fbpx
Now Reading:
बिहार में चमकी का कहर जारी, अस्पताल प्रशासन पर फूटा मरीजों के परिजनों का गुस्सा

बिहार में चमकी का कहर जारी, अस्पताल प्रशासन पर फूटा मरीजों के परिजनों का गुस्सा

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 84 बच्चे दम तोड़ चुके हैं. आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने एसकेएमसीएच अस्पताल पहुंचकर हालात का जायजा लिया. लेकिन उनकी मौजूदगी के दौरान ही दो बच्चों की मौत हो गई. चमकी बुखार से मासूमों की मौत के आंकडे लगातार बढ़ते जा रहे हैं. जिसको लेकर परिजनों में अस्पताल प्रशासन को लेकर काफी गुस्सा है.

एसकेएमसीएच में भर्ती एक मरीज के परिजन का कहना है कि उसके भाई को यहां दो महीने से भर्ती किया गया है.लेकिन ठीक से उसकी देखभाल नही की जा रही है. इसके साथ ही उसका कहना है किअगर सरकार पुख्ता इंतजाम नहीं कर पा रही है तो उसको भी मार दे. अस्पताल में भर्ती ज्यादातर मरीजों के परिजनों का यही हाल है. लोग अस्पताल प्रशासन से इलाज का समुचित प्रबंध करने की गुहार लगाते नज़र आ रहे हैं.

वहीं चमकी बुखार पर एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया का कहना है कि इस मौसम में बिहार के मुजफ्फरपुर इलाके में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम की खबरें आती हैं. लेकिन इसे लेकर जागरूता फ़ैलाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि फिलहाल हमारा मकसद इस बीमारी से होने वाली मौतों को रोकना है. इस संबंध में केंद्र सरकार, राज्य सरकार और एम्स मिलजुल कर इस बीमारी का सामना करने की रणनीति बनाने में जुटे हैं. राज्य सरकार को एम्स सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराएगा.

Related Post:  बिहार: अररिया जिले में गाय चोरी के शक में व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या, भीड़ पर हत्या का मामला दर्ज
Input your search keywords and press Enter.