fbpx
Now Reading:
मां ने लोगों का बर्तन साफ़ कर बेटे को पढ़ाया, राहुल घोडके को मिली ISRO में नौकरी
Full Article 3 minutes read

मां ने लोगों का बर्तन साफ़ कर बेटे को पढ़ाया, राहुल घोडके को मिली ISRO में नौकरी

मुंबई की झोपड़पट्टियों की तंग गलियों से निकल कर राहुल घोडके नाम के युवक ने देश की प्रतिष्ठित स्पेस एजेंसी इसरो तक का सफर तय किया है. राहुल घोडके ने आर्थिक तंगी को मात देते हुए इसरो में टैक्नीशियन के पद पर नौकरी हासिल की है. आज उनकी उपलब्धि पर उनकी मां फूले नहीं समा रही हैं.  

चेंबूर इलाके में मरौली चर्च स्थित नालंदा नगर की झोपड़पट्टी में 10X10 के मकान में रहने रहने वाले राहुल घोडके का जीवन बड़ी मुश्किलों में बीता है. उन्होंने तमाम मुश्किलों के बावजूद हिम्मत नहीं हारी और अपनी पढ़ाई को जारी रखा. राहुल दसवीं की परीक्षा में फस्ट डिवीजन से पास हुए. इस दौरान उनके पिता की मृत्य हो गई.

पिता के निधन से राहुल अंदर से काफी टूट गए. परिवार की सारी जिम्मेदारी राहुल के कंधों पर आ गई. पिता मजदूरी करते थे, जमा पूंजी के नाम पर कुछ भी नहीं था. इस दौरान राहुल शादियों में केटरस का काम कर घर के खर्च को उठाते थे और उनकी मां भी दूसरों के घरों में जाकर बर्तन-कपड़ा धोकर घर खर्च चलाती थीं. इस बीच राहुल ने अपनी पढ़ाई को जारी रखा.

हालांकि, पूरा ध्यान पढ़ाई पर नहीं दे पाने की वजह से राहुल 12वीं की परीक्षा में फेल हो गए. उन्होंने चेंबूर से नजदीक गोवंडी में आइटीआई कर इलेक्ट्रॉनिक कोर्स किया. पढ़ाई-खिलाई में तेज राहुल ने आईटीआई में अव्वल रहे और फस्ट डिवीजन से अपना कोर्स पूरा किया. बाद में उन्हें एल एंड टी कंपनी में नौकरी मिल गई, जिसके साथ ही उन्होंने इंजीनियरिंग में डिप्लोमा के लिए एडमिशन ले लिया.

अब राहुल पढ़ाई और काम दोनों साथ साथ करने लगे. और तो और राहुल यहां भी पहले अंक से सफल हुए. जब इसरो में डिप्लोमा इंजीनियर के पद के लिए नौकरी निकली तो राहुल ने एंट्रेंस की तैयारी की और देशभर में आरक्षित परीक्षार्थियों की श्रेणी में तीसरे और ओपन में 17वें स्थान पर आए और अब बीते 2 महीनों से राहुल इसरो में टेक्नीशियन के पद पर काम कर रहे हैं.

राहुल घोडके के इसरो में नौकरी लगने की खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई. राहुल के घर पर उन्हें बधाई देने के लिए लोगों का तांता लग गया. लोगों ने राहुल को बधाई देते हुए फूलों का गुलदस्ता दिया. उन्हें अपने हाथों से मिठाई खिलाई. इस दौरान राहुल ने भी घर आए लोगों के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया.

राहुल घोडके के घर पर जश्न जैसा माहौल है. मिठाइयां बांटी जा रही हैं. राहुल के रिश्तेदार और आस-पास पड़ोस की महिलाएं, बच्चे और पुरुष राहुल के घर पहुंचकर उन्हें और उनकी मां को बेटे की इसरो में नौकरी लगने की बधाई दे रहे हैं. राहुल की मां को अपने बेटे पर बहुत गर्व है, जिस बेटे ने आज उनके सारे परिश्रम को सफल कर दिया.

बता दें कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) आज दुनिया की सबसे भरोसेमंद स्पेस एजेंसी है. दुनियाभर के करीब 32 देश इसरो के रॉकेट से अपने उपग्रहों को लॉन्च कराते हैं. 16 फरवरी 1962 को डॉ. विक्रम साराभाई और डॉ. रामानाथन ने इंडियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च (INCOSPAR) का गठन किया.

Input your search keywords and press Enter.