fbpx
Now Reading:
खुद के अपहरण की फोटो भेज पत्नी से मांगी फ‍िरौती, 11 दिन तक किया नाटक, फिर हुआ ये… 
Full Article 3 minutes read

खुद के अपहरण की फोटो भेज पत्नी से मांगी फ‍िरौती, 11 दिन तक किया नाटक, फिर हुआ ये… 

इंदौर: पत्नी से चार लाख की फिरौती वसूलने के लिए एक पत‍ि ने खुद के अपहरण का नाटक रच द‍िया. वह 11 द‍िन तक पुल‍िस और घर वालों को बेवकूफ बनाता रहा लेक‍िन आख‍िर में पुलिस ने सारे खेल का खुलासा कर द‍िया और आरोपी व्यक्ति को जयपुर के होटल से बरामद कर लिया.

इंदौर के खजराना थाने पर 11 अक्टूबर को भारती चौधरी निवासी न्यू हरसिद्धि नगर खजराना इंदौर द्वारा शिकायत की गई थी क‍ि उसका पति मनोज कुमार (30) पिता कुंवरपाल सिंह चौधरी का 10 अक्टूबर दोपहर 1:00 बजे  से गुमशुदा हो गए हैं. वह किराने की दुकान से सामान लाने का बोलकर गए थे लेक‍िन वापस घर नहीं आए. आसपास तलाश की लेकिन वह नहीं मिले. शिकायत पर पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज करते हुए युवक की तलाश शुरू कर दी.

पुलिस युवक को तलाश ही कर रही थी क‍ि दो दिन बाद फरियादी भारती चौधरी अपनी भाभी रीना चौधरी के साथ थाने पहुंची. भारती ने पुलिस को बताया की उसकी भाभी के मोबाईल पर उसके पति मनोज चौहान के वाॅट्सएप से मैसेज आया है जिसमें पति मनोज का हाथ-मुंह बंधा फोटो आया है. फरियादी के पास एंड्राइड मोबाइल न होने से उसके द्वारा ये फोटो पड़ोसी रवि के मोबाइल पर मंगाया गया.

मनोज द्वारा अपने ही नंबर से अपनी पत्नी भारती से फोन कर बोला गया कि मुझे किडनैप कर लिया है तथा किडनैपर चार लाख रुपये की मांग रहे हैं. भाई से बोल कर उसके अकाउंट में पैसा जमा करवा दें नहीं तो उसे मार देंगे. शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात आरोपि‍यों के विरुद्ध मनोज को बंधक बनाकर फिरौती मांगने के संबंध में धारा 364-ए भादवि के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया.
प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रुचिवर्धन मिश्र द्वारा एक टीम गठित की गई.  टीम ने जब बारीकी से जांच की तो पता चला की अपहर्ता स्वयं अपने मोबाइल के वाॅट्सएप मैसेजों के माध्यम से अलग-अलग समय व दिनांकों को परिवारजनों के मोबाइल पर मैसेज कर रहा था.

अपहर्ता कभी स्वयं का मुंह बना हुआ, कभी सि‍र पर पट्टी बंधी हुई, कभी जमीन पर पड़ा हुआ तथा कभी कपड़े में बंधे हुए फोटो मैसेज करता था तथा अपनी पत्नी के मोबाइल पर फोन कर पैसा जल्द डलवाने तथा किडनैपर को बहुत खतरनाक बताता था तथा बोलता था कि किडनैपर उसके साथ बहुत मारपीट कर रहे हैं. जल्दी पैसा डालो नहीं तो वह मार डालेंगे और फोन कट जाता था.

प्रकरण में लगातार वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में अपहर्ता की तलाश के प्रयास किए जा रहे थे. अपहर्ता के एटीएम से दिल्ली, मथुरा व जयपुर के एटीएम से पैसे निकाले गए थे. प्रकरण में सभी कड़ियों को जोड़कर तथा मुखबिर से प्राप्त सूचना के आधार पर अपहर्ता मनोज का जयपुर राजस्थान में होने का पता चला.  सुचना मिलते ही पुलिस टीम तत्काल जयपुर राजस्थान के लिए रवाना हुई, जहां टीम द्वारा अपहर्ता को जयपुर की एक होटल से बरामद किया गया.

Input your search keywords and press Enter.