fbpx
Now Reading:
अमेरिकी समक्ष से मिले भारत के विदेश मंत्री बोले- कश्मीर भारत-PAK के बीच का मसला
Full Article 2 minutes read

अमेरिकी समक्ष से मिले भारत के विदेश मंत्री बोले- कश्मीर भारत-PAK के बीच का मसला

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कश्मीर मसले पर बयान दिया है, जिससे ये मुद्दा फिर चर्चा में है. इस बीच  भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने शुक्रवार सुबह बैंकॉक में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से मुलाकात की. इस मुलाकात में दोनों राष्ट्रों के प्रतिनिधियों के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई.

इस मुलाकात में एस. जयशंकर ने कश्मीर मसले पर भी भारत का रुख अमेरिका को बताया और कहा कि ये भारत-पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मसला है. विदेश मंत्री ने लिखा कि उन्होंने माइक पोम्पियो को साफ कर दिया है कि अगर कश्मीर मुद्दे पर बात होती है तो यह भारत और पाकिस्तान के बीच का मसला है, इसलिए दोनों देशों में ही बात होगी.

बता दें कि एस. जयशंकर का ये बयान तब आया है जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कश्मीर पर मध्यस्थता की बात कही है.
इससे पहले एस. जयशंकर ने बैंकॉक में वियतनाम के विदेश मंत्री फाम बिन्ह मिन्ह से मुलाकात की थी. थाइलैंड में हो रहे इस बार आसियान शिखर सम्मेलन का थीम ‘साझेदारी और सतत विकास’ है. इसमें आम हित के आधार पर आसियान देशों के सहयोग पर जोर दिया गया है.

इस आसियान शिखर सम्मेलन के मुख्य विषयों में आसियान क्षेत्र की अर्थव्यवस्था पर चीन-अमेरिका व्यापारिक तनाव के प्रभाव, विश्व व्यापार संगठन के सुधार और प्रचार, क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते (आरसीईपी) के लिए वार्ता है. आसियान 10 प्लस 6 (आसियान 10 देशों और चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड) को बढ़ावा देना है. इसके अलावा इसमें अमेरिका के ‘इंडो-पैसिफिक रणनीति’ के प्रभाव पर भी चर्चा की जाएगी.

सूत्रों के मुताबिक, इस शिखर सम्मेलन में आसियान नेताओं की दृष्टि और आसियान सांस्कृतिक वर्ष पर आसियान नेताओं की संयुक्त घोषणा भी पारित की जाएगी. मेजबान थाईलैंड आसियान देशों से संयुक्त रूप से समुद्री कूड़े के प्रबंधन पर सहयोग हेतु दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने की वकालत भी करेगा.

Input your search keywords and press Enter.