fbpx
Now Reading:
बिस्तर पर ये लड़कियां कराती थी तबादला, दिए जाते थे करोड़ों के टेंडर
Full Article 5 minutes read

बिस्तर पर ये लड़कियां कराती थी तबादला, दिए जाते थे करोड़ों के टेंडर

Honey Trap

मध्यप्रदेश में इंदौर और भोपाल में हनी ट्रैप का हाईप्रोफाइल मामला सामने आया है। इस मामले में अब तक पांच लड़कियों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि तीन युवकों से भी पूछताछ की जा रही है। बताया जा रहा है कि इस हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट में कई बड़े अफसर और नेताओं के नाम भी सामने आये हैं। ये नेता पूर्व सरकार में बड़े ओहदे पर थे और इन लड़कियों की सरगना सीधे नेता जी से संपर्क में थी। सूत्र बताते हैं कि इन लड़कियों का रसूख इतना था कि कई बड़े अफसर अपना तबादला और पोस्टिंग कराने इन लड़कियों के सरगना तक जाते थे। सूत्रों कि मानें तो एक एक तबादले के बदले इन अधिकारियों से करोड़ों वसूले जाते थे, बताया जा रहा है कि तबादले से मिले पैसों का एक बड़ा हिस्सा नेताओं तक पहुँचाया जाता था।

बुधवार को इंदौर एटीएस और मध्यप्रदेश पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 3 लड़कियों को भोपाल से गिरफ्तार किया था। वहीं, गुरुवार सुबह 2 लड़कियों को इंदौर से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस और खुफिया विभाग हिरासत में लेकर इनसे पूछताछ कर रही है। पुलिस अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि इनके खिलाफ इंदौर में शिकायत दर्ज की गई थी। इंदौर पुलिस की सूचना पर भोपाल पुलिस और ATS ने अभियान चलाकर इन्‍हें पकड़ा है।

तफ्तीश में सामने आया है कि पकड़ी गयीं ये लड़कियां अश्लील वीडियो बनाकर इंदौर के एक प्रभावशाली शख्स को ब्लैक मेल कर रहीं थीं। इंदौर एटीएस के इनपुट के आधार पर इन्हें बुधवार शाम गोविंदपुरा थाना लाया गया जहां इनसे पूछताछ की जा रही है। दरअसल, हनीट्रेप की एफआईआर इंदौर क्राइम ब्रांच में दर्ज हुई थी। जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है। एफआईआर किसने करवाई है और पकड़ी गई महिलाएं कौन हैं पुलिस इसकी जानकारी नहीं दे रही है।

यह पहला मौका नहीं है जब मध्यप्रदेश में हनीट्रैप में अश्लील वीडियो बनाकर ब्लैक मेल किया गया है। इससे पहले भी कई मामले मध्यप्रदेश में आ चुके हैं, जिसमें सेना के जवान से लेकर मध्यप्रदेश के कई अफसर घेरे में आ चुके हैं।

आपको बता दें कि इंदौर के पलासिया थाने में इस मामले को लेकर एफआईआर दर्ज की गई थी. जिसके बाद इंदौर पुलिस की निशानदेही पर ही एटीएस ने बड़ी कार्रवाही करते हुए बड़े पैमाने पर धरपकड़ शुरू कर दी. गिरफ़्तारी के बाद युवतियों से गोविंदपुरा थाने में कई घंटों तक पूछताछ भी की गई। सूत्रों के मुताबिक इंदौर नगर निगम के एक अधिकारी को युवतियों ने फंसाया और ब्लैकमेल कर 2 करोड़ रुपये की मांग करते हुए लगातर धमकियां दे रही थीं.

दरअसल इंदौर नगर निगम इंजीनियर ने पलासिया थाने में शिकायत दर्ज कराते हुए कहा था कि भोपाल की श्वेता जैन नाम की महिला ब्लैकमेल कर रही है और साथ ही 2 करोड़ रुपये की मांग कर रही है. जिसके बाद पुलिस ने क्राइम ब्रांच और एटीएस से संपर्क किया और श्वेता जैन की तलाश शुरू की, जिसके बाद भोपाल के रिवेरा टाउन में श्वेता जैन की लोकेशन मिली। पुलिस ने सबसे पहले रिवेरा टाउन से श्वेता जैन को गिरफ्तार किया। जिसके बाद दो अन्य युवतियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ़्तारी के बाद तीनों युवतियों को भोपाल पुलिस अशोका गार्डन थाने लेकर आई, जहां थोड़ी देर पूछताछ के बाद पुलिस गोविंदपुरा थाने रवाना हो गई।

भोपाल पुलिस ने रात में करीब 3 घंटे तक पूछताछ की। देर रात करीब 1 बजे एटीएस की टीम इंदौर से भोपाल पहुंची। एटीएस की टीम ने दोनों श्वेता जैन और बरखा भटनागर से सवाल किए। पूछताछ के बाद एटीएस की टीम रात करीब 3:40 पर दोनों श्वेता जैन और बरखा भटनागर को साथ लेकर इंदौर रवाना हो गई और सुबह करीब 5:50 पर इंदौर के महिला थाने पहुंची, जहां 6 बजे से इन्वेस्टिगेशन टीम ने फिर शुरू की पूछताछ। तीनों युवतियों ने 2 और लड़कियों के नाम बताए, जिसके बाद पुलिस ने इंदौर से करीब 6:45 पर सीमा और आरती को गिरफ्तार किया। आरती के पास से पुलिस ने एक लग्जरी कार भी बरामद की। फिलाहाल, पांचों युवतियों को इंदौर के महिला थाने में रखा गया है। जहां एटीएस , क्राइम ब्रांच और पुलिस की ज्वॉइंट टीम इनसे पूछताछ कर रही है।

बताया जा रहा है कि ये युवतियां भोपाल में कुछ नेताओं और अधिकारियों को भी अपना शिकार भी बना चुकी हैं, लेकिन मामला हाई प्रोफाइल होने के चलते पुलिस कुछ भी कहने से बच रही है. तो वहीं एक हाईप्रोफाइल सोसायटी में बने प्रदेश के एक पूर्व मंत्री के बंगले से हुई गिरफ़्तारी के बाद सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गई है।

Input your search keywords and press Enter.