fbpx
Now Reading:
सलाम आपको ! दर्द से कराह रहे शख्स को CRPF जवानों ने पहुंचाया अस्पताल, 5 किमी लंबा था रास्ता

सलाम आपको ! दर्द से कराह रहे शख्स को CRPF जवानों ने पहुंचाया अस्पताल, 5 किमी लंबा था रास्ता

झारखंड में पोलिंग बूथ पर तैनात एक CRPF जवान ने चुनाव अधिकारी को सही समय पर अस्पताल पहुंचाकर उसकी जान बचा ली थी। जवान ने बीमार पोलिंग अफसर को कंधे पर लेकर 3 किलोमीटर दूर अस्पताल पहुंचाया था। एक बार फिर CRPF जवान एक शख्स के लिए भगवान बनकर आए और उसकी ज़िन्दगी बच गई।

इस बार मामला छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर का है। बीजापुर में एक शख्स ट्रैक्टर से गिर कर बुरी तरह घायल हो गया था। उसकी हालत बिगड़ती जा रही थी और उसे अस्पताल पहुंचाने के लिए उस इलाके में कोई संसाधन नहीं था। ऐसे में सीआरपीएफ जवानों ने उसे अपने कंधे पर लादकर पांच किलोमीटर तक पैदल चले और उसे अस्पताल तक पहुंचाया।

Related Post:  जम्मू कश्मीर शांतिपूर्ण ईद: नमाजियों से गले मिले पुलिसवाले, बांटी मिठाई, सामने आई तस्वीर

दरअसल, छत्तीसगढ़ के बीजापुर में एक शख्स ट्रैक्टर से गिर गया और वह घायल हो गया, जिसके बाद सीआरपीएफ के जवानों ने उसे खाट (चारपाई) पर सुलाया और अपने कंधे पर लादकर अस्पताल ले गए। अस्पताल में उस शख्स का इलाज चल रहा है और अब वह स्थिर बताया जा रहा है। खास बात है कि सीआरपीएफ जवानों ने पांच किलोमीटर तक उसे अपने कंधे पर लादकर अस्पताल पहुंचाया।

ऐसा पहली बार नहीं है की ये जवान फ़रिश्ते बनकर मदद के लिए पहुंचे हैं। झारखंड में मतदान के दौरान गुमला जिले में सरंगो के बूथ नंबर 179 पर चुनाव ड्यूटी में लगे अफसर लियोनार्ड लकड़ा की नाक से खून निकलने लगा था और वे बेहोश होकर जमीन पर गिर गए। तब भी वहां पर तैनात सीआरपीएफ की 226 बटालियन के जवान अनिल शर्मा उन्हें 3 किमी दूर स्थित अस्पताल ले गए। यह इलाका नक्सल प्रभावित है। इसलिए शर्मा के साथ उनकी सुरक्षा के लिए कुछ और जवान अस्पताल गए। अस्पताल में तैनात डॉक्टर ने जवान की तारीफ की। उन्होंने बताया कि गर्मी की वजह से लकड़ा बेहोश हो गए थे।

Related Post:  महबूबा मुफ्ती की धमकी, अनुच्छेद 35 ए से छेड़छाड़ करना बारूद में आग लगाने जैसा होगा

कश्मीर में भी बचाई थी जान : चुनाव ड्यूटी पर तैनात एक कश्‍मीरी मतदान अधिकारी के लिए भी CRPF का जवान देवदूत साबित हुआ मतदान के दौरान चुनाव अधिकारी को हार्ट अटैक आ गया। इसी दौरान एक सीआरपीएफ जवान ने अर्द्धसैनिक बलों के एक डॉक्‍टर से फोन पर बात की और अधिकारी को सीपीआर देकर उसकी जान बचा ली।

Input your search keywords and press Enter.