fbpx
Now Reading:
Rajasthan : चित्तौड़गढ़ में बारिश ने बरपाया कहर, नाले में फंसी बस
Full Article 3 minutes read

Rajasthan : चित्तौड़गढ़ में बारिश ने बरपाया कहर, नाले में फंसी बस

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में बीते मंगलवार रात हुई बरसात से कई इलाक़े जलमग्न हो गए. नदी, नालों और सड़कों पर पानी भर जाने से यातायात ठप्प हो गई. इसी बीच एक यात्री बस नाले में फंस गई और बस के अन्दर पानी भरने लगा. काफी मसक्कत के बाद रेस्क्यू टीम की मदद से यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला गया. इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया है. जो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.

बताया जा रहा है कि मंगलवार देर रात हुई तेज बरसात के कारण चित्तौड़गढ़ से कपासन जाने वाला मार्ग पूरी तरह अवरुद्ध हो गया था. इसी बीच यात्रियों से भरी एक बस सड़क के बीचों बीच जाकर बंद हो गई. तो वही दूसरी तरफ नाले का पानी भी सड़क पर आ गया. ऐसे में यात्रियों की सांसे भी अटक गई. पानी का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा था.

Related Post:  रेड अलर्ट पर पटना : पटना का अब भी बुरा हाल, 24 घंटे में फिर बारिश की संभावना, 613 करोड़ रुपये देगी केंद्र सरकार

सुबह जैसे ही लोगों को सड़क पर बस में लोगों के फंसे होने की जानकारी मिली तो उन्होंने प्रशासन को सूचित किया. जिसके बाद पुलिस अधिकारियों में मौके पर पहुँच कर हालात का जायजा लिया और राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया गया. रेस्क्यू टीम की मदद से काफी मसक्कत के बाद यात्रियों को बस से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया.

क्षेत्र के एडीएम मुकेश कुमार कलाल ने बताया, ‘हमारी सिविल डिफेंस की टीम ने अच्‍छा काम किया। बस में सवार सभी 35 लोगों को निकाल लिया गया है। इस मौके पर पुलिस भी मौजूद थी।’ बताया जाता है कि मंगलवार को हुई इस बारिश में यह बस यहां देर रात फंस गई थी।

Related Post:  MiG 21 Crash: ग्वालियर में हुआ हादसा, दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकले

चूंकि इस बस के यात्री स्‍थानीय नहीं थे इसलिए मदद के लिए किसी को बुला नहीं सके। तड़के जब आस-पास रहने वाले लोगों की नजर पड़ी तो उन्‍होंने यात्रियों को पानी में फंसी बस से बाहर निकलने में मदद की।

यात्रियों का कहना है कि बस चालक अनुमान नहीं लगा सका कि सड़क पर कितना पानी भरा है। पानी के बीच में जाकर बस बंद हो गई। चूंकि चारों ओर पानी भरा था इसलिए किसी की भी रात के अंधेरे में बाहर निकलने की हिम्‍मत नहीं हुई।

Related Post:  पानी में डूबी मुंबई, शहर में अलर्ट, समंदर से भी खतरा, उड़ानों में देरी और स्कूल बंद 

मॉनसून की धीमी रफ्तार
गौरतलब है कि इस समय देश में मॉनसून बहुत धीमी गति से आगे बढ़ रहा है। मौसम विभाग के अनुसार 12 साल में यह पहली बार है जब मॉनसून की रफ्तार इतनी कम रही है। इसकी एक प्रमुख वजह चक्रवात वायु भी है, जिसके कारण मॉनसून के बादलों की दिशा पर असर पड़ा। जहां आमतौर पर इस समय तक देश के दो-तिहाई हिस्से तक मॉनसून पहुंच जाता है, वहीं इस बार यह सिर्फ 10-15 प्रतिशत हिस्से को ही छू सका है।

Input your search keywords and press Enter.