fbpx
Now Reading:
चंद्रयान 2: क्या होती है सॉफ्ट लैंडिंग? अंतरिक्ष में नया रिकॉर्ड, आज देर रात चांद की सतह पर होगा भारत का नाम
Full Article 3 minutes read

चंद्रयान 2: क्या होती है सॉफ्ट लैंडिंग? अंतरिक्ष में नया रिकॉर्ड, आज देर रात चांद की सतह पर होगा भारत का नाम

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के वैज्ञानिकों की मेहनत का नतीजा आज सामने होगा और इस पल के साक्षी खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बनेंगे. पीएम मोदी शुक्रवार देर रात को ही बेंगलुरु के ISRO सेंटर में पहुंचेंगे, जहां पर वह स्कूली बच्चों के साथ इस पल को देखेंगे.

जिस पल का इंतजार पूरा देश कर रहा था वह अब करीब आ गया है. चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर जब आज चांद पर लैंड करेगा तो शुरुआती कुछ घंटे काफी महत्वपूर्ण रहने वाले हैं. लैंडिंग की प्रक्रिया देर रात 1 बजे के आसपास शुरू होगी, जो 7 सितंबर सुबह तक जारी रहेगी. और यही पल धड़कन बढ़ाने वाले होंगे. खास बात ये भी है कि भारत पहली बार अपने किसी यान की सॉफ्ट लैंडिंग कराने जा रहा है.

01.30 से 01.40 AM:

चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर 35 KM. की ऊंचाई से चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरना शुरू करेगा. तब इसकी रफ्तार 200 मीटर प्रति सेकंड होगी. यह इसरो वैज्ञानिकों के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण काम होगा. क्योंकि ऐसा पहली बार होगा जब कोई देश चांद के दक्षिणी ध्रुव पर होगा.

01:55 AM:

विक्रम लैंडर दक्षिणी ध्रुव पर मौजूद 2 क्रेटर मैंजिनस-C और सिंपेलियस-N के बीच मौजूद मैदान में उतरेगा. करीब 6 KM की ऊंचाई से लैंडर 2 मीटर प्रति सेकंड की गति से चांद की सतह पर उतरेगा. इस दौरान कुल पंद्रह मिनट का समय लगेगा.
03.55 AM:

चांद पर लैंडिंग के वक्त करीब 2 घंटे के बाद विक्रम लैंडर का रैंप खुलेगा. इसी के जरिए 6 पहियों वाला प्रज्ञान रोवर चांद पर उतरेगा.

05.05 AM: 7 सितंबर सुबह

प्रज्ञान रोवर का सोलर पैनल खुलेगा. सोलर पैनल के जरिए वह ऊर्जा हासिल करेगा.

05.10 AM:

प्रज्ञान रोवर चांद की सतह पर चलना शुरू करेगा. वह 1 सेंटीमीटर प्रति सेकंड की गति से चांद की सतह पर 14 दिनों तक यात्रा करेगा. इस दौरान वह 500 मीटर की दूरी तय करेगा.

चंद्रयान 2 में क्या-क्या?

चंद्रयान-2 तीन हिस्सों से मिलकर बना है

पहला- ऑर्बिटर

दूसरा- विक्रम लैंडर

तीसरा- प्रज्ञान रोवर.

कुछ खास बातें…

– विक्रम लैंडर के अंदर ही प्रज्ञान रोवर है, जो सॉफ्ट लैंडिंग के बाद बाहर निकलेगा.

– चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर चांद से करीब 140 किलोमीटर ऊपर चक्कर लगाता रहेगा. इसके जरिए ऑर्बिटर 2 साल तक चांद की तस्वीरें भेजेगा.

– रूस, अमेरिका और चीन के बाद इस कामयाबी को हासिल करने वाला चौथा देश बन जाएगा भारत.

– चंद्रयान-2 की लैंडिंग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ 74 बच्चे भी देखेंगे. इनका चयन क्विज के जरिए हुआ है.

Input your search keywords and press Enter.