fbpx
Now Reading:
सावधान : नवरात्र‍ि पर अखंड ज्‍योति जलाने पहले जाने ये नियम, वर्ना नहीं मिलेगा पूजा का फल
Full Article 2 minutes read

सावधान : नवरात्र‍ि पर अखंड ज्‍योति जलाने पहले जाने ये नियम, वर्ना नहीं मिलेगा पूजा का फल

Akhand Jyoti Durga Pooja

29 सितंबर से शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो चुकी है जो 8 अक्तूबर तक चलेगा. नवरात्र में कलश स्थापना के साथ ही अखंड ज्‍योति का भी काफी महत्व है. जानकार बताते हैं कि अखंड ज्‍योति जलने से जुड़े नियमों का पालन नहीं किया गया तो साधक को पूजा का फल नहीं मिलता.  ऐसे में अगर आप भी नवरात्र के व्रत के दौरान अखंड ज्योत जलाते हैं तो ऐसा करने से पहले उससे जुड़े कुछ नियम अवश्य जान लें. बताया जाता है कि अखंड ज्योति से जुड़े इन नियमों का पालन करने पर माता रानी भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं. तो चलिए आपको बताते हैं ज्‍योति जलाने से जुड़े नियम:-

Related Post:  गणेश चतुर्थी पर जरूर खाएं मोदक, सेहत के लिए भी फायदेमंद

ज्योतिषशास्त्र के जानकारों का कहना है कि जिस तरह घोर अंधेरे में एक छोटा-सा दीपक विपरीत परिस्थितियों में रहकर अपने आस-पास का अंधेरा दूर कर उस जगह को रोशनी से भर देता है उसी तरह माता के भक्त भी मां की आस्‍था के सहारे अपने जीवन के अंधकार को मिटा सकते हैं.


अखंड ज्योत से जुड़े नियम-

1. अखंड ज्‍योति जलाने के लिए हमेशा बड़े आकार का दीपक पूजा के लिए चुनें.  इसके लिए आप मिट्टी के दीपक का भी चुनाव कर सकते हैं. पूजा के लिए मिट्टी और पीतल के दीपक को शुद्ध माना जाता है.

Related Post:  जानिए गणेश चतुर्थी व्रत कथा और पूजन विधि

2.अखंड ज्‍योति का दीपक हमेशा किसी ऊंचे स्थान पर रखें. उसे कभी खाली जमीन पर नहीं रखना चाहिए.

3.पूजा के दीपक को जलाने से पहले उसे किसी ऊंचे स्थान जैसे पटरे या चौकी पर रखने से पहले उसमें गुलाल या रंगे हुए चावलों से अष्‍टदल बना लें.

4.नवरात्रि के दौरान व्रत रखने वाले बहुत कम ही लोग इस बात को जानते हैं कि अखंड ज्‍योति की बाती रक्षा सूत्र से बनाई जाती है. इसके लिए सवा हाथ का रक्षा सूत्र लेकर उसे बाती की तरह बनाएं और फिर दीपक के बीचों-बीच रखें.

Related Post:  ऐसे हुआ था भगवान गणेश का जन्म, तस्वीरों से जानिए पूरी कहानी

5.अखंड ज्‍योति जलाने के लिए घी ,सरसों या तिल के तेल का इस्‍तेमाल किया जा सकता है.

6.ज्‍योति जलाते समय ध्यान रखें कि अगर आप घी का दीपक जला रहे हैं तो उसे देवी मां के दाहिने तरफ,अगर दीपक तेल का है तो उसे देवी मां के बाईं तरफ रखना चाहिए.

7.ज्‍योति  जलाने से पहले गणेश भगवान, मां दुर्गा और भगवान शिव का ध्‍यान अवश्य करें.

Input your search keywords and press Enter.