fbpx
Now Reading:
बिहार बच्चों की मौत मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के खिलाफ सीजेएम कोर्ट में मामला दर्ज
Full Article 2 minutes read

बिहार बच्चों की मौत मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के खिलाफ सीजेएम कोर्ट में मामला दर्ज

पटना : बिहार में एक्यूट एन्सेफलाइटिस सिंड्रोम (एइएस) से मुजफ्फरपुर में बच्चों की हो रही मौत का आंकड़ा 100 से अधिक होने के बाद सामाजिक कार्यकर्ता ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ सीजेएम कोर्ट में परिवाद दायर किया गया है.

सामाजिक कार्यकर्ता तमन्ना हाशमी ने मुजफ्फरपुर में बच्चों की हुई मौतों को लेकर सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के खिलाफ सीजेएम कोर्ट में परिवाद दायर किया है. मामले की सुनवाई के लिए 24 जून की तारीख तय कर दी गयी है.

सामाजिक कार्यकर्ता तमन्ना हाशमी ने मीडिया से बात करते हुए उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा है कि बिहार में हुई बच्चों की मौत को लेकर सरकार की ओर से कौन-कौन-से कदम उठाये गये हैं. जागरूकता को लेकर अब तक क्या-क्या हुआ है. उन्होंने कहा कि जागरूकता को लेकर कार्यक्रम चलाये गये होते, तो बच्चों की मौत की संख्या काफी कम होती.

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे के साथ हर्षवर्धन ने राज्य के स्वामित्व वाले श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) का दौरा किया. जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि मंत्रियों ने स्थिति का जायजा लेने के लिए डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की थी.

बहरहाल, मोतिहारी में एसकेएमसीएच और निजी केजरीवाल अस्पताल में एईएस के लक्षणों के साथ नए मामलों का सामने आना जारी है. चमकी बुखार से पीड़ित मासूमों की सबसे ज्यादा मौतें मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच अस्पताल में हुई है. चमकी बुखार के रोकथाम को लेकर अब तक जो भी प्रयास किए जा रहे हैं वो स्थिति को देखते हुए नाकाम साबित हो रहे हैं.

मुज़फ़्फ़रपुर अपडेट 10 बजे की बुलेटिन के अनुसार…
मुज़फ़्फ़रपुर में 101
मोतिहारी 10
वैशाली 15
सीतामढ़ी 2
समस्तीपुर 1
कुल मौत 129

Input your search keywords and press Enter.