fbpx
Now Reading:
मां की मौत के बाद घर में रखा शव, परिवार के पास नहीं थे अंतिम संस्कार के लिए पैसे
Full Article 2 minutes read

मां की मौत के बाद घर में रखा शव, परिवार के पास नहीं थे अंतिम संस्कार के लिए पैसे

पश्चिम बंगाल से एक चौंकाने वाला मामल सामने आया है. जहां मां की मौत के बाद परिवार ने शव को दो दिनों तक घर में ही रखा. मामले का खुलासा उस समय हुआ जब इलाके में बदबू फैलने पर पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी. जिसके बाद पुलिस उस कमरे में दाख़िल हुई जहां छाया चटर्जी का शव पड़ा था.

घटना कोलकाता के सर्सुना स्थित फ्लैट की है जहां मृतक छाया चटर्जी अपने पति रबींद्रनाथ और बेटी निलांजना के साथ रहती थी. लेकिन दो दिन पहले निलंजना की मां का स्वर्गवास हो गया. इसके बावजूद भी रबींद्रनाथ और निलांजना ने पड़ोसियों को इसकी खबर नहीं दी और न ही शव का अंतिम संस्कार किया. इस दौरान जब आसपास बदबू फैलने फैलने लगी तो पड़ोसियों को शक हुआ और उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी.

पड़ोसियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने अपनी जांच में पाया कि छाया की मौत दो दिन पहले हो चुकी थी. जिसकी जानकारी उनके परिवार ने अपने पड़ोसियों और रिश्तेदारों को भी नहीं दी और शव को घर में ही छिपाए रखा. लेकिन जब शव के सड़ने से बदबू फैलने लगी तो इस राज से पर्दा उठ गया. हालाकिं पड़ोसियों का कहना है कि शव घर में होने के दौरान भी उन्होंने सामान्य दिनचर्या जारी रखी.

दरअसल बीते फरवरी में इससे पहले फरवरी महीने में ही छाया के बेटे देबाशीष की मौत भी इन्ही परिस्थितियों में हुई थी. उस समय भी पड़ोसियों ने ही दुर्गंध आने पर पुलिस को कॉल करके बुलाया था. यह परिवार देबाशीष के शव के साथ दो दिन से रह रहा था. पुलिस के मुताबिकचटर्जी परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा है और हैरान करने वाली बात ये है कि उनका किचन भी काफी समय से इस्तेमाल नहीं हुआ है. तो वहीँ पड़ोसियों ने बताया कि चटर्जी परिवार का घर रबिंद्रनाथ के रिटायरमेंट बेनिफिट से चल रहा था और वे ही घर का सामान लेने बाहर जाते थे लेकिन बीते कुछ समय से वे बीमार चल रहे थे.

1 comment

  • arunesh

    […] post मां की मौत के बाद &#23… appeared first on Hindi News, हिंदी […]

Input your search keywords and press Enter.