fbpx
Now Reading:
कश्मीर को स्पेशल पैकेज का लॉलीपॉप, युवाओं को नौकरी का सपना, कितना सच है मोदी सरकार का विजन
Full Article 3 minutes read

कश्मीर को स्पेशल पैकेज का लॉलीपॉप, युवाओं को नौकरी का सपना, कितना सच है मोदी सरकार का विजन

आज केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में जम्मू-कश्मीर को लेकर विशेष पैकेज का ऐलान किया जा सकता है. ऐसे में ये सवाल उठता है कि लोकसभा चुनाव 2014 और 2019 में जो सपना देशभर के युवाओं को दिखाया गया था या जो जुमला मोदी सरकार ने सत्ता में आने से पहले दिया था क्या मोदी सरकार का कश्मीर विजन भी कुछ वैसा ही होगा ?
जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए नए राज्य को लेकर अपने विज़न को सामने रखा था, अब इसी को ज़मीन पर उतारने का काम हो रहा है. कहा तो यही जा रहा है.

अनुच्छेद 370 कमजोर हुए अब तीन हफ्ते से ज्यादा हो गया है. केंद्र सरकार अब राज्य में विकास के नए रास्ते खोलने की तैयारियां कर रही है. धीरे-धीरे घाटी से पाबंदियां हटाई जा रही हैं, इसी के साथ आज केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में जम्मू-कश्मीर को लेकर विशेष पैकेज का ऐलान किया जा सकता है.

 पैकेज का ऐलान
आज शाम चार बजे के करीब आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक होनी है. इसी बैठक में सबसे बड़ा एजेंडा जम्मू-कश्मीर के लिए स्पेशल पैकेज का ऐलान हो सकता है. बता दें कि अब जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश है, साथ ही जब तक वहां परिसीमन नहीं होता है और नई सरकार नहीं बनती है तब तक केंद्र के जिम्मे ही वहां की सभी व्यवस्थाएं रहेंगी.

पैकेज में क्या हो सकता है?
मोदी सरकार के इस पैकेज का मुख्य लक्ष्य राज्य में रोजगार के अवसर पैदा करना, ट्रेड को बढ़ावा देना, इंडस्ट्री को निवेश के लिए आमंत्रित करने के लिए हो सकता है. साथ ही राज्य में शिक्षा के अवसरों को बढ़ावा देने के लिए भी कई कदम उठाए जा सकते हैं. कश्मीरी युवाओं के लिए 50 हजार नौकरियों के ऐलान के साथ-साथ सेना और पुलिस में भी भर्ती के अवसरों को खोला जा सकता है.

यानी जमीनी तौर पर एलान का केवल पिटारा एक हौवा बनाया गया है. पुलिस भर्ती तो पहले भी हो रही थी अब इसे बस थोड़ा बढ़ा दिया गया है. अगर यही कश्मीर का विकास है तो मोदी सरकार को इस विकास के परिभाषा की समीक्षा करनी चाहिए क्योंकि सोशल मीडिया में जो प्रचार हो रहा है वो इससे इतर है और जमीनी हकीकत सरे कोसों दूर है.

1 comment

  • anilsingh

    […] post कश्मीर को स्पेश&#… appeared first on Hindi News, हिंदी […]

Input your search keywords and press Enter.