fbpx
Now Reading:
CAB प्रदर्शन: गुवाहाटी में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू, 10 जिलों में इंटरनेट भी बंद
Full Article 4 minutes read

CAB प्रदर्शन: गुवाहाटी में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू, 10 जिलों में इंटरनेट भी बंद

Protset against CAB

नागरिकता (संशोधन) विधेयक (Citizen Amedment Bill) को लेकर व्यापक विरोध प्रदर्शन के बीच बिगड़ती कानून व्यवस्था को संभालने के लिए बुधवार को असम के गुवाहाटी में लगाए गए कर्फ्यू को अनिश्चिकाल के लिए बढ़ा दिया गया है. इसके अलावा असम के 10 जिलों में बुधवार की शाम सात बजे से 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दीं गई हैं. हालांकि इसके बाद भी हजारों की तादाद में लोग सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. सेना को भी स्टैंड बाई पर रखा गया है जबकि सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनज़र अर्धसैनिक बलों के 5000 जवानों को भी भेजा गया है.

सेना के पीआरओ लेफ्टिनेंट कर्नल पी खोंगसई ने कहा कि गुवाहाटी में सेना के दो कॉलम तैनात किए गए हैं और वह फ्लैग मार्च निकाल रहे हैं. तिनसुकिया से जानकारी मिली है कि वहां भी सेना तैनात कर दी गई है और वहां भी फ्लैग मार्च निकाले जा रहे हैं. असम के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक कानून और व्यवस्था (Law and Order) मुकेश अग्रवाल ने बताया कि शाम छह बजकर 15 मिनट पर कर्फ्यू लगाया गया था जिसे अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा दिया गया है. उन्होंने कहा, ‘हम समय-समय पर स्थिति की समीक्षा करेंगे और उसी के अनुसार कर्फ्यू (Curfew) हटाने के संबंध में निर्णय लेंगे.’

इससे पहले असम के पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत ने बताया था कि कर्फ्यू बृहस्पतिवार की सुबह सात बजे तक प्रभावी रहेगा. नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी असम की सड़कों पर उतरे. प्रदर्शनकारियों की पुलिस के साथ झड़प हुई और इससे राज्य में अराजकता की स्थिति पैदा हो गई. हालांकि किसी पार्टी या छात्र संगठन ने बंद का आह्वान नहीं किया है. प्रदर्शनकारियों में ज्यादातर छात्र शामिल हैं जिनकी सुरक्षा बलों के साथ झड़प हुई. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया.

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह और राजनीतिक विभाग) कुमार संजय कृष्णा द्वारा जारी एक अधिसूचना के अनुसार लखीमपुर, धेमाजी, तिनसुकिया, डिब्रूगढ़, चराइदेव, शिवसागर, जोरहाट, गोलाघाट, कामरूप (मेट्रो) और कामरूप में इंटरनेट सेवाएं बाधित रहेंगी. अधिसूचना में कहा गया है, ‘इंटरनेट सेवाएं स्थगित रहेंगी क्योंकि ‘फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर और यू ट्यूब जैसे सोशल मीडिया मंचों का इस्तेमाल अफवाहों को फैलाने के लिए किया जा सकता है और तस्वीरों तथा वीडियो के जरिये ऐसी सूचनाओं का आदान-प्रदान किये जाने की आशंका है जिससे लोगों की भावनाएं भड़क सकती है या कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती है.’

केन्द्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बुधवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ‘भ्रामक’ बयान जारी करके पूर्वोत्तर के लोगों को भड़काने के लिए नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) का इस्तेमाल कर रहे हैं. सिंह ने एक बयान में कहा कि कांग्रेस ने आठ पूर्वोत्तर राज्यों में अपना जनाधार खो दिया है और अब गांधी भाजपा के तेजी से बढ़ते प्रभाव के बाद अपनी पार्टी की स्थिति फिर से ठीक करने के लिए मुट्ठीभर असंतुष्ट समूहों से सहारे की तलाश कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी भ्रामक बयान जारी करके पूर्वोत्तर के लोगों को भड़काने का प्रयास कर रहे हैं.’

सिंह ने कहा कि उनकी यह रणनीति कभी सफल नहीं होगी क्योंकि लोग अब इतने जागरूक हो गये है कि वे कांग्रेस के जाल में नहीं फसेंगे. यही कारण है कि कांग्रेस सदस्यों की संख्या लोकसभा में घट गई है. उन्होंने कहा, ‘देखो, कौन बात कर रहा है? क्या कोई श्री राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को बता सकता है कि प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने अपने पहले पांच साल के कार्यकाल में 30 से अधिक बार पूर्वोत्तर का दौरा किया, जो पिछले लगभग 50 वर्षों में कांग्रेस के सभी प्रधानमंत्रियों की यात्राओं की कुल संख्या से भी ज्यादा हो सकती है.’

Input your search keywords and press Enter.