fbpx
Now Reading:
ISRO चीफ डॉ.के.सिवन की आंखे हुई नम, PM मोदी ने ऐसे बढ़ाई हिम्मत, भावुक वीडियो
Full Article 3 minutes read

ISRO चीफ डॉ.के.सिवन की आंखे हुई नम, PM मोदी ने ऐसे बढ़ाई हिम्मत, भावुक वीडियो

चंद्रयान-2 से संपर्क टूटने के बाद शनिवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसरो मुख्यालय पहुंचे. इस दौरान इसरो चीफ डॉ के. सिवन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गले लगकर रोने लगे. इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने इसरो चीफ का हौसला बढ़ाया. ये भावुक वीडियो समाचार एजेंसी ANI के कैमरे में कैद हुआ जिसे अब देशभर के लोग देख रहे हैं. इसरो के मेहनत की सरहना भी की जा रही है.

चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने से कुछ सेकंड पहले चंद्रयान-2 से संपर्क टूट गया. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी भी इसरो मुख्यालय में मौजूद थे. इसके बाद सुबह एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाने बेंगलुरु स्थित इसरो मुख्यालय पहुंचे.एक बार फिर इसरो मुख्यालय पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए कहा कि हम निश्चित रूप से सफल होंगे. इस मिशन के अगले प्रयास में भी और इसके बाद के हर प्रयास में भी कामयाबी हमारे साथ होगी.

Related Post:  अनुराग कश्यप समेत 49 सेलिब्रिटीज ने नरेंद्र मोदी को लिखी चिट्ठी, मॉब लीचिंग के खिलाफ उठाई आवाज

पीएम ने कहा कि हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है, कुछ नए आविष्कार, नई टेक्नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती हैं. ज्ञान का अगर सबसे बड़ा शिक्षक कोई है तो वो विज्ञान है. विज्ञान में विफलता नहीं होती, केवल प्रयोग और प्रयास होते हैं.

पीएम मोदी बोले, मैं सभी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के परिवार को भी सलाम करता हूं. उनका मौन लेकिन बहुत महत्वपूर्ण समर्थन आपके साथ रहा. हम असफल हो सकते हैं, लेकिन इससे हमारे जोश और ऊर्जा में कमी नहीं आएगी. हम फिर पूरी क्षमता के साथ आगे बढ़ेंगे.

Related Post:  कश्मीर पर ट्रंप की बयानबाजी के बाद, G-7 में आज मोदी-ट्रंप मुलाकात, हो सकती ये बात 

उन्होंने कहा कि अपने वैज्ञानिकों से मैं कहना चाहता हूं कि भारत आपके साथ है. आप सब महान प्रोफेशनल हैं जिन्होंने देश की प्रगति के लिए संपूर्ण जीवन दिया और देश को मुस्कुराने और गर्व करने के कई मौके दिए. आप लोग मक्खन पर लकीर करनेवाले लोग नहीं हैं पत्थर पर लकीर करने वाले लोग हैं.

भारत के चंद्रयान-2 मिशन को शनिवार तड़के उस समय झटका लगा, जब लैंडर विक्रम से चंद्रमा के सतह से महज दो किलोमीटर पहले इसरो का संपर्क टूट गया. इसके साथ ही 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन के भविष्य पर सस्पेंस बन गया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने संपर्क टूटने का ऐलान करते हुए कहा कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी पहले तक लैंडर का काम प्लानिंग के मुताबिक था. उन्होंने कहा कि उसके बाद उसका संपर्क टूट गया.

Related Post:  चंद्रयान-2: 56.24 मिनट पहले क्यों रोक दी गई Chandrayaan-2 की लॉन्चिंग, दर्शक हुए निराश

शनिवार तड़के लगभग 1.38 बजे जब 30 किलोमीटर की ऊंचाई से 1,680 मीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से 1,471 किलोग्राम के विक्रम चंद्रमा ने सतह की ओर बढ़ना शुरू किया, तब सबकुछ ठीक था. इसरो ने एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘यह मिशन कंट्रोल सेंटर है. विक्रम लैंडर उतर रहा था और लक्ष्य से 2.1 किलोमीटर पहले तक उसका काम सामान्य था. उसके बाद लैंडर का संपर्क जमीन पर स्थित केंद्र से टूट गया. आंकड़ों का विश्लेषण किया जा रहा है.’

Input your search keywords and press Enter.