fbpx
Now Reading:
गुलामनबी आजाद ने सरकारी दावों पर उठाए सवाल, कहा- हालात सामान्य तो श्रीनगर जानें क्यों नहीं दे रहे?
Full Article 2 minutes read

गुलामनबी आजाद ने सरकारी दावों पर उठाए सवाल, कहा- हालात सामान्य तो श्रीनगर जानें क्यों नहीं दे रहे?

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद आज पहली बार 11 विपक्षी नेता जम्मू कश्मीर की यात्रा पर जा रहे हैं. हालांकि, प्रशासन ने विपक्षी दलों के नेताओं को श्रीनगर शहर एंट्री की इजाजत ना देने का फैसला किया है. ऐसी खबर है कि इन सभी नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से ही वापस भेजा जाएगा.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद को दो बार श्रीनगर एयरपोर्ट से लौटा दिया गया. लेकिन आज 11 विपक्षी नेताओं के नेतृत्व में एक दल जम्मू कश्मीर की यात्र पर जा रहे हैं. हालांकि, प्रशासन ने विपक्षी दलों के नेताओं को श्रीनगर शहर एंट्री की इजाजत ना देने का फैसला किया है. इन सभी नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से ही वापस भेजा जाएगा.

Related Post:  जम्मू कश्मीर के शोपियां में आतंकियों से मुठभेड़ में एक जवान शहीद एक जख्मी

श्रीनगर रवाना होने से पहले कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने जम्मू कश्मीर में शांति के दावों पर सवाल उठाए. बता दें कि इससे पहले जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राहुल गांधी को जम्मू कश्मीर आकर यहां की सामान्य स्तिति देखने का आमंत्रण दिया था. हालांकि, बाद में उन्होंने कहा कि वह उपयुक्त समय पर राहुल गांधी को राज्य में बुलाएंगे.

गुलाम नबी आजाद का बयान
गुलाम नबी आजाद ने कहा, ”हालात सामान्य हैं तो हमें रोक क्यों रहे हैं? मुझे मेरे घर क्यों नहीं जाने दे रहे? उमर अब्दुल्ला, फारुख अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को घूमने क्यों नहीं दे रहे हैं. मंत्री सासंदों को नहीं जा रहे हैं, विपक्ष के नेताओं को नहीं जाने देते, इसका मतलब कुछ छिपा रहे हैं. क्या छिपा रहे हैं यह देश को बताना चाहिए.” बीजेपी की ओर से राजनीति के सवाल पर आजाद ने कहा कि राजनीति करनी थी इसीलिए तो राज्य के टुकड़े किए गए.

Related Post:  Live Update : निर्मला सीतारामण ने राज्यसभा में पेश किया आर्थिक सर्वेक्षण, कल पेश होगा बजट

वहीं, बीजेपी ने विपक्षी नेताओं के जम्मू कश्मीर दौरे पर सवाल उठाए हुए इसे राजनीतिक पर्यटन का नाम दिया है. केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ”राजनीतिक पर्यटन नहीं होना चाहिए, आज जम्मू कश्मीर और लद्दाख के लोग तरक्की और विश्वास के रास्ते पर बढ़ रहे हैं. लेकिन आप अलगाववादियों के तुष्टिकरण के लिए राजनीतिक पर्यटन के लिए जा रहे हैं. अलगावादियों से हमदर्दी पूरे देश के लिए सिरदर्दी नहीं होनी चाहिए.”

1 comment

  • anilsingh

    […] post गुलामनबी आजाद ने… appeared first on Hindi News, हिंदी […]

Input your search keywords and press Enter.