fbpx
Now Reading:
Dusshera 2019: जानें क्यों मनाते हैं दशहरा, क्या है विजयादशमी का महत्व
Full Article 2 minutes read

Dusshera 2019: जानें क्यों मनाते हैं दशहरा, क्या है विजयादशमी का महत्व

हिन्दू धर्म में दशहरा का विशेष महत्व है। शारदीय नवरात्रों के 10वें दिन यानि विजयादशमी को इसका आयोजन होता है। इस बार पूरे देश में विजयादशमी का पर्व 8 अक्टूबर को मनाया जाएगा। दशहरा त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है। नवरात्रि के खत्म होने बाद दशमी तिथि पर यह पर्व पूरे देश में पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है।

भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था। वहीं, विजयादशमी पर देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त किया था। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसीलिये इस दशमी को ‘विजयादशमी’ के नाम से जाना जाता है।

Related Post:  अमृतसर के दशहरे का मातम सालभर बाद भी कम नहीं, न दोषियों को सजा, न पीड़ितों को नौकरी

पौराणिक कथाओं के अनुसार जब भगवान 14 वर्षों के वनवास में थे तो लंकापति रावण ने उनकी पत्नी माता सीता का अपहरण कर उन्हें लंका की अशोक वाटिका में बंदी बना कर रखा लिया था। श्रीराम ने अपने छोटे भाई लक्ष्मण, भक्त हनुमान और वानर सेना के साथ रावण की सेना से लंका में ही पूरे नौ दिनों तक युद्ध लड़ा। मान्यता है कि उस समय प्रभु राम ने देवी माँ की उपासना की थी और उनके आशीर्वाद से आश्विन मास की दशमी तिथि पर अहंकारी रावण का वध किया था।

Related Post:  Dussehra 2019: क्या आप जानते हैं दशहरे से जुड़ी ये रोचक बातें

एक दूसरी कथा के अनुसार असुरों के राजा महिषासुर ने अपनी शक्ति के बल पर देवताओं को पराजित कर इन्द्रलोक सहित पृथ्वी पर अपना अधिकार कर लिया था। भगवान ब्रह्रा के दिए वरदान के कारण किसी भी कोई भी देवता उसका वध नहीं कर सकते थे। ऐसे में त्रिदेवों सहित सभी देवताओं ने अपनी शक्तियों से देवी दुर्गा की उत्पत्ति की। इसके बाद देवी ने महिषासुर के आंतक से सभी को मुक्त करवाया। मां की इस विजय को ही विजय दशमी के नाम से मनाया जाता है।

Related Post:  राजस्थान: टोंक जिले के मालपुरा में दशहरे पर तनाव के बाद मालपुरा में कर्फ्यू, इंटरनेट सेवाएं बंद
Input your search keywords and press Enter.