fbpx
Now Reading:
J&K: 15 अगस्त पर फिदायीन हमलों के मद्देनजर बढ़ाई जाएगी सुरक्षा, आतंकवाद के खात्मे पर नज़र
Full Article 2 minutes read

J&K: 15 अगस्त पर फिदायीन हमलों के मद्देनजर बढ़ाई जाएगी सुरक्षा, आतंकवाद के खात्मे पर नज़र

श्रीनगर: घाटी में आतंक के सफाये के लिए सरकार जम्मू कश्मीर में और 28 हजार जवानों के भेजे जाने पर विचार कर रही है. रक्षा मंत्रालय की तरफ से ये जानकारी निकल कर सामने आई है. सूत्रों के मुताबिक स्वतंत्रता दिवस के बाद जम्मू कश्मीर पर सरकार तीन बड़े फैसले लेगी. सूत्रों के मुताबिक सीआरपीएफ घाटी में कानून व्यवस्था और आंतकवाद निरोधक ऑपरेशन करेगी.
दूसरा सीआरपीएफ को घाटी में महत्वपूर्ण संस्थानो की सुरक्षा से हटाया जायेगा, इन संस्थानों की सुरक्षा बीएसएफ और अन्य सुरक्षा बल करेंगे. इसके साथ ही राज्य चुनाव में ब्लॉक चुनाव कराना भी शामिल है. इसके साथ ही सरकार ने जम्मू कश्मीर में चरणवार सुरक्षाबल बढ़ाए जाने की कवायद शुरू कर दी है.
सुप्रीम कोर्ट में 35 ए की सुनवाई के मद्देनजर सुरक्षाबलों को घाटी में भेजा जा रहा है. फिदायीन हमले की आशंका लेकर भी कश्मीर में सुरक्षा बढ़ाई गई है, जानकारी के मुताबिक कश्मीर में विकास को देखते हुए आतंकवादी फिदायीन हमले पर जोर दे सकते हैं. सरकार की योजना के मुताबिक जम्मू कश्मीर में जरूरत के हिसाब से भेजे सुरक्षाबलों को भेजा जाएगा.

कश्मीर में केंद्रीय सुरक्षा बलों की 280 कंपनियां यानी अट्ठाइस हजार जवानों की तैनाती हो रही है. बता दें कि इससे पहले दस हजार जवानों की तैनाती की खबर आई थी. खबर है कि कश्मीर में हर अहम जगह पर केंद्रीय सुरक्षा बल के जवानों की तैनाती हो रही है. श्रीनगर शहर के हर एंट्री प्वाइंट पर केंद्रीय सुरक्षाबलों के जवानों को तैनात किया गया है और स्थानीय पुलिस की तैनाती कम दिख रही है.

इससे पहले जब दस हजार जवानों की तैनाती की बात सामने आई थी तब खुफिया सूत्रों के हवाले से ये खबर आई थी कि आने वाले दिनों में आतंकवादी कश्मीर में किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक आतंकवादी 15 अगस्त और अमरनाथ यात्रा को निशाना बना सकते हैं.
Input your search keywords and press Enter.