fbpx
Now Reading:
यहां होली पर मनाया जाता है मातम..वजह आपको हैरान कर देगी

यहां होली पर मनाया जाता है मातम..वजह आपको हैरान कर देगी

होली को हर्षो उल्लास का त्योहार माना जाता है. रंगों के इस पर्व को हर उम्र के लोग बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं. लेकिन देश में एक ऐसी जगह है जहां होली पर मातम छाया रहता है. यही नहीं होली पर यहां लोगों के घर में चूल्हा तक नहीं जलता. तो चलिए आपको बताते है पूरा माजरा…

दरअसल राजस्थान के पुष्करणा ब्राम्हण समाज के चोवाटीया जोशी जाति के लोगों के घर होली के दिन सन्नाटा पसरा होता है. होलाष्टक से होली तक इस समुदाय के लोग घरों में चूल्हा तक नहीं जलाते.खाने-पीने की सारी सामग्री नाते-रिश्तेदारों के घरों से आती है. इस समाज के लोग होली के दौरान वे सभी रस्में निभाते हैं जो घर में किसी की मृत्यु होने पर निभाई जाती हैं. हालाकिं इसके पीछे जो तर्क दिए गए हैं उन्हें सुनकर रोंगटे सहज ही खड़े हो जाते हैं.

बताया जाता है कि वर्षों पहले इस समुदाय की एक महिला अपने बच्चे को गोद में लेकर परिक्रमा कर रही थी. तभी अचानक उस महिला का बच्चा हाथ से छूटकर होलिका की आग में जा गिरा. जिसके बाद अपने बच्चे को बचाने के लिए वह महिला भी आग में कूद गई और दोनों की जलकर मौत हो गई. चोवाटीया जोशी जाति के जानकारों के मुताबिक मरते वक्त उस महिला ने कहा था कि अब से यहां होली पर कोई जश्न नहीं मनाया जायेगा. तब से लेकर आज तक यह परंपरा चली आ रही है. यही वजह है कि आज भी यहां होली के मौके पर मातम छाया रहता है.

Input your search keywords and press Enter.