fbpx
Now Reading:
गृह मंत्री अमित शाह का कांग्रेस पर तंज, कहा- उनमें विपक्ष को एकजुट करने की क्षमता नहीं बची
Full Article 4 minutes read

गृह मंत्री अमित शाह का कांग्रेस पर तंज, कहा- उनमें विपक्ष को एकजुट करने की क्षमता नहीं बची

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस में अब विपक्ष को एकजुट करने की क्षमता नहीं बची है. उन्होंने ये बात संसद में तीन तलाक संबंधी विधेयक पारित होने के संदर्भ में कही. संसद में विधेयक के पारित होने को कई मायनों में महत्वपूर्ण बताते हुए शाह ने कहा, “शाहबानो प्रकरण के समय तीस साल पहले कांग्रेस का जो रुख था वही रुख इस बार भी संसद में देखने को मिला है.”

शाह ने शनिवार को कुछ अखबारों में प्रकाशित अपने लेख में टिप्पणी की है कि तीन तलाक संबंधी विधेयक पारित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम इतिहास में राजा राम मोहन राय और ईश्वरचंद्र विद्यासागर जैसे “समाज सुधारकों” की श्रेणी में रखा जाएगा.

गृह मंत्री ने अपने लेख में कहा है कि 30 जुलाई भारत के संसदीय इतिहास में अहम पड़ाव है. उन्होंने कहा, “राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद तीन तलाक कानून प्रभाव में आ गया है. मुस्लिम महिलाओं को इस कुप्रथा के दंश से सरंक्षण मिलेगा.” उन्होंने कहा कि इससे महिलाओं के सम्मान, स्वाभिमान और गरिमायुक्त जीवन के प्रति मोदी सरकार की प्रतिबद्धता दिखी है.

Related Post:  Maharashtra Election 2019 Live Updates : गडकरी ने किया मतदान, गोयल बोले- बीजेपी गठबंधन जीतेगा 225 सीट

आज से 30 साल पहले ये अवसर कांग्रेस के पास था- अमित शाह

गृह मंत्री ने लेख में दावा किया, “एक तथ्य यह भी उभर कर सामने आया है कि विपक्षी दलों को एकजुट करने की कांग्रेस की क्षमत कमजोर हुई है.” लेख में कहा गया है कि तीन तलाक कानून जनसरोकार तथा सामाजिक सुधार से जुड़ा विषय था, इसलिए कई गैर राजग दलों ने भी इस विधेयक के पारित होने में परोक्ष या अपरोक्ष रूप से सहयोग दिया.

शाह के अनुसार, “आज से तीन दशक पूर्व एकबार यह अवसर आया था जब शाहबानो मामले में 400 से अधिक सांसदों वाली कांग्रेस पार्टी मुस्लिम महिलाओं को इस दंश से मुक्त करा सकती थी. लेकिन मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, मौलवियों और वोट बैंक की राजनीति के दबाव में (तत्कालीन) प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने अदालत के आदेश के विपरीत फैसला लिया.” उन्होंने लेख में कहा है कि आज के 30 साल पहले कांग्रेस का जो रुख था, वही वोट बैंक की राजनीति का रुख इस बार भी संसद में हुई चर्चा और वोटिंग में देखने को मिला है जो उनकी तुष्टिकरण की राजनीति का चरित्र दर्शाता है.

Related Post:  दूसरा कश्मीर की समस्या दुनिया की सबसे पुरानी समस्याओं में से एक है जिसका हल होना ही चाहिए..

गृह मंत्री ने कहा कि इस विधेयक ने कथित उदारवादियों की पोल खोल दी

गृह मंत्री ने कहा कि इस विधेयक ने कथित उदारवादियों की भी पोल खोल दी. लेख में उन्होंने कहा है, “महिला अधिकारों के लिए आए दिन आंदोलन करने वाले उदारवादी खेमे ने मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों पर या तो चुप्पी साध ली या इसका विरोध किया. इससे साबित होता है कि उनकी उदारवादिता राजनीति स्वार्थ से प्रेरित है.”

शाह ने कहा कि यह हमें समझना होगा कि तीन तलाक के खिलाफ महिलाओं ने लंबी लड़ाई लड़ी, वे किसी राजनीतिक दल से प्रभावित नहीं थीं, बल्कि सामान्य महिलाएं थीं. केवल मुस्लिम महिलाओं के लिए सरकार की ओर से कदम उठाए जाने के विपक्ष के सवाल के जवाब में शाह ने कहा है कि इससे पूर्व अन्य धर्मों में भी आवश्यक सुधार किए गए हैं चाहे वह बाल विवाह का कानून हो, हिन्दू विवाह अधिनियम हो, दहेज़ प्रथा के विरुद्व कानून हो या ईसाई अधिनियम हो, इस तरह के सुधार सब धमों में किए जाते रहे हैं.

Related Post:  बीजेपी के तालाब से निकले कमलनाथ के नाम वाले दो कमल, अमित शाह ने फोन घुमाया

तीन तलाक के मामले में दंड के प्रावधान को भी सही करार देते हुए शाह ने कहा कि पहले भी दिवानी मामलों में दंड का प्रावधान किया गया है. गौरतलब है कि राज्यसभा में बहुमत संख्या बल नहीं रखने वाली नरेंद्र मोदी सरकार इस हफ्ते मंगलवार को कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों की आपत्तियों के बावजूद उच्च सदन में तीन तलाक संबंधी विधेयक को पारित कराने में सफल रही. लोकसभा इस विधेयक को पहले ही पारित चुकी थी.

Input your search keywords and press Enter.