fbpx
Now Reading:
#Ayodhya Verdict :  ये है वो शख्स जिसने 29 साल अकेले राम मंदिर के पत्थर तराशे, लेकिन फैसले से 4 महीने पहले छोड़ दी दुनिया
Full Article 2 minutes read

#Ayodhya Verdict :  ये है वो शख्स जिसने 29 साल अकेले राम मंदिर के पत्थर तराशे, लेकिन फैसले से 4 महीने पहले छोड़ दी दुनिया

rajnikant-carves-stone-for-ram-temple

अयोध्या विवाद पर आज सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया. अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन रामलला और सुन्नी वक्फ बोर्ड को वैकल्पिक जगह ने की बात कही. ऐसे में हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो वर्षों से अकेले  राम मंदिर की कार्यशाला में मंदिर निर्माण के लिए पत्थरों पर नक्काशी कर रहा था, लेकिन सुप्रिम कोर्ट के फैसले से 4 महीने पहले ही इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

Related Post:  #AYODHYAVERDICT : यहां पढ़ें 1528 से लेकर आज तक अयोध्या भूमि विवाद में क्या-क्या हुआ ?

अयोध्या की राम मंदिर की कार्यशाला मेंअकेले मंदिर के पत्थरों को तराशने वाले इस शख्स का नाम था रजनीकांत सोमपुरा. बताते हैं कि कभी राम मंदिर के पत्थरों को तराशने और इनपर चित्रकारी करने के लिए 150 मजदूर रखे गए थे, जिसमें रजनीकांत भी शामिल  थे. लेकिन कोर्ट में फैसले को लेकर हो रही देरी के बीच मजदूरों ने काम भी छोड़ दिया. रजनीकांत साल 1990 में 21 साल की  आयु में अपने  ससुर अनुभाई सोनपुरा के साथ गुजरात से अयोध्या आए थे.

Related Post:  जब लखनऊ खंडपीठ ने अयोध्या मामले पर दिया था ऐतिहासिक फैसला, हाइकोर्ट ने तीन पक्षों में बांटी थी जमीन

मिली जानकारी के मुताबिक राम मंदिर निर्माण के लिए तराशे जाने वाले पत्थरों के प्रति रजनीकांत का लगाव इतना था कि कई बार ढाई फीट के पत्थर को तराशने और इसपर नक्काशी करने में उन्हें दो महीने तक लग जाते थे.  लेकिन जुलाई में रजनीकांत के निधन के बाद से ही अयोध्या में पत्थरों को तराशने का काम बंद हो गया.

रजनीकांत के ससुर अनुभाई ने बताया कि रजनीकांत आखिरी शख्स थे जिसने अपनी आखिरी सांस तक अयोध्या में मंदिर के पत्थरों को तराशने का काम किया.

Related Post:  #AYODHYAVERDICT : सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ज़फ़रयाब गिलानी ने SC के फैसले पर जताई नाराजगी, कहा- सहमत नहीं, चुनौती देंगे

एक अधिकारी के मुताबिक, 1990 के दशक में राम मंदिर कार्यशाला में 125 मजदूर काम करते थे, लेकिन बाद में यह संख्या 50 तक ही रह गई. साल 2007 में एक वक्त ऐसी स्थिति आई की कार्यशाला में पत्थरों को तराशने का काम कुछ वक्त के लिए रोकना पड़ा, हालांकि 2011 में काम दोबारा शुरू कराया गया.

Input your search keywords and press Enter.