट की  तीन जजों की बेंच ने आज फिर सुनवाई की तारीख दी थी. साथ ही केंद्र, राज्य, फडणवीस और अजित पवार को नोटिस दिया गया था.

मिली जानकारी के मुताबिक  NCP की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा है कि दोनों पक्ष फ्लोर टेस्ट को सही कह रहे हैं तो फिर इसमें देर क्यों? पुराने आदेश हमारे सामने हैं. उनकी उपेक्षा नहीं की जा सकती. दस्तखत विधायकों के ज़रूर हैं, लेकिन किसी विधायक ने नहीं कहा कि वह बीजेपी को समर्थन दे रहे हैं. यह धोखा है. अजित पवार को नेता चुनने के लिए लिए गए दस्तखत दूसरी चिट्ठी में लगा दिए गए.

साथ ही  NCP, कांग्रेस और शिवसेना के वकील कपिल सिब्बल ने सवाल उठाते हुए कहा है कि 22 नवंबर को एक प्रेस कांफ्रेंस हुई. ऐलान हुआ कि तीन पार्टियां साथ आईं हैं. 7 बजे शाम की बात है. सुबह 5 बजे तक राष्ट्रपति शासन हटाने का फैसला क्यों लिया गया? ऐसी जल्दी क्या थी.

वहीं दूसरी तरफ मुकुल रोहतगी ने कहा कि फ्लोर टेस्ट कभी भी हो सकता है. ये फैसला स्पीकर के ऊपर है. आज वो कह रहे हैं कि उनके पास 54 विधायक हैं, कल मैं भी ये कह सकता हूं. फ्लोर टेस्ट कराना स्पीकर की जिम्मेदारी है, इसमें कोर्ट की जिम्मेदारी क्या है? मुकुल रोहतगी ने कहा कि कोर्ट का कोई सवाल ही नहीं है. यहां पर होर्स ट्रेडिंग का सवाल नहीं है, बल्कि पूरा ग्रुप ही दूसरी ओर चला गया है. अगर राज्यपाल कहते हैं कि आज फ्लोर टेस्ट नहीं होना चाहिए और उन्हें अपना काम करने दिया जाए. इसपर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अभी ये पॉजिशन नहीं है. इस प्रकार के कई केस हैं, जिनमें 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट हुआ है. सॉलिसिटर जनरल ने इसपर जवाब दिया कि ये राज्यपाल का फैसला है, क्या विधानसभा का एजेंडा अदालत तय करेगी.

Input your search keywords and press Enter.